विदेश में पढाई करने के लिए एक ऋण के लिए आवेदन करना चाहते हैं ? यहां बताया गया है इस बारे में जो आपको जानना चाहिए

कौन से विदेशी शिक्षा ऋणों के लिए आप आवेदन कर सकते हैं और सबसे अधिक लोकप्रिय उपलब्ध विकल्प कौन से हैं ?

विदेश में पढाई करने के लिए एक ऋण के लिए आवेदन करना चाहते हैं?

विदेशी शिक्षा का एक व्यक्ति के कैरियर और व्यक्तिगत विकास पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है | नए देश में बिताया गया समय आपकी दुनिया को देखने का नजरिया बदल सकता है और आपको विभिन्न संस्कृतियों के लिए अधिक अनुकूल बना सकता है | आपको शैक्षिक पाठ्यक्रम के लिए एक्सपोज़र भी मिलता है जो अन्यथा आप नहीं पा सकते हैं और शायद भारत से भी बेहतर कैरियर के अवसर मिल सकते हैं |

हालांकि, विदेश में पढ़ाई करना काफी खर्चीला हो सकता है | अधिकांश गुणवत्तापूर्ण शिक्षा संस्थान प्रथम विश्व राष्ट्रों (फर्स्ट वर्ल्ड नेशन) में हैं जिनके जीवनशैली के खर्चें बहुत उच्च है| आपके खर्चें केवल पाठ्यक्रम के शुल्क तक सीमित नहीं होते हैं ; और भी अधिक खर्चें होते हैं जैसे कि प्रशासनिक लागत, आवासीय खर्चे,यात्रा के खर्चे ,क्रेडिट कार्ड, रहने के खर्चे,बीमा आदि |

इन सभी खर्चों का इंतज़ाम करने के लिए आपके पास अच्छी खासी रकम होनी चाहिए| विदेश के लिए शिक्षा ऋण यह सुनिश्चित करता है कि प्रतिभाशाली विद्यार्थी फंड्स की कमी के कारण अच्छी शिक्षा से वंचित न रह जाएं|

व्यापक रूप से कहा जाये तो दो प्रकार के ऋण होते हैं |आइये देखते हैं कि वे क्या हैं :

  • सुरक्षित ऋण : जैसा कि नाम से पता चलता है , ये ऋण कोलैटरल के एवज में दिए जाते हैं| ये प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष सिक्योरिटीज के रूप में हो सकते हैं जैसे कि फिक्स्ड डिपाजिट, ज़मीन/इमारत, बीमा पालिसी आदि| सुरक्षित होने से, ये ऋण कम ब्याज दर में दिए जाते हैं| पुनर्भुगतान की शर्तें थोड़ी लचीली हो सकती है और पाठ्यक्रम के कार्यकाल में पुनर्भुगतान की आवश्यकता नहीं होती है| शिक्षा ऋण की प्रक्रिया में सिक्योरिटी से सम्बंधित दस्तावेज़ों का सत्यापन शामिल होता है | असुरक्षित विद्यार्थी ऋण के विपरीत, माता-पिता की आय इसमें कोई बड़ी निर्णायक कारक नहीं होती|
  • असुरक्षित ऋण : असुरक्षित विद्यार्थी ऋण बिना किसी कोलैटरल सिक्योरिटी के दी जाती है| इस ऋण को देकर ऋणदाता उच्च जोखिम लेते हैं| धोखे की स्थिति में, उनके पास तरल करने के लिए कोई संपत्ति (एसेट) नहीं होती जिससे वे ऋण की वसूली कर पाएं| इसीलिए,सुरक्षित विद्यार्थी ऋणों के मुकाबले असुरक्षित विद्यार्थी ऋणों की ब्याज दर अधिक होती है| इसके अलावा, कोलैटरल की अनुपस्थिति में, इस ऋण की स्वीकृति पाना अधिक मुश्किल होता है| असुरक्षित होने के कारण, इन ऋणों की पुनर्भुगतान अवधि कम होती है और जब आप विदेश में पढ़ रहे हो,तब ये पहले से ही शुरू हो गई होती है|

विद्यार्थी के शिक्षा ऋण विकल्प और विशेषताएं

कई प्रकार के विदेशी विद्यार्थी ऋणों की विशेषताएं, बाज़ार में उपलब्ध अन्य उत्पादों के आधार में भिन्न हो सकती है | आइये कुछ प्रमुख बैंकों द्वारा दी जाने वाली विद्यार्थी ऋणों के मानदंडों के बारे में जानें जैसे कि कोलैटरल, सह-गॉरंटीकर्ता, अवधि, ब्याज दर आदि |

1. भारतीय स्टेट बैंक- एस.बी.आई. वैश्विक एड-वान्टेज चुनिंदा विदेशी देशों में पढ़ने के लिए शिक्षा ऋण है| यह प्रत्यक्ष कोलैटरल सिक्योरिटीज के एवज में दी जाती है| सिक्योरिटी को माता-पिता के अलावा कोई और भी दे सकता है| इस योजना के अंतर्गत ऋण राशि, 7.5 लाख रुपये से लेकर 1.5 करोड़ तक हो सकती है| इसकी अधिकतम भुगतान अवधि 15 वर्ष है ,और पुनर्भुगतान आसान किश्तों में किया जा सकता है | वर्तमान में 9.3 % की दर से ब्याज लागू होता है ,जिसमे छात्राओं के लिए 0.5% की छूट है | पाठ्यक्रम और मोरेटोरियम (अधिस्थगन) अवधि के दौरान, साधारण ब्याज लागू होता है |

2. पंजाब नेशनल बैंक-पी.एन.बी. उड़ान ऋण उन विद्यार्थियों को दिया जाता है जो विदेशों में कोई विशिष्ट पाठ्यक्रम कर रहे हैं | पी.एन.बी. के पास विदेशी कॉलेज, यूनिवर्सिटीज और इंस्टिट्यूट की एक सूचि है जहा ये ऋण प्रदान की जाती है| 7.5 लाख रुपये तक के ऋण के लिए, कोई ठोस(प्रत्यक्ष) सिक्योरिटी या तृतीय पक्ष के गारंटी की ज़रूरत नहीं होती है| 7.5 लाख रुपये से ज्यादा के लिए, बैंक द्वारा स्वीकार्य ठोस(प्रत्यक्ष) सिक्योरिटी को कोलैटरल के रूप में जमा किया जाना चाहिए| पाठ्यक्रम अवधि के साथ एक और वर्ष की पुनर्भुगतान मोरेटोरियम अवधि होती है | इस ऋण उत्पाद के लिए ब्याज दर रेपो-सम्बंधित ऋण दर से 2% ज्यादा होती है जो कि वर्तमान में कुल 8.8% है | इसकी पुनर्भुगतान अवधि 15 वर्ष है |

3. एच.डी.एफ.सी. बैंक- इसके शिक्षा ऋण डिवीज़न ,क्रेडिला के अंतर्गत विदेश में पढ़ाई के लिए 1 लाख रुपये से विद्यार्थी ऋण शुरू होते हैं| इसकी कोई ऊपरी सीमा नहीं है परन्तु क्रेडिला अंडर-राइटिंग और ऋण की शर्तें 25 लाख के ऊपर के ऋण पर लागू होती हैं | कोलैटरल में एक घर या फ्लैट ,गैर-कृषि ज़मीन या एच.डी.एफ.सी. क्रेडिला के साथ एक फिक्स्ड डिपोसिट शामिल हो सकता है| इस ऋण के लिए माता-पिता या कोई विशिष्ट रिश्तेदार को सह-आवेदक होना चाहिए| फ्लोटिंग ब्याज दरें क्रेडिला की बेंचमार्क ऋण दर (वर्तमान में 12.3%) के साथ इसके फैलाव (स्प्रेड) पर आधारित हैं|

4. बैंक ऑफ़ बरोदा- बरोदा स्कॉलर (विद्वान्) ऋण, विदेशी तकनिकी और पेशेवर पढ़ाई के लिए दी जाती है | इसकी मोरेटोरियम अवधि पाठ्यक्रम की अवधि के अलावा एक और साल की होती है | बैंक के सूचीबद्ध संस्थानों के लिए अधिकतम ऋण 80 लाख रुपये हैं और अन्य संस्थानों के लिए 60 लाख रुपये | इसकी पुनर्भुगतान अवधि 10 से 15 वर्ष के बीच हो सकती है| 7.5 लाख से अधिक राशि के लिए ठोस (प्रत्यक्ष) सिक्योरिटी की आवश्यकता होती है | वर्तमान में बरोदा रेपो-सम्बंधित ऋण दर के आधार पर ऋण ब्याज दर 8.5 % से 9.15% के बीच हो सकती है |

5. कनारा बैंक - यह 7.5 लाख से अधिक के ऋण के लिए विदेशी शिक्षा ऋण को एम.सी.एल.आर. से 1.5% अधिक दर में प्रदान करता है | इसमें ऋण राशि के 100% बराबर के मूल्य के ठोस(प्रत्यक्ष) सिक्योरिटी की ज़रूरत होती है और अधिकतम 15 वर्ष तक इसे चुकाया जा सकता है | पाठ्यक्रम के ख़त्म होने के एक वर्ष बाद इसका पुनर्भुगतान शुरू होता है| इसमें विद्यार्थी की भावी आय दर्ज की जानी होगी और ऋण का आवेदन करते वक़्त माता-पिता या किसी पालक को सह-आवेदक होना अनिवार्य है|

ऋण और उनसे सम्बंधित ब्याज दरों की जानकारी अक्टूबर के पहले हफ्ते में जारी आंकड़ों पर आधारित है और यह समय के अनुसार परिवर्तनीय हो सकती है |

अंतिम पंक्तियाँ:

एक शिक्षा ऋण लेकर, आप भारत में कर लाभ के पात्र हो जाते हैं | इसके अलावा, आप अपनी बचत को भी सुरक्षित रख सकते हैं अगर आप उसे उच्च शिक्षा के लिए उपयोग नहीं करना चाहते हैं | पुनर्भुगतान अवधि के शुरू होने से पहले एक सुविधाजनक मोरेटोरियम अवधि होती है | इन्ही कारणों से, एक विद्यार्थी ऋण आपके शैक्षणिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए आदर्श तरीका है |

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लगाया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से सलाह प्राप्त करनी चाहिए ।




संबंधित लेख