कर्ज मुक्त होना चाहते हैं? अपना एम.सी.एल.आर. जानें!

एम.सी.एल.आर. आपके इ.एम.आई. को कैसे प्रभावित करता है, यह समझकर अपने ऋण को पुनर्वित्त या उसका पूर्व भुगतान करें।

कर्ज मुक्त होना चाहते हैं? अपना एम.सी.एल.आर. जानें!

उधार दर में संशोधन को मीडिया और उपभोक्ताओं से बहुत दिलचस्पी मिलती है, और अच्छे कारणों से। आखिरकार, वे यह निर्धारित करने में एक भूमिका निभाते हैं कि आपको ऋण ईएमआई के संदर्भ में कितनी राशि देने की आवश्यकता होगी और निवेश पर रिटर्न के मामले में आप कितना प्राप्त करेंगे।

ब्याज दर के उतार-चढ़ाव की गतिशीलता को समझने के लिए कुछ समय बिताना फायदेमंद हो सकता है, ताकि आपके आर्थिक किस्मत में कोई अड़चन न आये। इससे पहले कि आप किसी मौजूदा ऋण या इसके कुछ भाग के पुनर्भुगतान पर बैलेंस ट्रांसफर के फायदे एवं नुकसान को तोल सकें, आपको मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स लेंडिंग रेट (एम.सी.एल.आर.) की पेचीदगियों से परिचित होना चाहिए।

एम.सी.एल.आर. क्या है?

एम.सी.एल.आर. कैसे काम करता है, यह जानने के लिए बेस रेट और रेपो रेट को समझना जरूरी है। बेस रेट ब्याज की न्यूनतम दर है, जिस पर बैंकों को पैसा उधार देने के लिए अधिकृत किया जाता है। दूसरी ओर, रेपो दर, वह दर है जिस पर बैंक आर.बी.आई. से धनराशि उधार लेते हैं। ये दो कारक, लाभ कमाने के लिए बैंकों द्वारा लगाए गए ब्याज की दर को प्रभावित करते हैं।

एम.सी.एल.आर. को भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.) द्वारा अप्रैल 2016 में पेश किया गया था। इसने ब्याज दरों की गणना के मानदंड के रूप में बेस रेट को प्रतिस्थापित किया। सीधे शब्दों में कहें तो एम.सी.एल.आर. बेस रेट प्लस मार्जिन को दर्शाता है, जिस पर बैंक कर्जदारों को कर्ज देते हैं।

बैंकों द्वारा भुगतान किया गया ब्याज तब तक स्थिर रहता है जब तक कि उनके पास की जमा राशि परिपक्व न हो जाए। इससे पहले, जब आर.बी.आई. ने ब्याज दरों में कटौती की, तब बैंकों के लिए ऋण देने के खर्च तुरंत नहीं बदले। इससे बैंकों को अंतिम उपभोक्ता को दर में कटौती के लाभों को पारित करना मुश्किल हो गया।

इस स्थिति को सुधारने के लिए आर.बी.आई. ने एम.सी.एल.आर. लाया। यह चार प्रमुख कारकों को ध्यान में रखता है:मार्जिनल लागत की धनराशि, सी.आर.आर. (नकद रिज़र्व अनुपात) पर नकारात्मक वहन, परिचालन लागत और टेनोर प्रीमियम। आइए उनमें से प्रत्येक पर विस्तार से देखें।

एम.सी.एल.आर. के घटक

  • मार्जिनल लागत: यह बैंको द्वारा खर्च की गई वो राशि है जो अपने जमाकर्ताओं से बचत जुटाने के लिए ब्याज के रूप में दी जाती है; इसमें आरबीआई से उधार ली गई धनराशि (रेपो रेट ) पर दिया गया ब्याज भी शामिल है।
  • सी.आर.आर. पर नकारात्मक प्रभाव: बैंकों को आर.बी.आई. से नकदी रिज़र्व बनाए रखने की आवश्यकता होती है जिसपर ब्याज नहीं होता हैं। इनमें बैंक के लिए शून्य रिटर्न होते है।
  • परिचालन लागत: परिचालन के दौरान श्रमबल , इंफ्रास्ट्रक्चर, और प्रौद्योगिकी जैसे ओवरहेड्स को निवेश किये गए खर्चों के रूप में भी बताया जाता है।
  • टेनर प्रीमियम : बैंकों को पांच अलग-अलग कार्यकालों के लिए एमसीएलआर दरों को प्रकाशित करने के लिए कहा गया है, जिसमें 24 घंटे से कम समय से लेकर एक वर्ष तक की अवधि शामिल हैं।

एम.सी.एल.आर. आपके लिए क्या करता है?

एम.सी.एल.आर. ब्याज दरों को कहीं अधिक पारदर्शी बनाता है। जैसे-जैसे बैंक अधिक प्रतिस्पर्धी होते हैं, वे ग्राहकों को चुनने योग्य कई प्रकार के ऋण विकल्पों की पेशकश करते हैं। यह आर.बी.आई. को यह सुनिश्चित करने देता है कि उपभोक्ताओं को कम ब्याज दर का लाभ मिले।

एम.सी.एल.आर. मासिक आधार पर बदलते रहता है। इसका मतलब यह है कि ऋण के ई.एम.आई. अच्छी तरह से नियंत्रित रहती है, विशेषतः औसत उधारकर्ता की सुविधा के अंतर्गत।

एम.सी.एल.आर. कैसे काम करता है?

आर.बी.आई. चाहता है की बैंक पांच एम.सी.एल.आर. स्लैब प्रदान करें : रातभर , एक दिन, 3 महीने, 6 महीने और 1 साल । गृह ऋण के लिए, एम.सी.एल.आर. की गणना आमतौर पर छमाही या वार्षिक आधार पर की जाती है। यह संशोधित किया जाता है जब रेपो रेट द्विवार्षिक या वार्षिक आधार पर बदली जाती है। एम.सी.एल.आर. आपके व्यक्तिगत क्रेडिट स्कोर और बैंक द्वारा किए गए जोखिम मूल्यांकन से भी प्रभावित होता है।

चूंकि बैंकों और एन.बी.एफ.सी. के लिए खर्च पर ऋण प्रदान करना संभव नहीं है, इससे एम.सी.एल.आर. के पास एक और फायदेमंद घटक शामिल हो जाता है। यह संपत्ति के प्रकार, ग्राहक जोखिम प्रोफ़ाइल, रेपो रेट आदि के आधार पर बैंकों में अलग-अलग होता है।

विभिन्न बैंकों द्वारा प्रस्तावित एम.सी.एल.आर. का प्रभाव

आर.बी.आई. ने अप्रैल 2019 से अब तक पांच बार ब्याज दरों में कटौती की है। इससे नए और मौजूदा दोनों उधारकर्ताओं के लिए ऋण के ई.एम.आई. पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

यदि आप पहली बार घर खरीदने वाली महिला हैं, तो आप प्रधानमंत्री आवास योजना (पी.एम.ए.वाई. ) के तहत बैंकों द्वारा दी जाने वाली कम ब्याज दरों का लाभ उठा सकते हैं। यह प्रोत्साहन शहरी और अर्ध-शहरी दोनों क्षेत्रों में महिलाओं द्वारा घर के स्वामित्व को प्रोत्साहित करने के लिए बनाया गया है।

पुरुषों और महिलाओं के लिए ऋण पर ब्याज दरों में अंतर औसतन 0.05% है। कुछ प्रमुख बैंकों द्वारा दी जाने वाली ब्याज दरों पर एक नज़र:

1. भारतीय स्टेट बैंक:

एस.बी.आई. ने वेतनभोगी और स्व-नियोजित श्रेणियों के लिए अपनी 3-वर्षीय एम.सी.एल.आर. ब्याज दरों में 8.20% की कटौती की और 1-वर्ष की दरों को घटाकर 7.90% कर दिया। छह महीने की दर 7.85% है। इन आकर्षक फ्लोटिंग दरों के साथ गृह ऋण लेने वालों को खुश करने की उम्मीद है। संशोधित दरें 10 जनवरी, 2020 को प्रभावी हुईं। यदि आपकी वार्षिक एम.सी.एल.आर. रीसेट की तारीख आने वाली तारीख में है, तो आप तुरंत दरों में कटौती का लाभ उठा सकते हैं। दूसरों के लिए, यह कुछ समय बाद होगा जब वे मासिक खर्च में कुछ बचत देखेंगे।

2. एच.डी.एफ.सी. बैंक:

एस.बी.आई. की तरह,एच.डी.एफ.सी. बैंक ने भी घोषणा की है कि वह एम.सी.एल.आर. दरों में 15 बेसिस अंकों की कमी करेगा, जो 7 दिसंबर, 2019 से प्रभावी होगा। पिछले साल नवंबर में 8.5% की तुलना में, बैंक ने ३सालो की अवधि के लिए अपनी दरों को संशोधित कर 8.35% तक घटा दिया है। बेस रेट को 9.2% से घटाकर अब 8.85% कर दिया गया है; फलस्वरूप 1 वर्ष की एम.सी.एल.आर. 8.15% आंकी गई है, जो नवंबर में 8.3% थी। 6 महीने तक के कार्यकाल के लिए दरों को 8% तक गिरा दिया गया है। जनवरी 2020 के लिए, दरें वही हैं।

दर में कटौती का अर्थ है कि उपभोक्ता अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अधिक बचत करने में सक्षम हों।

3. आई.सी.आई.सी.आई. बैंक:

जनवरी 2020 तक, आई.सी.आई.सी.आई. बैंक ने 1 साल के लिए एम.सी.एल.आर. को 8.20%, 6 महीने के लिए 8.15% और 3 महीने के लिए 8% तक घटा दिया है। आई.सी.आई.सी.आई. के लिए बेंचमार्क दरें 8.85% थीं।

एम.सी.एल.आर. आपके मासिक बजट को नियंत्रण से बाहर जाने से रोकने में मदद कर सकता है क्योंकि ई.एम.आई. अधिक लचीले हो जाते हैं।

आखिरी शब्द

एम.सी.एल.आर. उपभोक्ताओं के लिए लोन की ई.एम.आई. को अधिक अनुमानित बनाता है, जिससे वे बैलेंस ट्रांसफर या पूर्व भुगतान पर विचार करते समय बेहतर निर्णय कर सकें। कर लाभ और ब्याज छूट की एक सरणी के साथ, उधारकर्ता लंबी अवधि में निवेश पर बेहतर रिटर्न का लाभ उठा सकते हैं।




संबंधित लेख