Gold Price Drop:सोने की कीमत 52,000 रुपए से नीचे आ गई है। क्‍या यह समय सोना खरीदने के लिए सही है?

जबकि मध्यम अवधि में एक आकर्षक तेजी के लिए सेंटिमेंट सकारात्मक लगते हैं, फिर भी विभिन्‍न कारकों पर विचार किया जाना चाहिए।

सोने की कीमत नीचे आ गई है

सोने की कीमतें वैश्विक अर्थव्यवस्था और राजनीतिक परिवर्तनों के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होती हैं। बढ़ती मुद्रास्फीति, रूस-यूक्रेन संघर्ष के कारण कमजोर वैश्विक संकेतों और अमेरिका में ब्याज दरों में भारी बढ़ोत्तरी के कारण हाल की अस्थिरता से कीमती धातु की मांग में दिलचस्पी बढ़ी है।

पिछले नौ महीनों में, 24 कैरेट सोने की हाजिर दर सितंबर 2021 को 10 ग्राम के लिए 47,260 रुपए के निचले स्तर से बढ़कर मार्च 2022 में 55,250 रुपए के उच्च स्तर पर पहुंच गई है। वर्तमान में, सोने का बाजार मूल्य 52,000 रुपए के आसपास चल रहा है जो नौ महीने के निचले स्तर से 10% के प्रीमियम पर है, फिर भी अगस्त 2020 में महामारी के चरम के दौरान यह 56,200 रुपए के उच्च स्तर पर रहा।

तो क्या यह समय सोना खरीदने के लिए सही है? जबकि मध्यम अवधि में आकर्षक तेजी के लिए सेंटिमेंट आशावादी लगते हैं, ऐसे कई कारक हैं जो सोने की कीमतों को किसी भी दिशा में आगे बढ़ा सकते हैं।

सोने की कीमतों को प्रभावित करने वाले कारक 

  1. रूस-यूक्रेन संघर्ष: कोई समाधान नहीं दिखने के कारण, संघर्ष सोने की 'सुरक्षित पनाहगाह' की मांग को आगे बढ़ा रहा है। पोलैंड में नाटो फोर्सेस का निर्माण आग भड़काने वाले मुद्दों की श्रृंखला में सबसे नया है। यूरोपीय संघ के देशों को प्रभावित करने वाली किसी भी घटना के लिए सोने का बाजार तेजी से प्रतिक्रिया देगा।
  2. अमेरिकी डॉलर: सोने की दर और अमेरिकी डॉलर का विपरीत संबंध है। जब एक एसेट ऊपर जाता है, तो दूसरा नीचे जाता है। हाल के दिनों में,  USD इंडेक्स फ्यूचर 104.145 के सर्वकालिक उच्च स्तर पर ट्रेड कर रहा है, लेकिन बढ़ती मुद्रास्फीति और यूएस ट्रेजरी यील्ड घटने से डॉलर कमजोर हो सकता है और सोना अधिक आकर्षक हो सकता है।
  3. मानसून: यह देखते हुए कि ग्रामीण भारत में घरेलू सोने की मांग का दो-तिहाई हिस्सा है, बारिश की मात्रा का सोने की वृद्धि दर के साथ सीधा संबंध है। अच्‍छा मानसून, प्रचुर फसल होने से सोने की मांग बढ़ जाती है। त्योहारों और शादियों का सीजन जैसे अन्य कारकों से भी सोने की ज्वैलरी की मांग बढ़ती है।

आपकी निवेश की रणनीति क्‍या होनी चाहिए?

अल्पावधि में, सोने में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव का खतरा होता है और जब तक आप कमोडिटी मार्केट के माध्यम से सक्रिय रूप से ट्रेड नहीं कर रहे हैं, तब तक यह कोई महत्वपूर्ण रिटर्न नहीं दे सकता है, जिसमें निस्संदेह उच्च जोखिम होता है। तत्काल भौतिक आवश्यकताओं के लिए, हमेशा जांच करें कि आज सोने का भाव क्या है और शहर के प्रतिष्ठित ज्वैलर्स से केवल हॉलमार्क वाला सोना खरीदें।

मध्यम अवधि के निवेश के नजरिए से, आपके पास जितना सोना है, वह आपके कुल पोर्टफोलियो के 5% -10% से अधिक नहीं होना चाहिए। अपने पोर्टफोलियो में सोना शामिल करने का सबसे अच्छा तरीका गोल्ड ETF और म्यूचुअल फंड SIP या जब भी कीमत गिरती है तो स्‍टैगर अप्रोच लेना सही है।

यदि आप अपने बच्चे की शादी जैसे लंबी अवधि के उपयोग के लिए सोने के निवेश पर विचार कर रहे हैं, तो सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) एक अच्छा विकल्प है जो पूंजी वृद्धि सुनिश्चित करने के अलावा 2.5% का वार्षिक ब्याज भी देगा।

संवादपत्र

संबंधित लेख