सॉवरेन गोल्ड बांड्स एक आकर्षक कर-मुक्त धन सृजन निवेश विकल्प है

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड एक किफायती, कर-बचत निवेश विकल्प है जो जोखिम - प्रतिकूल निवेशकों के लिए आदर्श है, जो एक अस्थिर बाजार में लगातार रिटर्न की तलाश करते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बांड्स एक आकर्षक कर-मुक्त धन सृजन निवेश विकल्प है

भारतीयों का सोने के प्रति सांस्कृतिक आकर्षण हमेशा से रहा है। पीढ़ियों से विरासत में मिली बुद्धिमत्ता ने हमें सोने में निवेश करने के लिए प्रेरित किया है, जो कि बुरे वक़्त में हमारे काम आ सकता है। धनतेरस जैसे त्योहारों के आसपास भी सोने की खरीदारी को शुभ माना जाता है।

दुनिया में सोने के सबसे बड़े आयातक, भारत ,की इस कीमती धातु की वार्षिक मांग 900 मिलियन टन के आसपास है। इस विशाल खपत ने अप्रैल-जुलाई 2019 में अर्थव्यवस्था को 11.45 बिलियन अमरीकी डॉलर खर्च कराया , जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि के लिए खर्च 8.45 बिलियन अमरीकी डॉलर था।

2015 में, सरकार ने विदेशी मुद्रा बहिर्वाह को नियंत्रित करने के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (एस.जी.बी.) स्कीम शुरू की और खाते के बढ़ते घाटे को कम किया। इसका उद्देश्य सार्वजनिक बचत को बढ़ावा देने के लिए सोने की मांग को कम करना था, जिससे बाहरी ऋण में कमी आए।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स क्या हैं?

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (एस.जी.बी.) निवेशकों द्वारा खरीदी गई सोने की इकाइयों के बदले में भारत सरकार द्वारा जारी की जाने वाली प्रतिभूतियाँ हैं। भौतिक सोने के विपरीत, बांड को कागज या डिजीटल डीमैट रूप में खरीदा जा सकता है। यह योजना पूरे वर्ष के सदस्यता के लिए उपलब्ध नहीं है; बांड आर.बी.आई. द्वारा एकाएक घोषित कार्यक्रम के आधार पर मासिक हिस्से में जारी किए जाते हैं। एस.जी.बी. योजना 2019-20 के पिछले भाग के छह किश्तों की एक श्रृंखला 2 मार्च से 6 मार्च, 2020 के बीच 4210 रुपये प्रति ग्राम पर जारी किये गए थे ।

इकाइयां 1ग्राम से शुरू होने वाले मूल्यवर्गों में खरीदी जा सकती हैं। किसी दिए गए वित्तीय वर्ष के दौरान, एक व्यक्तिगत निवेशक 500ग्राम से अधिक नहीं खरीद सकता है। सरकार ने व्यक्तिगत आधार पर या संयुक्त रूप से हिंदू अविभाजित परिवार (एच.यु.एफ.) के मामले में परिवार के सदस्यों के साथ खरीदने का विकल्प चुनने वाले निवेशकों के लिए 4 किलोग्राम की अधिकतम सीमा निर्दिष्ट की है। हालांकि, संयुक्त स्वामित्व के मामले में, 4 किलोग्राम की सीमा केवल पहले खरीदार पर लागू होती है। एस.जी.बी. की एक और विशिष्ट विशेषता यह है कि संस्थागत निवेशक जैसे ट्रस्ट और विश्वविद्यालय 20 किलोग्राम की अधिकतम सीमा तक स्वर्ण इकाइयाँ खरीद सकते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर दी जाने वाली ब्याज की वर्तमान दर 2.75% है और इसका भुगतान साल में दो बार किया जाता है। मैच्युरिटी के समय, निवेशकों को ब्याज के अलावा, उन इकाइयों के प्रचलित बाजार मूल्य के आधार पर एकमुश्त राशि मिलती है। रिडीम करने की तारीख को -बाजार मूल्य की गणना -पिछले तीन दिनों के 24 कैरट सोने के समापन मूल्य (बाजार बंद होने के वक़्त की अंतिम कीमत) के एक साधारण औसत के रूप में की जाती है। यह दर इंडियन बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार निर्धारित की गई है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स का कार्यकाल आठ साल का होता है, लेकिन निवेशक पांच साल की लॉक-इन अवधि पूरी होने पर इससे बाहर निकलने का विकल्प चुन सकते हैं। उन्हें कुछ पात्रता शर्तों की पूर्ति के आधार पर द्वितीयक बाजार में भी व्यापार किया जा सकता है या दूसरों को उपहार में दिया जा सकता है (इसके बारे में नीचे बताया गया है)।

एस.जी.बी. ​​में निवेश करने के क्या फायदे हैं?

गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने से निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने और इक्विटी मार्केट में एस.जी.बी. अस्थिरता के खिलाफ बचाव तैयार रखने में मदद मिल सकती है। चूंकि रिटर्न की गारंटी सरकार द्वारा दी जाती है, सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश पूरी तरह से जोखिम से मुक्त है। यहाँ कुछ प्रमुख कारण बताए गए हैं कि यह एक अच्छा दांव क्यों है:

1. गैर-भौतिक प्रकृति: सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड भौतिक सोने की सुरक्षा या शुद्धता सम्बंधित चिंताओं को दूर करते हैं। जैसा कि नाम से पता चलता है, केंद्र सरकार एस.जी.बी. योजना के तहत लेनदेन का दायित्व स्वयं लेती है। इस प्रभाव से वे इस खरीद के लिए एक प्रमाण पत्र जारी करतीहै।

2. कोलैटरल विकल्प: निवेशकों द्वारा सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों में ऋण पाने के लिए कोलैटरल के रूप में गिरवी रखा जा सकता है। हालाँकि, यह व्यक्तिगत उधारदाताओं के नियमों और विनियमों के अधीन है और इसे जारीकर्ता के रूप में सरकार द्वारा लागू नहीं किया जा सकता है।

3. कर लाभ: एस.जी.बी. से प्राप्त ब्याज को पूंजीगत लाभ कर से मुक्त किया गया है, जो उन्हें 30% कर दायरे में आने वाले व्यक्तियों के लिए आदर्श कर-बचत निवेश बनाता है। हालाँकि, यह केवल तभी संभव है जब : एस.जी.बी को मैच्युरिटी से पहले रीडीम न किया जाए या बेचा न जाए। रिटर्न और टैक्स देनदारी के बीच का समझौताकारी तालमेल लाभदायक है क्योंकि जरूरत पड़ने पर सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स को कोलैटरल बनाया जा सकता है।

4. शून्य व्यय अनुपात: बढ़ते व्यय अनुपात या बढ़ते फंड प्रबंधन शुल्क के इस समय में, निवेशकों को प्रशासनिक खर्चों के लिए अपनी कमाई का एक हिस्सा देने से एस.जी.बी. पूर्ण राहत प्रदान करता है। इसका मतलब है कि निवेश किए गए प्रत्येक रुपये के लिए निवेश पर बेहतर रिटर्न मिलता है।

5. खरीद मूल्य पर छूट: एक नियम के रूप में, ऑनलाइन खरीदारों के लिए एक सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड इकाई को प्रचलित बाजार दर पर अंकित मूल्य में 50 रुपये की छूट दी गई है। यदि आपके पास दीर्घकालिक निवेश क्षितिज है, तो एस.जी.बी. में निवेश करने का यह सबसे अच्छा समय हो सकता है। कारण: एस.जी.बी. स्कीम एक दीर्घकालिक निवेश विकल्प है और फलस्वरूप इसे आसानी से तरल नहीं किया जा सकता है।

एस.जी.बी. ​ निवेश की क्या कमियां हैं?

अब, हम सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स में निवेश करने के नुकसान को देखते हैं।

1.बहुत कम तरलता: जैसा कि चर्चा किया जा चूका है, तरलता की कमी उन मुख्य कारणों में से एक है जिसके कारण सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड अधिकतर निवेशकों द्वारा पसंद नहीं किए जाते हैं। यदि आप द्वितीयक बाजार से इसे खरीदना चुनते हैं, तो आप बांड इकाइयों को जल्दी रिडीम कर सकते हैं, लेकिन उन्हें बाजार मूल्य पर खरीदा जाना होगा।

2. बदलती कीमतें: प्रत्येक अंक या किश्त के लिए कीमत साल-दर-साल भिन्न हो सकती है क्योंकि वे सरकार द्वारा मांग-आपूर्ति गतिशीलता के आधार पर तय किए जाते हैं। भू-राजनीतिक कारक भी सोने की कीमत में तेज वृद्धि का कारण बन सकते हैं और परिणामस्वरूप एस.जी.बी. मूल्य को प्रभावित करते हैं। इसलिए एस.जी.बी. बाज़ार की भावी कीमतों का सही आंकलन करना लगभग असंभव है।

3. छूट पर बेचना: जबकि आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स को सस्ते दाम पर खरीदने में सक्षम हो सकते हैं, द्वितीयक बाजार में इसकी औसत कीमत आपके अच्छे रिटर्न पाने की संभावनाओं को प्रभावित भी कर सकती है। यदि आप मैच्युरिटी तक इंतजार नहीं करना चाहते हैं, तो आपको कर-बचत की कोई संभावना छोड़े बिना ही बाजार मूल्य से कम में इसे बेचना पड़ सकता है।

4. ब्याज की कोई चक्रवृद्धि नहीं: एस.जी.बी. निवेशकों की संभावित कमाई को सीमित करते हुए ,चक्रवृद्धि रिटर्न नहीं प्रदान करता है। निवेशक ये महसूस कर सकते हैं कि आठ-वर्ष के कार्यकाल तक निवेश करने के हिसाब से उन्हें पर्याप्त रिटर्न नहीं मिला, खासकर अगर मैच्युरिटी के समय सोने की प्रचलित कीमत खरीद मूल्य के करीब ही रहती है।

एस.जी.बी. ​​में कोई कैसे निवेश करता है?

आवेदन फॉर्म भारत के स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन के अलावा, सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र के बैंकों, नामित स्टॉक एक्सचेंजों और डाकघरों जैसे नामित वितरकों के पास उपलब्ध हैं। आर.बी.आई. की वेबसाइट से आवेदन पत्र डाउनलोड करने के बाद आप ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप किसी भी अधिकृत बैंक के एस.जी.बी. पोर्टल पर आवेदन करने का विकल्प चुन सकते हैं।

एस.जी.बी. ​​का भुगतान कई तरीकों से किया जा सकता है: नकद, चेक, डिमांड ड्राफ्ट या ऑनलाइन ट्रांसफर। अनुमोदन स्वचालित नहीं है और कुछ पात्रता मानदंडों की पूर्ति पर निर्भर करता है।

पात्रता की शर्तें क्या हैं?

  • केवल भारतीय निवासी जो वैध पैन धारक हैं, वे ही सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के लिए आवेदन करने के पात्र हैं।
  • यदि आवेदक नाबालिग है, तो माता-पिता को एस.जी.बी. जारी किया जा सकता है।
  • संयुक्त आवेदक - ट्रस्ट, विश्वविद्यालय और एसोसिएट सहित - पात्र हैं, बशर्ते वे भारत में पंजीकृत हों।
  • आवेदन प्रक्रिया के भाग के रूप में पहचान प्रमाण और के.वाई.सी. सत्यापन को पूरा करना आपके लिए आवश्यक है।

कौन सा बेहतर है: ई.टी.एफ. या एस.जी.बी.?

भौतिक सोना खरीदना एक महंगा प्रस्ताव हो सकता है। गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ई.टी.एफ.) सोने में निवेश के लिए कम खर्चीला विकल्प प्रदान करता है, जिसे एक ट्रेडिंग और डीमैट खाते के माध्यम से कारोबार किया जा सकता है। एस.जी.बी. के विपरीत, सोने खरीदने की ई.टी.एफ. इकाइयों की अधिकतम संख्या पर कोई प्रतिबंध नहीं है। ई.टी.एफ. के साथ चोरी का जोखिम काफी हद तक कम हो गया है।

गोल्ड ई.टी.एफ. का सबसे बड़ा दोष यह है कि दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ कर (एल.टी.सी.जी.),इंडेक्सेशन के बाद, खरीद की तारीख के तीन साल बाद, 20% पर लागू होता है। ई.टी.एफ. में 1% तक का व्यय अनुपात भी होता है।

इसके विपरीत, सरकार की ओर से आर.बी.आई. द्वारा सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड जारी किए जाते हैं। जिसके कारण, आवेदक द्वारा कोई प्रशासनिक खर्च वहन नहीं किये जाना हैं। एस.जी.बी. के मामले में पूंजीगत लाभ पर कर लागू नहीं होता है, लेकिन वे अपेक्षाकृत बिलकुल तरल नहीं होते हैं और उनकी निश्चित दर होती है।

आखरी शब्द

भारत के झुकाव को सोने की खपत से सोने में निवेश में बदलने की दिशा में सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड एक महत्वपूर्ण कदम है। वे अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए सार्वजनिक बचत को जुटाते हैं, जिससे नौकरी के अवसरों में वृद्धि होती है। यह ,बदले में, नागरिकों के लिए उच्च प्रति व्यक्ति आय में योगदान कर सकता है,जो पीली धातु की मांग को बढ़ाता है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश एक अच्छी तरह से सोच-समझकर उठाया जाने वाला कदम होना चाहिए, जो कि कुल संपत्ति आवंटन और जीवन के लक्ष्यों पर निर्भर करता है। एस.जी.बी. ​​के साथ इक्विटी और ऋण के विवेकपूर्ण मिश्रण से बने एक विविध निवेश पोर्टफोलियो, कुछ अवधि में औसत से ज्यादा रिटर्न दे सकता है।

संबंधित लेख