आय के अतिरिक्त स्रोत तैयार करने के 4 तरीके

आय के एकल स्रोत की बजाए अपनी आय के स्रोत में विविधता लाना हमेशा ही बेहतर होता है। आय के अतिरिक्त स्रोत जोड़ने के लिए आइए कुछ रणनीतियों के बारे में बात करते हैं।

Ways to create additional sources of Income

ज्यादातर महिलाओं के लिए वित्तीय रूप से जिम्मेदार और आत्‍मनिर्भर होना ही वास्‍तव में आजादी होती है। आय के एक से अधिक स्रोत होने से आप अधिक कमाई कर सकती हैं और अपनी क्षमताओं को और बेहतर बना सकती हैं। इसके अलावा, आय के विभिन्‍न स्रोत आपके जीवन में अधिक विविधता लाते हैं और आत्‍मनिर्भरता को सुनिश्चित करते हैं।

यदि आप अच्छे पैसे कमाती हैं और पर्याप्त रूप से बचत भी करती हैं, तो हो सकता है कि आय का यह एकल स्रोत आपको अपने लिए पर्याप्त लगे, लेकिन यह एक सीमा तक ठीक लग सकता है। उदाहरण के लिए, हो सकता है कि अपनी आय के स्रोत को खतरे में डालने के डर से आप मौद्रिक निर्णय लेने के बारे में न सोच रही हों। आय का एक अतिरिक्त स्रोत होने का मतलब सिर्फ यह नहीं है कि आप सिर्फ चैन से जिंदगी बिताएं, बल्कि इस अतिरिक्‍त पैसे का उपयोग आप स्वयं को सुरक्षित रखने, निवेश करने या खुद को प्रसन्‍न रखने के लिए भी कर सकती हैं!

आइए कुछ ऐसे तरीकों के बारे में जानते हैं जिसके माध्यम से आप आय के अतिरिक्‍त स्रोतों से कमाई कर सकती हैं।

आय का मुख्‍य स्रोत सबसे पहले 

आपका प्राथमिक वेतन निश्‍चित रूप से आपकी आय का मुख्य स्रोत होता है। हर कोई इसी तरह से शुरुआत करता है; वास्तव में आपका लक्ष्य आपकी प्राथमिक आय को अधिक से अधिक बढ़ाने पर होना चाहिए। जिससे कि आपके पास जल्द ही निवेश के लिए पर्याप्त नकद पैसा उपलब्‍ध हो जाए। निवेश की गई यही नकद राशि आपके लिए आय का एक अन्‍य स्रोत तैयार कर सकती है। 

अपने प्राथमिक वेतन को बढ़ाने के लिए, जरूरी है कि आप जितना हो सके उतनी अधिक सैलरी वाली जॉब चुनें। इसके साथ ही अपनी सैलरी बढ़ाने के लिए कहें! आपके लिए यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि आपका वेतन आपकी क्षमताओं और अनुभव वाले किसी दूसरे व्यक्ति के जितना है या नहीं। अपनी क्षमता के साथ पूर्ण न्याय करने का एक तरीका यह भी है कि एक ऐसी कंपनी को जॉइन करें जो न केवल आपको अधिक प्रतिस्पर्धी वेतन प्रदान करे, साथ ही वेतन हमेशा समय पर देती हो। 

ऐसी नौकरी तलाशने की कोशिश करें जो आपको दूसरे अन्‍य काम करने और आय के अतिरिक्त स्रोत पैदा करने के लिए पर्याप्त समय देती हो। आदर्श रूप से, आपका प्राथमिक वेतन आपके सभी खर्चों को पूरा करने के लिए पर्याप्त होना चाहिए। लेकिन आप पर काम का बोझ उतना अधिक भी न हो कि आप आय के दूसरे स्रोतों पर काम करने के लिए समय ही न निकाल पाएं। आपके महत्‍वपूर्ण खर्चों को पूरा करने के लिए हेल्‍थ इंश्‍योरेंस जैसे लाभ आपकी प्राथमिक नौकरी के साथ जरूर मिलने चाहिए। नौकरी चुनते समय आपको इन लाभों के बारे में जरूर सोचना चाहिए। 

यदि आपकी आय, आपके खर्च और बचत सही स्थिति में हैं, तो आप अपने सुकून और आत्मविश्वास के लिए आय के अतिरिक्त स्रोतों की तलाश भी शुरू कर सकती हैं। अधिक कमाई करने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं:

1. एफिलिएट मार्केटिंग 

एफिलिएट मार्केटिंग कमीशन से कमाई का एक जरिया है, जिसके तहत आप किसी कंपनी और उद्यम के साथ जुड़कर उनके प्रोडक्‍ट की बिक्री करते हैं। इसमें आपके समय और पूरी प्रतिबद्धता की जरूरत होती है। मान लीजिए, आपके पास अपनी टेक वेबसाइट है और एक एंटीवायरस कंपनी के साथ एक एफिलिएट मार्केटर के रूप में जुड़ते हैं। एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का प्रचार करते हुए आपको भी अच्‍छी कमाई करनी चाहिए। खासतौर पर तब, जब आपकी वेबसाइट के पास बड़ी संख्‍या में विजिटर हों या फिर आपके पास ढेर सारे ईमेल सब्‍सक्राइबर हों।

इसी प्रकार, मान लीजिए आपका ‘ब्‍यूटी टिप्‍स’ पर एक ब्‍लॉग हो, तो आप पैसे लेकर किसी ब्रांड का प्रचार कर सकती हैं। यहां एकमात्र शर्त यह है कि आप वेबसाइट के ट्रैफिक, ईमेल सेल्‍स, या सोशल मीडिया के माध्यम से अपने से जुड़े ब्रांड की सेल्‍स बढ़ाने में सक्षम हों। सोच कर देखें कि यह सब आपके लिए है या नहीं!

2. फ्रीलांस वर्क 

फ्रीलांस वर्क उनके लिए उपयुक्त विकल्प है जो फुल टाइम या पार्ट टाइम नौकरी करते हुए अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहती हैं। यहां बहुत से फ्रीलांस काम मौजूद है जो आप कर सकती है। उदाहरण के लिए, आप अपना खुद का ग्राफिक या वेब डिजाइन बिजनेस शुरू कर सकती हैं। इसके अलावा आप कंटेंट राइटिंग से जुड़ी सर्विस प्रदान कर सकती हैं। यह आपको किसी खास क्षेत्र में अपनी प्रतिभा को तराशने का मौका देता है, साथ ही यह आपकी प्राथमिक नौकरी के साथ आय का एक अच्‍छा स्रोत भी हो सकता है।

3. निवेश

आप सिस्‍टेमेटिक इंवेस्‍टमेंट प्‍लान (एसआईपी) में हर महीने एक छोटी सी राशि निवेश कर इसकी शुरुआत कर सकती हैं। मान लीजिए, आप 500 रुपए या 1000 रुपए ही एसआईपी के जरिए म्‍यूचुअल फंड में निवेश कर सकती हैं। यहां जरूरी बात यह है कि इसमें कोई लॉक-इन-अवधि नहीं होती है। जिसके चलते यह निवेश और भी सुविधाजनक हो जाता है। यहां दूसरे विकल्‍प भी हैं, जैसे स्‍टॉक, बॉण्‍ड, ईएलएसएस इत्‍यादि। यह आपकी निष्क्रिय आय पर अधिक कमाई करने का एक शानदार तरीका है। यदि आपको वित्तीय मामलों की ज्‍यादा समझ नहीं है तो आप एक वित्तीय सलाहकार रखने पर भी विचार कर सकती हैं। 

4. रियल एस्‍टेट 

जब आप रियल एस्‍टेट में निवेश करें, उससे पहले आपके पास कैश या कर्ज के रूप में पूंजी अवश्‍य होनी चाहिए। आप एक प्रॉपर्टी खरीद सकती हैं और बाद में उसे किराए पर दे सकती हैं। इससे आप एक अच्‍छी रेंटल आय प्राप्‍त कर सकती हैं। हालांकि, रियल एस्‍टेट में निवेश से पहले आपको कुछ सावधानी बरतने और नियमों का ध्‍यान रखने की आवश्यकता होती है। रेंटल इनकम आपकी आय का एक निष्क्रिय स्रोत होती है। यहां जरूरत सिर्फ इस बात की है कि आप रियल एस्‍टेट क्षेत्र में बाजार की परिस्थितियों और बदलावों के बारे में अवगत हो। 

निष्‍कर्ष 

वित्तीय स्वतंत्रता की राह पर चलने के लिए निष्क्रिय आय पैदा करना आपका पहला प्रयास होना चाहिए। पैसा कमाने के कई और भी रास्ते हैं जिन पर आपको अधिक ध्यान देने और कड़ी मेहनत करने की जरूरत है। आप यदि झटका खाती भी हैं फिर भी इसके वित्‍तीय परिणाम सुखद हो सकते हैं। मुख्‍य बात यही है कि आप इस तरह के अतिरिक्त स्रोतों की पहचान करती रहें। जब आप उस प्‍लान के साथ सहज हों तभी निवेश करें। इस तरह आप स्‍वयं एवं अपने परिवार के लिए एक सुरक्षित वित्‍तीय भविष्‍य सुनिश्चित कर सकती हैं। 

यहां संक्षेप में अहम बात यह है कि, आप अपनी आय के स्रोत में विविधता लाएं। इसके लिए आप एक से अधिक अतिरिक्‍त आय के स्रोतों को चुनें और फिर देखें किस प्रकार आपकी आय कई गुना बढ़ती है!

संबंधित लेख