Sharp fall in Gold Price : यहां पर आने वाले हफ्तों में भारतीय मार्केट में सोने की कीमत का पूर्वानुमान बताया गया है

13 जून 2022 को भारत में सोने की कीमत में तेज गिरावट देखी गई। यह घटना केवल भारतीय नहीं है, बल्कि यह एक वैश्विक प्रभाव है। मल्टी-कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर सोने की कीमत 0.76% गिरकर 51,306 रुपये हो गई।

A sharp fall in Gold Price

भारत में सोने की कीमत में 13 जून 2022 को तेज गिरावट देखी गई। यह घटना केवल भारतीय नहीं है, बल्कि यह एक वैश्विक प्रभाव है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर सोने की कीमत 0.76% गिरकर 51,306 रुपये हो गई। यह गिरावट सोमवार 13 जून को 10 ग्राम सोने के लिए है.

यह मौजूदा गिरावट केवल सोने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि चांदी और कीमती धातुओं पर भी इसका प्रभाव महसूस किया गया। 13 जून 2022 को एक किलोग्राम के लिए कीमती मेटल फ्यूचर में लगभग 1.50% की गिरावट के साथ 61,015 रुपये की कीमत देखी गई।

भारत में सोने की कीमत में इस गिरावट का क्या कारण है?

मई 2022 में, संयुक्त राज्य में मुद्रास्फीति बढ़कर 8.6% हो गई। अमेरिका के लेबर डिपार्टमेंट की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में यह महंगाई 40 साल में सबसे ज्यादा थी। दुनिया भर के वित्तीय विश्लेषकों को यूनाइटेड स्टेट्स फेडरल रिज़र्व द्वारा ब्याज दरों में उल्लेखनीय वृद्धि की उम्मीद है। मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के उद्देश्य से आने वाले महीनों में यह वृद्धि होने की उम्मीद है।

10 जून को कॉमेक्स गोल्ड की कीमतों में 1% से अधिक की बढ़ोतरी हुई थी। आईसीआईसीआई डायरेक्ट के अनुसार, यह निम्नलिखित कारणों से हुआ:

  • महंगाई के आंकड़े उम्मीद से ज्यादा थे।
  • ग्‍लोबल मार्केट में जोखिम से बचने की प्रवृत्ति।

उच्च मुद्रास्फीति के कारण बेंचमार्क यूएस 10-ईयर ट्रेज़री यील्ड भी बढ़ाया गया है। इसी तरह, डॉलर इंडेक्स में भी तेजी आई। यह बेंचमार्क यील्ड 13 जून को उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था। अमेरिकी डॉलर इंडेक्स में भी इसी तरह की तेजी देखी गई।

गोल्‍ड प्राइस फ्यूचर: क्या उम्मीद करें

भविष्य में, एमसीएक्स पर सोने की कीमतों में सकारात्मकता के साथ ट्रेड होगा। यह पूर्वानुमान निम्नलिखित चिंताओं के कारण है:

  • उच्च मुद्रास्फीति
  • भू-राजनीतिक अनिश्चितता

संक्षेप में, यह आने वाले हफ्तों में भारतीय बाजार के लिए सोने की कीमतों में मामूली सुधार को दर्शाता है। वर्तमान में, एमसीएक्स पर सोने की कीमतें 51,315 रुपये के रेज़िस्‍टेंस लेवल पर ट्रेड कर रही हैं। यदि यह लेवल लंबे समय तक बना रहता है, तो हम जल्द ही 52,000 रुपये तक बढ़ने की उम्मीद कर सकते हैं। इसका असर चांदी की कीमतों पर भी पड़ेगा, जिसके 63,500 रुपये के स्तर तक पहुंचने की उम्मीद है। यह डेटा आईसीआईसीआई डायरेक्ट द्वारा रिपोर्ट किया गया था।

13 जून की शुरुआत में कॉमेक्‍स गोल्ड की कीमतों की शुरुआत कमजोर रही थी। अमेरिकी फेडरल रिज़र्व द्वारा आक्रामक नियामक दृष्टिकोण का पालन करने की उम्मीद के कारण, आने वाले दिनों में डॉलर और मजबूत होगा। इसका भारतीय गोल्‍ड मार्केट पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख