भारत में पूंजीगत लाभ को समझने के लिए आपका मार्गदर्शक [भाग २]

यदि आप ग्रामीण इलाकों में कृषि भूमि के मालिक हैं, तो आप इसे बेच सकते हैं और इस पर पूंजीगत लाभ कर नहीं लगाया जा सकता है।

भारत में पूंजीगत लाभ को समझने के लिए आपका मार्गदर्शक [भाग २]

इस लेख के भाग 1 में, हमने इस बारे में बात की कि कैसे आप कैम्स सेवा निधि द्वारा वर्तमान और पिछले वित्तीय वर्षों के लिए संयुक्त साधित विवरण अपलोड कर सकते हैं। भाग 2 में, हम कार्वी द्वारा सेवित फोलियो के बारे में बात करेंगे।

कार्वी से संयुक्त साधित विवरण प्राप्त करने के लिए, आप उनके समेकित खाते का विवरण ऑनलाइन देख सकते हैं और पैन के साथ अपने पंजीकृत ईमेल पते डालकर और एक पासवर्ड के साथ दस्तावेज़ को स्व-सुरक्षित रख सकते हैं।

कैम्स प्रक्रिया के समान, आपको खाता खोलने और देखने के लिए पासवर्ड प्रदान करना आवश्यक है। आप सीधे पासवर्ड संरक्षित स्टेटमेंट का अनुरोध कर सकते हैं जो आपके ईमेल पते पर पहुंच जाएगा।

आपको सही स्टेटमेंट प्रकार का चयन करना होगा - एक विस्तृत स्टेटमेंट आपको लेनदेन की सूची प्रदान करेगा, और सारांश केवल चयनित तिथि के अनुसार शेष राशि बताता है।

एल.टी.सी.जी. छूट

लंबी अवधि की पूंजीगत परिसंपत्तियों की बिक्री में आमतौर पर बड़े लाभ होते हैं, लेकिन आखिर में दीर्घकालिक लाभ पर कर भी बड़ी मात्रा में होते हैं ।

हालांकि, सरकार ने छूट का दावा करने का विकल्प प्रदान किया है यदि आप लाभों को कुछ निर्दिष्ट रूपों में फिर से निवेशित करते हैं। आयकर अधिनियम में धारा 54 के विभिन्न उपखंडों के तहत इसकी अनुमति दी गई है। हमने भाग 1 में इस मुद्दे को छुआ है, लेकिन हम आगे इस पर अधिक विस्तृत नज़र डालेंगे |

आयकर अधिनियम की कुछ धाराओं के तहत, हम अचल संपत्ति से दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर कर बचा सकते हैं। इसके कई तरीके हैं:

  • खरीदें या एक आवासीय घर का निर्माण करें

यहां फिर से, कर बचाने के दो तरीके हैं, दोनों में घर खरीदना शामिल है। पहले मामले में, पूंजीगत लाभ दूसरे घर की बिक्री से है। दूसरे मामले में, आवासीय के अलावा किसी भी दीर्घकालिक संपत्ति की बिक्री शामिल है।

आयकर अधिनियम की धारा 54 किसी आवासीय संपत्ति की बिक्री से उत्पन्न होने वाले पूंजीगत लाभ से खरीदी अन्य आवासीय संपत्ति की खरीद पर छूट की अनुमति देता है। मूल रूप से, यह एक और संपत्ति में पुनर्निवेश कर रहा है, जहां पुरानी संपत्ति आवासीय संपत्ति है, और नई संपत्ति भी आवासीय संपत्ति है।

यदि दोनों परिदृश्यों में या दोनों में से किसी एक में भी लाभ का निवेश किया जाता है तो यह छूट की राशि एक ही होगी

  • संबंधित संपत्ति के हस्तांतरण की तारीख के बाद एक से दो साल के अंदर एक आवासीय घर खरीदने पर ।
  • हस्तांतरण की तारीख के तीन साल के भीतर आवासीय संपत्ति का निर्माण।

इसी तरह, धारा 54 एफ एक आवासीय संपत्ति के अलावा किसी भी दीर्घकालिक संपत्ति की बिक्री पर पूंजीगत लाभ पर छूट प्रदान करता है, अगर पूरे लाभ को आवासीय संपत्ति में पुनर्निवेश किया जाता है। स्थितियाँ ऊपर जैसी ही होंगी।

  • पूंजीगत लाभ के बॉन्ड

यदि पुनर्निवेश विशिष्ट बॉन्ड में हो तो पूंजीगत लाभ कर पर बचत का दूसरा व्यापक कारण होगा ।

यदि ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आर.ई.सी.), भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एन.एच.ए.आई.), पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (पी.एफ.सी.) और भारतीय रेलवे फाइनेंस कॉर्प (आई.आर.एफ.सी.) के बॉन्ड में राशि का निवेश किया जाता है, तो धारा 54ई.सी. एल.टी.सी.जी. कर पर छूट प्रदान करता है।

संपत्ति की बिक्री के छह महीने के भीतर निवेश किया जाना चाहिए, और आप इन बांडों में 50 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं, जिनके तीन साल के कार्यकाल हैं। हालाँकि, इन बॉन्डों पर अर्जित ब्याज का 5.75% कर -मुक्त नहीं है।

  • पूंजीगत लाभ खाता योजना

पूंजीगत लाभ पर बचत करने का यह एक अस्थायी तरीका है। यह आपको तीन साल का समय अवधि प्रदान करता है जब तक आप यह पता नहीं लगाते कि आप अपने पूंजीगत लाभ को कैसे बढ़ा सकते हैं।

यह अवधि महत्वपूर्ण है क्योंकि यद्यपि धारा 54 और इसके उप-खंड आपको आवासीय संपत्ति प्राप्त करने के लिए तीन साल तक की अनुमति देते हैं, लेकिन परिसंपत्ति की बिक्री से आपकी आय उसी वर्ष कर योग्य हो जाती है जिस वर्ष यह बेची गई हो। इसका मतलब है कि आपको पूंजीगत लाभ को फिर से कैसे निवेश करना है, इस पर फैसला लेना है।

इसके अलावा, यह संभव हो सकता है कि किसी कारण से, आप नई संपत्ति पर अधिकार प्राप्त करने में सक्षम नहीं हुए हैं, या उस वर्ष के लिए अपने रिटर्न दाखिल करने की नियत तारीख से पहले इसका निर्माण पूरा करने का प्रबंधन नहीं कर सके।

यदि ऐसा है, तो आप हमेशा किसी अधिकृत बैंक के साथ पूंजीगत लाभ खाते में निवेश की जाने वाली राशि जमा कर सकते हैं - आमतौर पर, ज्यादातर पी.एस.यू. बैंक इस योजना की पेशकश करते हैं। जमा राशि छूट की पात्र होगी ,ऐसा मानकर की जैसे इसका उपयोग तीन साल की अवधि के लिए एक नए आवासीय घर की संपत्ति की खरीद या निर्माण के लिए किया गया हो।

हालाँकि, यदि जमा की गई कोई भी राशि हस्तांतरण की तारीख से तीन साल के अंत में अप्रयुक्त रहती है, तो उस पर कर लगेगा।

खेती की जमीन

जहां तक ​​कृषि भूमि का सवाल है, अगर संपत्ति ग्रामीण क्षेत्र में है, तो यह आयकर अधिनियम की धारा 2 (14) के तहत पूंजीगत संपत्ति के दायरे से बाहर है। इसका मतलब यह है कि ऐसी भूमि की बिक्री से आपको जो भी लाभ होता है वह कर योग्य नहीं है।

हालाँकि, यदि विचाराधीन भूमि शहरी क्षेत्र में स्थित है, तो आप निम्नलिखित स्थितियों से संतुष्ट होने पर छूट का दावा कर सकते हैं:

  • बिक्री की तारीख से पहले दो साल में ,कृषि प्रयोजन के लिए करदाता या उसके माता-पिता द्वारा भूमि की खेती या उसका उपयोग किया जाना चाहिए।
  • करदाता ने मूल भूमि की बिक्री की तारीख से दो साल के भीतर ,कृषि भूमि के दूसरे भूखंड की खरीद के लिए दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ का निवेश किया है।
  • यदि आयकर रिटर्न भरने की नियत तारीख तक जमीन नहीं खरीदी जाती है, तो पूंजीगत लाभ को निर्दिष्ट बैंकों के पूंजीगत लाभ खाते में जमा करना होगा।
  • पूंजीगत लाभ खाते में जमा धन का उपयोग कृषि भूमि की खरीद के लिए दो साल की मूल अवधि के भीतर किया जाता है।

शहरी कृषि भूमि की बिक्री से प्राप्त होने वाली लाभों को अन्य शर्तो के तहत छूट प्राप्त है। यदि किसी सरकारी परियोजना जैसे हवाई अड्डे के लिए मुआवजा प्राप्त किय गए लाभ हैं तो आयकर अधिनियम की धारा 10 (37) के तहत उन्हें छूट दी गई है।

पूंजीगत लाभ में भी छूट दी गई है यदि आपके व्यवसाय को ऐसी भूमि खरीदने और बेचने की आवश्यकता है, यानी यदि कृषि भूमि आपके स्टॉक-इन-ट्रेड है ।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  • क्या अल्पकालिक पूंजी एसेट बिक्री से अर्जित लाभ की गणना से इंडेक्सेशन का लाभ उपलब्ध है?

इंडेक्सेशन केवल लंबी अवधि के लिए रखी गई संपत्तियों पर लागू होता है, क्योंकि महंगाई को कोई महत्त्व दिए बिना ,केवल बिक्री मूल्य से खरीद मूल्य को कम करके लाभ का निर्धारण करना अनुचित होगा।

  • क्या वे सभी संपत्तियों जिन्हे 36 महीने से कम समय के लिए रखा गया है, उन्हें अल्पावधि माना जाता है और 36 से अधिक महीनों के लिए रखी गई संपत्ति दीर्घावधि की पूंजीगत संपत्ति मानी जाती है?

अलग-अलग संपत्तियों में अलग-अलग अवधियों को अल्पकालिक और दीर्घकालिक कहा जाता है। नीचे एक त्वरित अनुमान लगाने वाला गणक है:

  • अचल संपत्ति: अल्पावधि यदि 24 महीने से कम हो, यदि ज्यादा हो तो दीर्घावधि।
  • सूचीबद्ध इक्विटी शेयर: अल्पावधि यदि 12 महीने से कम हो, यदि ज्यादा हो तो लंबी अवधि के लिए।
  • असूचीबद्ध इक्विटी शेयर: अल्पावधि यदि 24 महीने से कम हो, यदि ज्यादा हो तो लंबी अवधि के लिए।
  • इक्विटी म्यूचुअल फंड: अल्पावधि यदि 12 महीने से कम हो, यदि ज्यादा हो तो लंबी अवधि के लिए।
  • डेब्ट म्यूचुअल फंड: अल्पावधि यदि 36 महीने से कम हो, यदि ज्यादा हो तो लंबी अवधि के लिए।
  • अन्य एसेट्स: अल्पावधि यदि 36 महीने से कम हो,यदि ज्यादा हो तो लंबी अवधि के लिए।

क्या भारत में संपत्ति की बिक्री पर किए गए लाभ पर एक एन.आर.आई. को कर का भुगतान करना चाहिए?

भारत में बेची गई संपत्ति आमतौर पर एक कर कटौती के अधीन होती है, जो इस मामले में एन.आर.आई. की आय पर लागू दर पर होगी। लाभ पर करों में कटौती की जानी चाहिए न की बिक्री आय पर । एक न्यायिक मूल्यांकन अधिकारी लाभ का निर्धारण करेगा।

  • क्या मैं किसी अन्य आय को अपनी अल्पकालिक पूंजी हानि की वजह बना सकता हूं?

पूंजीगत नुकसान को केवल पूंजीगत लाभ के खिलाफ ही निर्धारित किया जा सकता है। इसलिए किसी भी आय के कारण अल्पकालिक नुकसान निर्धारित किया जा सकता है, चाहे वह अल्पकालिक या दीर्घकालिक हो। लेकिन लंबी अवधि के पूंजीगत नुकसान को केवल दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के खिलाफ ही निर्धारित किया जा सकता है।

  • गृह संपत्ति की बिक्री पर दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर कर की दर क्या है?

प्राप्त लाभ पर 20% की सीधी दर।

इन पर एक नज़र डालें कि कैसे करदाता उच्च कर कटौती सीमा के साथ राहत की सांस ले सकते हैं।




संबंधित लेख