क्या सोना इस तरह के निराशाजनक समय में एक सुरक्षित निवेश मार्ग है?

सदियों से धन का प्रतीक, सोना, आज स्टॉक, बॉन्ड और व्यापक -आधारित पोर्टफोलियो के लिए एक प्रमुख साधन है और यह मुद्रास्फीति के खिलाफ एक बेहतरीन बचाव विकल्प है!

क्या सोना इस तरह के निराशाजनक समय में एक सुरक्षित निवेश मार्ग है?

फरवरी के अंत तक, देश में कोरोनोवायरस का प्रभाव शुरू होने के पहले तक भारतीय बाजार में रौनक थी। जनवरी के मध्य में बाजार पूंजीकरण में लगभग 2.16 ट्रिलियन डॉलर का औसत आया, लेकिन एक महीने बाद, जब वायरस पूरे भारत में फैलने लगा, तो रुख ही बदल गया।

सेंसेक्स ने 28 फरवरी को लगभग 3.5% की गिरावट दर्ज की, जो अब तक की दूसरी सबसे बड़ी गिरावट है, जिसके कारण निवेशकों के 5 लाख करोड़ रुपये से अधिक नष्ट हो गया है। जनवरी से लेकर मई की शुरुआत तक, मार्केट कैपिटल में कुल 27.31% की कमी आई है ।

निवेशक यहाँ से कहाँ जाएं ?

सवाल प्रासंगिक है, यह विचार करना काफी मुश्किल है कि महामारी का अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ेगा। जैसा कि आईएमएफ कि मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने स्वीकार किया है, कि अतीत में इस तरह का कोई बड़ा संकट कभी नहीं आया है।

विश्वास बरकरार रखें

विश्लेषकों ने निवेशकों को सलह दी है कि वे शांत रहें , अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करें और घबराएं नहीं| उनका मानना है कि संकट के हटते ही बाजार में वापस उछाल आएगा और तरलता बढ़ेगी। उन्होंने तर्क दिया है: बाजार लचीले होते हैं । उदाहरण के लिए, यह तर्क दिया गया है कि सेंसेक्स पिछले चार दशकों में लगभग 15% की औसत सीएजीआर से बढ़ा है 1979 में 100 अंक से बढ़कर पिछले साल 41,000 अंक हो गया है।

जिस तरह से, यह पहले भी प्रधानमंत्री और पदाधिकारियों की हत्या, कारगिल युद्ध, 1991 के बैलेंस ऑफ़ पेमेंट संकट , परमाणु परीक्षण के बाद अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध, 2008 के वैश्विक मंदी, मुंबई में होने वाले दो प्रमुख आतंकवादी हमलें, बाजार के पतन और कई घोटालों के बावजूद भी बना रहा। यहां तक कि हाल ही में 13 मई को, जब पी.एम. नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की, तो मानो अनिश्चितताओं को जीवन के संकेत मिले और इसमें 2% से अधिक की बढ़ोतरी हुई |

हालांकि, जो सवाल बना हुआ है, वह यह है की कौन सा निवेश विकल्प इस वक़्त के लिए सबसे उपयुक्त है?

विश्लेषकों के बीच मतभेद है कि मौजूदा संकट के दौरान एक अच्छा निवेश क्या हो सकता है, लेकिन कुछ इस बात से असहमत होंगे कि सोने में निवेश करना गलत निर्णय नहीं हो सकता है। सदियों से धन का प्रतीक, सोना, आज स्टॉक, बॉन्ड, और एक निवेश साधन के रूप में व्यापक-आधारित पोर्टफोलियो का पूरक है । यह देखते हुए कि सोना कीमती, अविनाशी और तरल है, यह वित्तीय अनिश्चितता के दौरान लंबे समय से बेहतरीन बचाव के रूप में माना गया है।

सोना निवेश उपकरण के रूप में

विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यू.जी.सी.) के अनुसार, 2001 के बाद के दो घटनाक्रम ने संस्थागत निवेशकों के लिए सोना को इतना आकर्षक बनाया है । पहला , वैश्विक बाजार में बढ़ने वाली धातु की कीमत जो की 2001 से 2018 तक लगभग दो दशकों में आठ गुना बढ़ी। दूसरा, समान अवधि में हर साल, सामान्य रूप से निवेश की मांग में लगभग 14% का विस्तार हुआ है।

इस लहर के परिणामस्वरूप, लोग तेजी से सोने को निवेश के रूप में देखने लगे हैं । संस्थागत निवेशकों के लिए, सोना कई अन्य उपकरणों की तुलना में बेहतर जोखिम-समायोजित रिटर्न सुनिश्चित करता है, और विविधीकरण के उपयोग में भी आता है। चिल्हर निवेशकों के लिए, अन्य साधन प्रभावी हो जाते हैं | पहले, सोने का पारंपरिक उपयोग गहने और भावनात्मक उद्देश्यों के लिए होता था, लेकिन अब सोने का आकर्षण निवेश उपकरण के रूप में बढ़ गया है।

गोल्ड ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स) ने भी कुछ भूमिकाएं निभाई हैं; जब पहला स्वर्ण समर्थित ईटीएफ अमेरिका में 2003 में लॉन्च किया गया था, तो इसने चिल्हर निवेशकों की कई तरह से मदद की:

  • सबसे पहले, सोने के बाजार तक पहुंच आसान हुयी
  • इससे दूसरा विकास हुआ: एक रणनीतिक निवेश के रूप में सोने की प्रासंगिकता बढ़ी
  • तीसरा, ईटीएफ की बदौलत सोना सस्ता हो गया
  • अतः कार्यक्षमता बढ़ गयी क्यूंकि व्यापार, परिवहन और परिसंपत्ति का भंडारण आसान हो गया

गोल्ड के लॉन्ग-टर्म रिटर्न कम ब्याज दर प्रणाली में उजागर हो जाते हैं, खासकर जब इसे वैश्विक स्तर पर नकरात्मक प्रभाव वाले ऋण के खिलाफ देखा जाता है।

महंगाई की मार

2009-2019 के दौरान डब्ल्यूजीसी के अनुसार, भारतीय निवेशकों को सोना ने लगभग 9% का औसत रिटर्न दिया। यह शेयरों से मिले रिटर्न से तुलनीय है, लेकिन बांड और कमोडिटीज़ की तुलना में बेहतर है। इसके अलावा, यह सोने को एक प्रभावी दीर्घकालिक विविधता लाने वाले साधन के रूप में चिह्नित करता है, जो संकट के दौरान एक सुरक्षित शरण लेने योग्य संपत्ति है, और मुद्रास्फीति के खिलाफ एक बचाव है।

ऐसा कई अन्य संपत्तियों के बारे में नहीं कहा जा सकता है। उदाहरण के लिए, वैश्विक मंदी के दौरान दिसंबर 2007 और फरवरी 2009 के बीच सेंसेक्स में कुछ 56% की गिरावट आई, और इसलिए हेज फंड और रियल एस्टेट जैसे पोर्टफोलियो डाइवर्सिफायर स्वीकार किए गए। इसके विपरीत, सोने की कीमत रुपए के संदर्भ में 48% से बढ़ गई।

इसी तरह भारत में सोने ने महंगाई को मात दी है। डेटा से पता चलता है कि दिसंबर 2019 तक, सोने ने 1981 से 10% की औसत वार्षिक रिटर्न दर्ज की, जो की इस अवधि में भारत के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से कई बेहतर है। डेटा से यह भी पता चलता है कि सोने की कीमत उस समय 11.5% बढ़ी जब मुद्रास्फीति 6% थी। न केवल मूल्य के मामले में सोने की कमी हुई, परन्तु इससे वास्तव में दीर्घावधि में पूंजी बढ़ने में मदद मिली।

ऑक्सफोर्ड अर्थशास्त्र के शोध, वैश्विक पूर्वानुमान और मात्रात्मक विश्लेषण के लीडर कहते हैं कि सोना अपस्फीति के दौरान भी अच्छा प्रदर्शन करेगा। इतना तो है कि, जो विशेषताएं अपस्फीति को चिन्हित करती हैं - कम ब्याज दरें, घटती खपत, कम किया गया निवेश और बढ़े हुए वित्तीय तनाव - मिलकर भारत में सोने की मांग को बढ़ाने के लिए काम करेंगें ।

सरकारी बचाव के रूप में

न केवल संस्थागत और चिल्हर निवेशकों द्वारा बल्कि सरकारों द्वारा भी सोने को मंदी के खिलाफ बचाव के रूप में देखा जाता है। 1991 में भारतीयों ने यह पहली बार सीखा, जब चंद्रशेखर सरकार को शर्मनाक वित्तीय संकट से निपटने के लिए देश का सोना गिरवी रखना पड़ा।

जनवरी 1991 में, भारत को बैलेंस ऑफ़ पेमेंट संकट का एक बड़ा सामना करना पड़ा, 1980 के दशक सामने आये कई कारकों के कारण, जैसे कि रूपये का अधिकमूल्यन और तेजी से घटते विदेशी भंडार। यह इतना बुरा था कि सरकार मुश्किल से तीन हफ्तों के लिए भी आयात नहीं कर सकती थी।

यह संकट पहले गल्फ वॉर और फिर मूडीज के द्वारा गहरा कर दिया गया, जिसने फरवरी 1991 में भारत को डाउनग्रेड कर दिया, जिससे अल्पकालिक ऋण भी असंभव हो गया। थोड़ी सी आशा के साथ , सरकार ने आईएमएफ को 2.2 बिलियन डॉलर की सहायता के लिए 47 टन सोना, और यूनियन बैंक ऑफ स्विट्जरलैंड को 20 टन सोना, 600 मिलियन डॉलर के लिए गिरवी रखा |

यहां तक कि दक्षिण कोरिया को 1997 के एशियाई वित्तीय संकट के बाद के प्रभावों से बचने के लिए 58 बिलियन डॉलर के सॉवरेन आईएमएफ ऋण का भुगतान करने के लिए, सोने की ओर रुख करना पड़ा। सरकारी अपील के जवाब में, अनुमानित 3.5 मिलियन आम नागरिकों - देश की एक चौथाई आबादी - ने राष्ट्रीय ऋण का हिस्सा चुकाने के लिए अपना व्यक्तिगत सोना दान किया।

वर्तमान परिस्थिति

कोरोनोवायरस संकट के बावजूद वैश्विक स्तर पर यही दौर जारी है जिसे आईएमएफ के गोपीनाथ ने ग्रेट लॉकडाउन का नाम दिया था। अप्रैल में जारी नवीनतम डब्ल्यू.जी.सी. त्रैमासिक रिपोर्ट के अनुसार, विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंकों ने जनवरी-मार्च 2020 तिमाही में ' भारी मात्रा ' में सोना खरीदना जारी रखा है।

हालांकि, यह मानना है कि खरीद की दर पिछले वर्ष की इस अवधि की तुलना में कम है; इस समीक्षाधीन अवधि में वैश्विक केंद्रीय बैंकों द्वारा की गई कुल खरीद 145 टन रही, जो साल-दर-साल 8% कम है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कोरोनवायरस के प्रकोप ने जनवरी-मार्च की अवधि में वैश्विक उपभोक्ता मांग को कम कर दिया है, जब कि यह ‘सुरक्षित- साधन ईटीएफ प्रवाह’ को प्रज्वलित करता है।

जाहिर है, दुनिया भर के निवेशकों ने गोल्ड ईटीएफ को सुरक्षित संपत्ति साधन माना है जो कि 298 टन के विशाल प्रवाह ’को आकर्षित करते हुए, जनवरी-मार्च की तिमाही में इन उत्पादों में वैश्विक होल्डिंग को 3185 टन के नए रिकॉर्ड उच्च स्तर तक पहुंचाया है । रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में अनिश्चितता और वित्तीय बाजारों में अस्थिरता के बीच, गोल्ड-समर्थित ईटीएफ ने वैश्विक अन्तर्वाह में तिमाही में पहली बार साल-दर-साल सात गुना वृद्धि देखी है।

हालांकि, अगर आप सोना खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो ध्यान दें कि रिपोर्ट के अनुसार, सोने की कीमत मुख्य रूप से कमजोर रुपये और बढ़ते डॉलर के कारण चढ़ाव पर है | समीक्षाधीन तिमाही में, भारत में सोने की औसत कीमत 41,124 रुपये प्रति 10 ग्राम - वर्ष-दर-वर्ष 26.6% अधिक , जबकि मार्च में कीमतें अभी तक के उच्च स्तर पर पहुंचकर 44,315 रुपये पर थी ।

सोना खरीदना

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, यह पूर्णतः वर्तमान स्थिति पर निर्भर करता है -आर्थिक अनिश्चितता, बाजार की अस्थिरता और उच्च मुद्रास्फीति द्वारा चिह्नित - जो सोना खरीदने को इस तरह के एक आकर्षक प्रस्ताव के रूप में प्रस्तुत करता है । सोना तीन प्राथमिक रूपों में खरीदा जा सकता है: भौतिक सोना, स्वर्ण ईटीएफ और सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड। आइए हम प्रत्येक को देखें:

  • भौतिक सोना: सोना अपनी भौतिक अवस्था में बिस्कुट, आभूषण, या सिक्कों के रूप में उपलब्ध है; कोई भौतिक सोना कितना खरीद सकता है इसकी कोई सीमा नहीं है। हालांकि, भौतिक सोने के साथ एक जोखिम होता है: इसकी शुद्धता संदिग्ध हो सकती है । इसके अलावा, भौतिक सोने पर रिटर्न आमतौर पर सोने पर वास्तविक रिटर्न से कम होता है।
  • स्वर्ण ईटीएफ: यदि आपके पास डीमैट खाता है, तो आप स्टॉक एक्सचेंजों से स्वर्ण इटीएफ ले सकते हैं, वह भी लगभग वास्तविक दर पर। आप इसे एक्सचेंज में ट्रेड भी कर सकते हैं। इसमें कोई लॉक-इन अवधि नहीं है, पर दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (एल.टी.सी.जी.) कर लागू है। इस बात को ध्यान में रखें कि एक व्यक्ति न्यूनतम मात्रा में एक ग्राम खरीद सकता है। भौतिक सोने के सामान , रिटर्न वास्तविक से कम है।
  • सॉवरेन गोल्ड बांड: भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए गए, ये सरकारी प्रतिभूतियां हैं जो एक ग्राम सोने के गुणकों में जारी की जाती हैं, न्यूनतम एक खरीदार के लिए एक ग्राम और अधिकतम 4 किलोग्राम है। इनसे मिलने वाला रिटर्न वास्तविक सोने से अधिक है, जो देय ब्याज के कारण होता है, जो कर योग्य होते है। इन बॉन्ड की परिपक्वता अवधि आठ साल होती है और इन्हें एक्सचेंज पर ट्रेड किया जा सकता है।

अस्वीकरण: यह लेख केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।




संबंधित लेख