वित्तीय नियोजन: जब आप अकेले हो बनाम किसी रिश्ते में हो

अकेले या किसी रिश्ते में होने के कारण केवल आपकी सोशल मीडिया स्टेटस या आपके सप्ताहांत की योजनाओं में बदलाव नहीं होता है; यह आपके बजट और योजना बनाने के ढंग में भी बदलाव लाता हैं।

वित्तीय नियोजन: जब आप अकेले हो बनाम किसी रिश्ते में हो

जैसा कि कुछ भी महत्वपूर्ण चीज़ के साथ होता है , वित्तीय योजना और प्राथमिकताएं बहुत चेतना-संबंधी हो सकती हैं। यह आपकी उम्र, आय के स्तर और जीवन के लक्ष्यों जैसे कई चीजों पर निर्भर करता है। एक आवश्यक पहलू है जिसे कई लोग अनदेखी करते हैं ,वह है ,उनके रिश्ते की स्टेटस । यह बहुत महत्वपूर्ण कारक है जिसे आपकी वित्तीय प्राथमिकताओं को निर्धारित करना चाहिए।

विश्वास नहीं हो रहा? आइए मिस अरोरा और श्रीमती गुप्ता के उदाहरण को देखें।

मिस अरोरा 26 वर्षीय ग्राफिक डिजाइनर हैं जो मुंबई में अकेली रहती हैं। वह अकेली है, अपने करियर पर केंद्रित है, और अगले पांच वर्षों में उनका शादी करने का कोई इरादा नहीं है। मुंबई में एक स्कूल शिक्षक श्रीमती गुप्ता, 29 वर्षीय नवविवाहित हैं। जबकि दो महिलाएं समान आयु वर्ग में हैं, समान आय वाले हैं, और एक ही शहर में रहते हैं, उनकी वित्तीय प्राथमिकताएं (यानी, उनके बजट और वित्तीय नियोजन के तरीके ) काफी अलग है।

1. घर खरीदना

मिस अरोरा एक किराए के अपार्टमेंट में रहती हैं और अभी भी एक घर के लिए डाउन पेमेंट की बचत कर रही हैं, जिसे वह 32 साल की उम्र में खरीदना चाहती हैं। करीब 30 लाख रुपये बचत के लिए छह साल की मेहनत।

दूसरी ओर, श्रीमती गुप्ता ने अपने पति के साथ, शादी के पहले साल में अपना घर खरीदा। यह संभव था क्योंकि घर के लिए डाउन पेमेंट पति-पत्नी के बीच बंट गया था। इसलिए, वे अपने स्वयं के घर के मालिक होने के पड़ाव तक जल्दी पहुँच पाए, जो अकेले करना संभव नहीं था।

2. व्यय और बजट

मिस अरोरा अकेली रहती हैं, और उन्हें केवल अपने खर्चों का ख्याल रखने की जरूरत है। इसमें रहने का खर्च और ऋण भुगतान, साथ ही खरीदारी और यात्रा जैसे विवेकाधीन खर्च शामिल हैं। वह अपनी आय को लेकर किसी के लिए जवाबदेह नहीं है, कि वह अपनी आय के साथ क्या करना चुनती है। इसलिए, जब वह बजट बनाती है, तो यह एक एकान्त गतिविधि होती है जिसमें कोई बाहरी विचार नहीं होता है।

श्रीमती गुप्ता को अपने पति के साथ एक टीम के रूप में काम करना होगा और परिवार का बजट भी तैयार करना होगा। अपने घर के ईएमआई भुगतान के अलावा, उसे अपने पति के कार ऋण,दोनों तरफ के माता-पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम, और अन्य आवर्ती खर्चों का भी हिसाब रखना पड़ेगा। विवेकाधीन खर्च के रूप में, उसे अपने पति कि ज़रूरतों को भी समझना होगा और उसका हिसाब रखना होगा। कभी-कभी, दोनों ओर से थोड़ा समझौता, उचित होगा।

3. बचत और निवेश

मिस अरोड़ा ने अभी तक रिटायरमेंट फंड शुरू नहीं किया है या फिर उन्हें इसके महत्व का एहसास नहीं है। चूँकि वह किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है, इसलिए कुछ महीने ऐसे भी होते हैं जब वह ज्यादा ही खरीदारी करने चली जाती है या बिना सोचे समझे ,सप्ताहांत की छुट्टी की योजना बनाती है,जिसमे उनकी बचत भी नहीं हो पाती हैं । चूंकि उनके पास विकल्पों पर चर्चा करने के लिए कोई नहीं है, इसलिए वह निवेश निर्णयों को टालते जाती हैं ।

श्रीमान और श्रीमती गुप्ता अपने बचत लक्ष्य पर ठीके रहने के लिए एक-दूसरे की मदद करते हैं - जब एक लड़खड़ा जाता है, तो दूसरा उन्हें उनकी प्राथमिकताओं की याद दिलाता है और उन्हें वापस राह में लेने में मदद करता है। निवेश उनकी साप्ताहिक चर्चाओं का हिस्सा होता हैं, और उन्हें विभिन्न फंडों के प्रदर्शन के विषय में और बाजार के चाल के बारे में बात करने में काफी मजा आता है। वे रणनीतिक रूप से अपने निवेश पर एक साथ निर्णय लेते हैं।

4. भविष्य की जरूरतों के लिए योजना बनाना

मिस अरोरा के लिए, घर खरीदना उनका सबसे महत्वपूर्ण भावी वित्तीय लक्ष्य है। इसके अलावा, न्यूयॉर्क शहर में उनके एक साल के प्रवास का वित्तपोषण,उनका एक और वित्तीय लक्ष्य है। दूसरी ओर, गुप्ता जल्द ही एक बच्चा पैदा करने की योजना बना रहे हैं और उन्हें अपने बच्चे की ज़रूरतों के लिए योजना बनानी शुरू करनी होगी - डिलीवरी से शिक्षा तक ।

इसके अलावा, श्रीमती गुप्ता को उम्मीद है कि इस वर्ष के अंत में वह अपना खुद का व्यवसाय शुरू करेंगी, जिसके लिए उन्हें पर्याप्त पूंजी की आवश्यकता होगी। फिर से, जोड़े की भावी जरूरतों संयुक्त रूप से होनी चाहिए और इस पर चर्चा की जानी चाहिए ताकि बाद में किसी भी अस्पष्टता या असहमति की कोई गुंजाइश न हो।

यदि आप इस रिश्ते में नए हैं या अपने साथी के साथ योजना नहीं बनाते हैं, तो यहां आपको इसे आरंभ करने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं:

5. ईमानदारी से बातचीत करें

अपने साथी के साथ पहली बात यह करे कि उन्हें बताये कि आप अपनी वित्तीय स्थिति और भविष्य के बारे में चर्चा करना चाहते हैं। उन्हें ज़बरदस्ती नहीं पकड़ा जाना चाहिए;बल्कि उन्हें बातचीत में शामिल होने के लिए तैयार रहना चाहिए। इस बारे में बात करें कि आर्थिक रूप से एक साथ योजना बनाना कितना महत्वपूर्ण है और आप इसे कितनी गंभीरता से लेना चाहते हैं।

6. समीक्षा करें कि आप कहां खड़े हैं

यदि यह पहली बार है जब आप और आपका साथी अपने परिवार के वित्त पर चर्चा करने के लिए एक साथ बैठे हैं, तो आप दोनों को समीक्षा करनी होगी कि आप एक दूसरे के आपेक्षिक कहां खड़े हैं। अपने पैसे की आदतों, अपनी वित्तीय प्रतिबद्धताओं और अपने अप्राप्य खर्चों के बारे में ईमानदार रहें। धैर्य से अपने साथी की बात सुनें और समझें कि वे क्या महसूस करते हैं।

7. एक साथ वित्तीय लक्ष्य निर्धारित करें

एक बार जब आप दोनों जान जाएं कि आप दोनों आर्थिक रूप से कहाँ खड़े है, तो तय करें कि आप कहाँ जाना चाहते हैं। वित्तीय लक्ष्य हमेशा जीवन लक्ष्यों से जुड़े होते हैं, इसलिए आपको अपने भावी लक्ष्यों और सपनों पर चर्चा करनी होगी। यह शादी के बारे में, व्यवसाय शुरू करने पर , दुनिया की यात्रा करने पर , बच्चे पैदा करने आदि के विषय में भी हो सकता है। प्रमुख लक्ष्य एक जैसा होना महत्वपूर्ण है, इस कारण आप दोनों उसके बचत के लिए समान रूप से समर्पित रहेंगे।

8. अपनी आय का कुछ प्रतिशत बचाएं

यह कदम,यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि कोई द्वेष पैदा न हो। यदि आप और आपके साथी समान वेतन कमाते हैं, तो मासिक खर्च और बचत लक्ष्यों में सामान योगदान देना, सही रास्ता होगा। लेकिन अगर आपकी आय में बड़ा अंतर है, तो अपने प्रत्येक वेतन का एक निश्चित प्रतिशत योगदान करें, मान लो,घर के ई.एम.आई. भुगतान के लिए 30%, जीवन-यापन के खर्च के लिए 15% और बचत के लिए 15% ।

परिवार के बजट की बैठकें तय करें

बजट के लिए समय-समय पर बैठकें आयोजित करना और समीक्षा करना महत्वपूर्ण है ,यह जाने के कि आप अपने वित्तीय लक्ष्यों के संदर्भ में कहां खड़े हैं। यह आपको और आपके साथी को इस बात पर चर्चा करने का अवसर देगा कि कौन सी योजना काम कर रही है और कौन सी नहीं, किसी को भी योगदान देने या बचत करने में समस्या का सामना पड़ रहा है या नहीं , या क्या भविष्य के लक्ष्यों या योजनाओं में कोई बदलाव करने की आवश्यकता है। स्थिरता प्रमुख है।

आखिरी शब्द

एक रिश्ते में होने के एवज में अकेले होने के वित्तीय फायदे एवं नुकसान हैं। लेकिन अंत में, यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आप उन्हें अपने लाभ के लिए कैसे उपयोग करते हैं। अछि बातचीत और तालमेल होने पर ही आंकड़ों में मजबूती आती है। असहमति आती-जाती रहेंगी, लेकिन धैर्य, समझ और विचार के साथ, आप इसे एक समझदार साथी के साथ इसे कर सकते हैं। यह जानने के लिए कि क्या आप और आपके साथी स्वर्ग में बनाया गया (वित्तीय) जोड़ा है, यह क्विज़ लें।




संबंधित लेख