सोने में कारोबार की रणनीति: सोना और मौसमी पैटर्न, सोने की कीमतें और यूएस ट्रेजरी दरें, मूविंग एवरेज | How to trade gold: Gold trading strategies you need to know about

अगर आप शॉर्ट टर्म के लिए सोने में कारोबार करते हैं, तो आपको सोने के मौसमी पैटर्न पर फोकस करना चाहिए और अगर आप लॉन्ग टर्म के लिए सोने में कारोबार करते हैं, तो आपको यूएस ट्रेजरी दरों पर नजर रखनी चाहिए।

 शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कारोबारी के लिए सोने में कारोबार की रणनीति

सोना अलग अलग उद्देश्यों के अलग अलग श्रेणी के निवेशकों को आकर्षित करता है। कारोबारी लाभ कमाने के लिए अल्पकालिक निवेशक सोने में कारोबार करते हैं। लंबी अवधि के निवेशक अपने बच्चे की शादी जैसे वित्तीय लक्ष्यों के लिए या मुद्रास्फीति के खिलाफ एक सुरक्षित विकल्प मानते हुए  संपत्ति आवंटन के हिस्से के रूप में सोना खरीदते हैं। इस लेख में, हम सोने के कारोबारियों पर ध्यान केंद्रित करेंगे और बताएंगे कि सोने का कारोबार कैसे करें। हम कुछ सोने की कारोबारी रणनीतियों पर भी चर्चा करेंगे, जिसके बारे में आपको जानना आवश्यक है।

1) सोना और मौसमी पैटर्न

अगर आप शॉर्ट टर्म ट्रेडर हैं तो आपको सोने के मौसमी पैटर्न पर फोकस करना चाहिए। अक्सर देखा गया है कि सोने की कीमत मौसमी पैटर्न का पालन करती है।  

सोने में मौसमी पैटर्न

सोने में मौसमी पैटर्न

जैसा कि उपरोक्त चार्ट में देखा गया है, सोने की कीमत 1973 से एक मौसमी पैटर्न का पालन कर रही है। जनवरी, फरवरी, सितंबर, नवंबर और दिसंबर के महीनों में सोने की कीमत औसत से अधिक बढ़ जाती है। इसलिए, ऐतिहासिक आंकड़ों के अनुसार, ये महीने सोने पर लंबे समय तक निवेशित रहने के लिए अच्छे हैं। मार्च और अक्टूबर के दौरान, सोने की कीमत औसत से कम रहती है। इसलिए, ऐतिहासिक आंकड़ों के अनुसार, सोने पर शॉर्ट टर्म के लिए निवेश करने के लिए ये महीने अच्छे हैं।

आइए अब देखते हैं कि खास खास वर्षों के दौरान जनवरी के महीने में सोने की कीमत किस तरह से बढ़ी है।

चार्ट: जनवरी (2015-2018) में सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव

चार्ट: जनवरी (2015-2018) में सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव

जैसा कि उपरोक्त चार्ट में देखा गया है, सोने की कीमत 2015-2018 की अवधि के दौरान जनवरी के महीने में बढ़ी है। इसलिए एक कारोबारी के रूप में आप संदर्भ पैरामीटर के रूप में सोने के मौसमी पैटर्न का उपयोग करके विशिष्ट महीनों में सोने में अपने शॉर्ट टर्म के लिए कारोबार की योजना बना सकते हैं।

2) सोने की कीमत और अमेरिकी ट्रेजरी दरों के बीच विपरीत संबंध

उपरोक्त खंड में चर्चा की गई है कि कैसे एक अल्पकालिक सोना कारोबारी वर्ष के विशिष्ट महीनों में सोना खरीदने और बेचने के लिए सोने के मौसमी पैटर्न का उपयोग कर सकता है। लेकिन अगर आप लंबी अवधि के सोने के कारोबारी हैं, तो आपको लंबी अवधि के सोने की कीमत के रुझान के लिए अमेरिकी ट्रेजरी दरों पर नजर रखने की जरूरत है।

आमतौर पर, यूएस ट्रेजरी दरों और सोने की कीमतों का विपरीत संबंध होता है। जब अमेरिकी ट्रेजरी दरें बढ़ती हैं, तो सोने की कीमतें नीचे की ओर जाती हैं; और जब अमेरिकी ट्रेजरी दरों में गिरावट आती है, तो सोने की कीमतों में बढ़ोतरी होती है।

चार्ट: अमेरिकी ट्रेजरी दरों और सोने की कीमतों के बीच विपरीत संबंध

चार्ट: अमेरिकी ट्रेजरी दरों और सोने की कीमतों के बीच विपरीत संबंध

जैसा कि उपरोक्त चार्ट में देखा गया है, 2008-09 के वित्तीय संकट के दौरान, यूएस फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में आक्रामक रूप से कटौती की। एक बार जब अमेरिकी अर्थव्यवस्था वित्तीय संकट से उभरी, तो अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने 2012-13 के दौरान ब्याज दरों को सख्त करना शुरू कर दिया और सोने की कीमतों में गिरावट आई।

2013 से 2016 के बीच, अमेरिका में वास्तविक ब्याज दरें नीचे चली गईं। इस दौरान सोने की कीमतों में 800 डॉलर से 1800 डॉलर प्रति औंस की बड़ी तेजी देखने को मिली।

चार्ट सोने की कीमतों और यूएस ट्रेजरी दरों के बीच साफ तौर पर विपरीत संबंध दिखाता है। इसलिए, यदि आप एक लंबी अवधि के सोने के कारोबारी हैं, तो आपको सोने की कीमतों की लंबी अवधि की दिशा तय करने के लिए अमेरिकी ट्रेजरी दरों पर जरूर नजर रखनी चाहिए। 

3) मूविंग एवरेज (एमए) क्रॉसओवर

उपरोक्त अनुभागों में दिखाया गया है कि कैसे कोई अल्पकालिक कारोबारी सोने के मौसमी पैटर्न को देखकर, जबकि कोई दीर्घकालिक कारोबारी अमेरिकी ट्रेजरी दरों को देखकर कैसे कारोबार कर सकता है। हालांकि, चाहे आप एक अल्पकालिक कारोबारी हों या दीर्घकालिक, कुछ तकनीकी विश्लेषण मापदंडों जैसे कि मूविंग एवरेज (एमए) के आधार पर अपना निवेश करने का कीमत स्तर तय कर सकते हैं।

साधारण एमए खास खास दिनों के लिए स्टॉक/कमोडिटी/मुद्रा इत्यादि के लिए बंद कीमतों का औसत है। उदाहरण के लिए, 20-दिवसीय एमए 20 दिनों की निर्दिष्ट अवधि के लिए समापन कीमतों का औसत है। सोने के कारोबारी अलग अलग एमए जैसे 20-दिवसीय एमए, 50-दिवसीय एमए, 100-दिवसीय एमए आदि के साथ सोने के मूल्य चार्ट का विश्लेषण करते हैं।

जब भी शॉर्ट टर्म एमए लंबी अवधि के एमए को पार करता है तो सोने के कारोबारी  आमतौर पर खरीदारी करता है। उदाहरण के लिए, यदि 50-दिवसीय एमए, 100-दिवसीय एमए को पार करता है, तो एक सोना कारोबारी इसे खरीद संकेत के रूप में लेगा और लांग टर्म के लिए कारोबार शुरू करेगा। इसी तरह, जब एक अल्पकालिक एमए, लंबी अवधि के एमए से नीचे आता है, तो एक सोने का व्यापारी आमतौर पर उसे बेच देगा। उदाहरण के लिए, यदि 50-दिवसीय एमए, 100-दिवसीय एमए से नीचे आता है, तो एक सोने का व्यापारी इसे बेचने के संकेत के रूप में लेगा।

चार्ट: मूविंग एवरेज के साथ सोने की कीमत चार्ट

चार्ट: मूविंग एवरेज के साथ सोने की कीमत चार्ट

उपरोक्त सोने की कीमत चार्ट 50-दिवसीय एमए को पीले रंग में और 100-दिवसीय एमए को लाल रंग में प्रदर्शित करता है। अप्रैल 2020 में, जब वैश्विक स्तर पर कोविड-19 महामारी फैलने लगी, तो सोने का 50-दिवसीय एमए 100-दिवसीय एमए को पार कर गया। इस एमए क्रॉसओवर के बाद, अगले कुछ महीनों में सोने की कीमतों में काफी तेजी आई। वास्तव में, सोने ने पिछले कई वर्षों की तुलना में 2020 में सबसे अच्छा रिटर्न दिया।

अंतिम शब्द 

सोने का कोई भी कारोबारी सोने के सीजनल पैटर्न के आधार पर शॉर्ट टर्म के लिए कारोबार कर सकता है या फिर यूएस ट्रेजरी रेट्स के आधार पर लॉन्ग टर्म के लिए कारोबार कर सकता है। एक बार जब कारोबार यह तय कर लेता है कि वह शॉर्ट-टर्म या लॉन्ग-टर्म के लिए कारोबार करना चाहता है, तो वह अपने प्रवेश और निकास के समय के लिए मूविंग एवरेज (एमए) जैसे तकनीकी विश्लेषण मापदंडों का उपयोग कर सकता है। एमए तकनीकी संकेतकों में से सिर्फ एक है। जैसे-जैसे कारोबारी सोने के कारोबार में गहराई से आगे बढ़ता है, वैसे-वैसे कई अन्य तकनीकी संकेतक होते हैं, जिन्हें वह देख सकता है और उसी के अनुसार सोने के कारोबार के लिए रणनीतियों को तैयार कर सकता है। 

संबंधित लेख