अपना गोल्ड बेचते समय इन 5 सुझावों को ध्यान में रखें

अपनी गोल्ड ज्वेलरी को बेचने की योजना बनाने से पहले, इस बात का ध्यान रखें कि यादों की विरासत के वनिस्पत अच्छी कीमत मिले।

अपना गोल्ड बेचते समय इन 5 सुझावों को ध्यान में रखें

एक महंगी संपत्ति होने के अलावा, गोल्ड हमारे देश में शुभ माना जाता है और इसकी प्राय: इसकी भावनात्मक वैल्यू होती है। चूंकि यह एक लोकप्रिय निवेश विकल्प है, लोग आमतौर पर इसे कम अच्छी आर्थिक स्थितियों में नगद पाने के लिए बेच देते हैं जब उन्हें रुपयों की सख्त जरूरत होती है। हालांकि, जानकारी की कमी और अपर्याप्त तत्परता सही निर्णय लेने में अवरोध पैदा करते हैं और लोगों को उनके गोल्ड की सही कीमत नहीं मिल पाती। इसलिए, गोल्ड को बेचने और नगद प्राप्त करने से पहले, आपको कुछ बातें ध्यान में रखनी चाहिए।

1. गोल्ड की कीमत

जिस गोल्ड को आप बेचना चाहते हैं उसकी कीमत के बारे में कुछ जानकारी और समझन होना बहुत महत्वपूर्ण है। गोल्ड की नई कीमत की जानकारी रखें। गोल्ड इतना मूल्यवान होता है कि इसकी दर में छोटे से उतार-चढ़ाव से भारी रकम का अंतर पड़ सकता है। यद्यपि आपको अपने ज्वेलरी की सही कीमत नहीं मिल पाएगी, एक संदर्भ बिंदु के रूप में यह फायदेमंद होता है जब आप एक से अधिक ऑफर्स की तुलना करते हैं। दूकानों की हरेक 10g गोल्ड के खरीदने और बेचने की दरें पहले निर्धारित होती हैं। उनके खरीदने की कीमत कम होती है और उनके बीचने की कीमत अधिक होती है। आसपास की दूकानों में जाएं और कुछ कोट लें ताकि आपको अपने गोल्ड की पूरी आंकी गई कीमत मिल सके और अपनी संपत्ति के लिए अधिकतम संभव कीमत मिल सके। साथ ध्यान दें कि अपनी ज्वेलरी बेचनी की प्रक्रिया में, आपको मेकिंग चार्जेज और टैक्स की हानि हो जाएगी जिसका भुगतान आपने इसे खरीदते समय किया था।

इससे जुड़ी बातें: भारत में गोल्ड की कीमतों को प्रभावित करने वाले कारक

2. गोल्ड की शुद्धता

अपने गोल्ड को बेचने से पहले, इसकी शुद्धता और प्रामाणिकता का मूल्यांकन करना महत्वपूर्ण होता है। देखें कि आपकी ज्वलरी हॉलमार्क्ड है या नहीं। हॉलमार्क्ड ज्वेलरी में शुद्धता जांचों के अर्थ में कम कटौती होती है। 916 हॉलमार्क वाले गोल्ड का अर्थ है 22k गोल्ड के लिए गोल्ड की शुद्धता 91.6% होती है। यदि आपकी ज्वेलरी हॉलमार्क्ड नहीं है, तो आप शुद्धता जांच केंद्र में जाकर मिश्रित अशुद्धताओं के अनुपात के लिए एक प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते हैं।

3. अशुद्धियों को हटाने के बाद की असली कीमत

आपको मिलने वाली असली कीमत मेल्टिंग चार्जेज द्वारा प्रभावित होगी। गोल्ड शॉप वाले सबसे पहले इंडक्शन फर्नेस में ज्वेलरी को पिघलाते हैं। इसके बाद वे इस गोल्ड की असली कीमत का निर्धारण करते हैं जिसमें अशुद्धियां नहीं होती। फाइनल कीमत होगी शुद्ध गोल्ड की कीमत माइनस कोई भी जेमस्टोन और अन्य मेटल जैसे अलॉय जिसका इस्तेमाल आपकी ज्वेलरी बनाने में किया गया था।

इससे जुड़ी बातें: क्यों आपके निवेश पोर्टफोलियो का 5-10% गोल्ड में होना चाहिए?

4. अच्छी कीमत के लिए कहां बेचें

आप किसी भी ज्वेलरी स्टोर में या मान्यता प्राप्त गोल्ड रिसेलर/रिसाइकलर, या रिटेल वेबसाइटों पर फ़िजिकल गोल्ड को बेच सकते हैं। बेचने से पहले हमेशा गोल्ड ट्रेंड्स और कीमत के बारे में अच्छी तरह से रिसर्च करें। अपने गोल्ड ज्वेलरी को उसी स्टोर में बेचने की सलाह दी जाती है जिस स्टोर से आप इसे खरीदते हैं क्योंकि वे आपको उसी शुद्धता पर रेट देंगे जिसपर उन्होंने आपको बेचा था।

इससे जुड़ी बातें: क्या महंगाई के दौरान आपको गोल्ड बचा कर रखना चाहिए?

5. गोल्ड की बिक्री पर टैक्स

आपको यह याद रखना चाहिए कि गोल्ड की बिक्री से होने वाला लाभ पर 'कैपिटल गेंस’ के तरह टैक्स देना होता है। यदि आप गोल्ड या गोल्ड ज्वेलरी खरीदते हैं और 36 महीने के अंदर बेच देते हैं, तो इसे एक लघुकालिक पूंजिगत परिसंपत्ति माना जाता है। लेकिन यदि आप गोल्ड या गोल्ड ज्वेलरी को 36 महीने के बाद बेचते हैं, तो इसे एक दीर्घकालिक पूंजिगत परिसंपत्ति माना जाता है। लघुकालिक पूंजी लाभ आपकी नियमित आय में जुड़ जाते हैं और आपके लिए लागू स्लैब रेट पर टैक्स लगता है जबकि दीर्घकालिक पूंजी लाभों पर 20% की दर से टैक्स लगता है। गोल्ड ईटीएफ और गोल्ड म्यूचुअल फंड से होने वाले लाभों पर इसी प्रकार टैक्स लगता है।

अंतिम शब्द

अपने गोल्ड का खरीदार तय करने से पहले स्थानीय और बड़े ज्वेलर्स से पूछताछ करने हुए प्रक्रिया शुरू करें और अनेक स्टोर्स से कोट लें। आप नहीं चाहते कि आपके साथ धोखाधड़ी हो, इसलिए खरीदार फाइनलाइज करने से पहले, उनकी वैधता जानने के लिए उनका क्रेडेंशियल देखें। अपनी महंगी संपत्ति के साथ जुड़ने से पहले खुद को शिक्षित करना महत्वपूर्ण होता है ताकि आप आश्वस हो सकें कि आपको सर्वोत्तर डील मिला। गोल्ड खरीदने से पहले गोल्ड की कीमत देखने के ये साधारण तरीके देखें




संबंधित लेख