Decrease in growth rate of Demat accounts: आखिर क्यों घट रही है डीमैट खातों की बढ़ती हुई गति?

डीमैट खातों की संख्या वृद्धि में आ रहा है ठहराव, आखिर क्यों?

क्यों घट रही है डीमैट खातों की रफ्तार

Decrease in growth rate of Demat accounts: हाल के कुछ महीनों में डीमैट खातों की संख्या लगातार बढ़ी है हालांकि, डीमैट खातों की संख्या अब भी बढ़ रही है, पर एक विश्लेषण में पाया गया है कि इनके बढ़ने की गति अब पहले की अपेक्षा कम होती जा रही है।  

पिछले साल से शेयर बाजार के निवेशकों में डीमैट खातों के माध्यम से निवेश करने वालों की संख्या बढ़ी है। अक्टूबर 2022 में डीमैट खातों के माध्यम से 2021 के अक्टूबर की अपेक्षा 41 प्रतिशत बढ़ी है। शेयर बाजारों से होने वाले मुनाफ़े की वजह से इस महीने डीमैट खातों की संख्या करीब 10.4 करोड़ हो चुकी है। पिछले महीनों में इन खातों की संख्या में क्रमशः बढ़ोत्तरी देखी गई। मोतीलाल ओसवाल द्वारा किए गये एक विश्लेषण से जानकारी मिली कि इस वर्ष अगस्त से ही खातों के बढ़ने की गति ठहर सी गई है।

अगस्त में 26 लाख नए डीमैट खाते खोले गए थे, जबकि सितंबर में 20 लाख तथा अक्टूबर 2022 में 18 लाख डीमैट खाते खोले गए। अक्टूबर, 2021 में डीमैट खातों में 36 लाख तक की बढ़ोत्तरी हुई थी। आनंद राठी शेयर्स एवं स्टॉक ब्रोकर्स में मुख्य कार्यकारी अधिकारी (निवेश सेवाएं) रूप भूतरा ने बताया कि नए डीमैट खाते खोले जाने की दर में कमी की मुख्य वजह यह है कि इस साल कई वैश्विक कारकों से शेयर बाजार काफी अस्थिर रहा है और व्यापक बाजारों का प्रदर्शन अपेक्षाकृत रूप से कमजोर रहा है।

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

क्यों घट रही है डीमैट खातों की रफ्तार?

आनंद राठी शेयर्स एवं स्टॉक ब्रोकर्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने बताया कि उपरोक्त कारणों के अलावा इस वर्ष बाजार में आने वाले आईपीओ की संख्या भी 2021 की अपेक्षा कम रही है और यह भी पिछले कुछ महीनों में नए डीमैट खाते की संख्या के कम बढ़ने का एक कारण है। मोतीलाल ओसवाल में समूह के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (शोध-बैंकिंग तथा बीमा, संस्थागत इक्विटी) नितिन अग्रवाल का कहना है कि रूस और यूक्रेन संघर्ष की वजह से बाजार और भी अस्थिर हो गया है इसलिए जनवरी से नए डीमैट खाते खुलने की संख्या कम हुई है। सितंबर में कार्य-दिवसों की संख्या 22 थी, जबकि त्योहारों के कारण अक्टूबर में 18 कार्य-दिवस थे। कार्य-दिवस कम होने की वजह से भी नए खाते कम खोले गये। 2022 के अक्टूबर में डीमैट खातों की संख्या 10.4 करोड़ हो गई है जो पिछले वर्ष के 7.4 करोड़ खातों की तुलना में 41 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्शाता है। कारण जो भी हों पर नये डीमैट खाते खोले जाने की गति में आई कमी स्पष्ट दिख रही है। उम्मीद की जा सकती है कि आने वाले समय मे इसमें सुधार हों। 

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Decrease in growth rate of Demat accounts: हाल के कुछ महीनों में डीमैट खातों की संख्या लगातार बढ़ी है हालांकि, डीमैट खातों की संख्या अब भी बढ़ रही है, पर एक विश्लेषण में पाया गया है कि इनके बढ़ने की गति अब पहले की अपेक्षा कम होती जा रही है।  

पिछले साल से शेयर बाजार के निवेशकों में डीमैट खातों के माध्यम से निवेश करने वालों की संख्या बढ़ी है। अक्टूबर 2022 में डीमैट खातों के माध्यम से 2021 के अक्टूबर की अपेक्षा 41 प्रतिशत बढ़ी है। शेयर बाजारों से होने वाले मुनाफ़े की वजह से इस महीने डीमैट खातों की संख्या करीब 10.4 करोड़ हो चुकी है। पिछले महीनों में इन खातों की संख्या में क्रमशः बढ़ोत्तरी देखी गई। मोतीलाल ओसवाल द्वारा किए गये एक विश्लेषण से जानकारी मिली कि इस वर्ष अगस्त से ही खातों के बढ़ने की गति ठहर सी गई है।

अगस्त में 26 लाख नए डीमैट खाते खोले गए थे, जबकि सितंबर में 20 लाख तथा अक्टूबर 2022 में 18 लाख डीमैट खाते खोले गए। अक्टूबर, 2021 में डीमैट खातों में 36 लाख तक की बढ़ोत्तरी हुई थी। आनंद राठी शेयर्स एवं स्टॉक ब्रोकर्स में मुख्य कार्यकारी अधिकारी (निवेश सेवाएं) रूप भूतरा ने बताया कि नए डीमैट खाते खोले जाने की दर में कमी की मुख्य वजह यह है कि इस साल कई वैश्विक कारकों से शेयर बाजार काफी अस्थिर रहा है और व्यापक बाजारों का प्रदर्शन अपेक्षाकृत रूप से कमजोर रहा है।

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

क्यों घट रही है डीमैट खातों की रफ्तार?

आनंद राठी शेयर्स एवं स्टॉक ब्रोकर्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने बताया कि उपरोक्त कारणों के अलावा इस वर्ष बाजार में आने वाले आईपीओ की संख्या भी 2021 की अपेक्षा कम रही है और यह भी पिछले कुछ महीनों में नए डीमैट खाते की संख्या के कम बढ़ने का एक कारण है। मोतीलाल ओसवाल में समूह के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (शोध-बैंकिंग तथा बीमा, संस्थागत इक्विटी) नितिन अग्रवाल का कहना है कि रूस और यूक्रेन संघर्ष की वजह से बाजार और भी अस्थिर हो गया है इसलिए जनवरी से नए डीमैट खाते खुलने की संख्या कम हुई है। सितंबर में कार्य-दिवसों की संख्या 22 थी, जबकि त्योहारों के कारण अक्टूबर में 18 कार्य-दिवस थे। कार्य-दिवस कम होने की वजह से भी नए खाते कम खोले गये। 2022 के अक्टूबर में डीमैट खातों की संख्या 10.4 करोड़ हो गई है जो पिछले वर्ष के 7.4 करोड़ खातों की तुलना में 41 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्शाता है। कारण जो भी हों पर नये डीमैट खाते खोले जाने की गति में आई कमी स्पष्ट दिख रही है। उम्मीद की जा सकती है कि आने वाले समय मे इसमें सुधार हों। 

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख