यहां भारतीय रुपए के मूल्य में होने वाले उतार-चढ़ाव के कारण दिए गए है

यदि आपने कभी सोचा है कि भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले क्यों कमज़ोर रहता है, तो यहां आपके लिए आवश्यक जानकारी दी गई है।

 यहां भारतीय रुपए के मूल्य में होने वाले उतार-चढ़ाव के कारण दिए गए है

हर चीज की एक कीमत होती है - आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन और आपके द्वारा खरीदे गए कपड़ों से लेकर आप जिस घर में रहते हैं और जिस कार से आप ड्राइव करते हैं। कुछ भी जो उपयोगिता का कोई रूप होता है और बहुत सारे लोगों द्वारा वांछित होता है, इसकी कीमत आवश्य ही होती है। चूंकि आप इन वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए पैसे का उपयोग करते हैं, इसलिए आप आम तौर पर पैसे को एक उत्पाद के रूप में नहीं मानते होंगे जिसकी भी कीमत होती है।

हालांकि, जिस मिनट आप भारतीय मुद्रा को विदेशी मुद्रा बाजार के वैश्विक परिदृश्य में देखते हैं, आपका दृष्टिकोण बदल जाएगा। भारतीय रुपये से लेकर अमेरिकी डॉलर तक सभी मुद्राओं की एक कीमत होती है, जिसे अधिक उचित रूप से विदेशी मुद्रा दर के रूप में जाना जाता है। विनिमय दर मूल रूप से एक देश की मुद्रा की कीमत है जिसे किसी अन्य देश की मुद्रा के संदर्भ में मापा जाता है। उदाहरण के लिए, एक अमेरिकी डॉलर खरीदने के लिए जितने भारतीय रुपए लगते हैं, यह ही दोनों मुद्राओं के बीच का विनिमय दर है।

यह विनिमय दर लगातार बदलते रहता है क्योंकि अधिकांश देश एक लचीली विनिमय दर प्रणाली का पालन करते हैं जहां मांग और आपूर्ति के मुक्त बाजार बल ,विनिमय दर का निर्धारण करते हैं। इसलिए, जो भी कारक मुद्रा की मांग और आपूर्ति को प्रभावित करता है, वह इसकी विदेशी मुद्रा दर को भी प्रभावित करता है।

यहां सबसे आम कारण दिए गए हैं जिससे किसी देश की मुद्रा के मूल्य में उतार-चढ़ाव हो सकता है:

1. मुद्रास्फीति की दर

आमतौर पर, किसी देश में मुद्रास्फीति की दर जितनी कम होती है, उसका मुद्रा मूल्य उतना ही अधिक होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसकी क्रय शक्ति में बढ़ जाती है उन देशो के मुकाबले जहां मुद्रास्फीति की दर अधिक होती है। इसका मतलब है कि कम-मुद्रास्फीति वाले देश की मुद्रा से खरीदी गई किसी विशेष उत्पाद या सेवा की एक इकाई को उच्च-मुद्रास्फीति वाले देश की मुद्रा की एक इकाई से अधिक ख़रीदा जा सकता है।

2. ब्याज दरों में अंतर

ब्याज दरें एक तरीका है जिससे देश के केंद्रीय बैंक विदेशी विनिमय दर को प्रभावित करते हैं - ब्याज दरें, मुद्रास्फीति, और विदेशी विनिमय दरें सभी सहसंबद्ध हैं। जब किसी देश की ब्याज दर बढ़ती है, तो यह विदेशी पूंजी को आकर्षित करता है क्योंकि उधारदाताओं को अन्य देशों के सापेक्ष उच्च रिटर्न मिलता है जहां ब्याज दर कम होती है। इसके कारण विदेशी विनिमय दर भी बढ़ती है।

3. पब्लिक डेब्ट की राशि

पब्लिक डेब्ट सरकारी धन का एक अनिवार्य स्रोत है और देश के आर्थिक विकास और उन्नति के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की परियोजनाओं को वित्त देने में मदद करता है। हालांकि, पब्लिक डेब्ट की उच्च मात्रा का विदेशी मुद्रा दर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। बहुत अधिक पब्लिक डेब्ट वाले देश विदेशी निवेशकों के लिए बहुत आकर्षक नहीं होते हैं और इससे उच्च मुद्रास्फीति दर हो सकती है।

4. चालू खाता नुकसान

जब कोई देश कुछ सामान और सेवाओं के निर्यात से उसके आयात करने पर अधिक खर्च करता है, तो व्यापार के संतुलन के चालू खाते में घाटा होता है। ऐसे मामले में, देश को अपने विदेशी भुगतान और इस घाटे को पूरा करने के लिए विदेशी पूंजी उधार लेने की आवश्यकता होगी। विदेशी मुद्रा की यह अतिरिक्त मांग, घरेलू मुद्रा के मूल्य को कम करती है और विदेशी विनिमय दर को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है।

5. राजनीतिक और आर्थिक स्थिरता

यदि कोई देश राजनीतिक रूप से अस्थिर है और बहुत अधिक संघर्ष और उथल-पुथल का सामना करता है, तो विदेशी निवेशक इसमें निवेश नहीं करेंगे क्योंकि यह आर्थिक अस्थिरता में बदल जाता है। विदेशी पूंजी की कम मात्रा के परिणामस्वरूप कम मुद्रा मूल्य और लगातार मुद्रा में उतार-चढ़ाव होगा।

व्यापार की शर्तें, अटकलें, मंदी, आदि कुछ अन्य कारक हैं जो मुद्रा में उतार-चढ़ाव का कारण बनते हैं। अंत में, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि ये सभी कारक आपस में जुड़े हुए हैं; भारत या किसी अन्य देश में मुद्रा मूल्य निर्धारित करने वाला कोई एक ही कारक नहीं है।




संबंधित लेख