5 बातें जो आप स्वास्थ्य बीमा से जुड़े ‘कर’ लाभों के बारे में नहीं जानते

स्वयं, परिवार और माता-पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा का प्रीमियम भुगतान न केवल चिकित्सा सम्बंधी आपात स्तिथियों में वित्तीय सहायता प्रदान करता है बल्कि ‘कर’ देनदारी को भी घटाता है। जानते हैं कैसे।

5 lesser known facts about tax benefits of health insurance

अधिकतर वित्तीय योजनाकारों के अनुसार एक व्यक्ति को सबसे पहले यह देखना चाहिये कि किसी भी वित्तीय योजना में उसके पास पर्याप्त स्वास्थ्य बीमा हो। व्यक्ति अपने लक्ष्यों के लिए बचत करने की शुरुआत करे, उससे पहले उसे स्वयं और परिवार के लिए पर्याप्त स्वास्थ्य बीमा कराना चाहिए। और तो और, स्वास्थ्य बीमा के लिए जमा कराया गया प्रीमियम आपकी ‘कर योग्य आय’ और ‘कर देनदारी’ को घटा आपको ‘कर’ लाभ भी प्रदान करता है। वित्तीय वर्ष 2015-2016 के लिए आयकर कानूनों के अनुसार स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के ‘कर’ लाभों के बारे में जानने के लिए यहां पांच महत्वपूर्ण बातें दी गई हैं।

माता-पिता: माता-पिता के लिए ली गयी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों के लिए जमा कराया गया प्रीमियम आयकर अधिनियम की धारा 80 डी के तहत कटौती के लिए योग्यता प्राप्त करता है। यह लाभ स्वयं, पति/पत्नी, बच्चों और माता-पिता के लिए भुगतान किए गए स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम पर उपलब्ध है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि बच्चे या माता-पिता आप पर निर्भर हैं या नहीं।

हालांकि, ‘कर’ लाभ की राशि, चिकित्सकीय बीमाकृत व्यक्ति की उम्र पर निर्भर करती है। स्वयं, पति/पत्नी, बच्चों और माता-पिता के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर, अधिकतम 25,000 रुपये की कटौती का सालाना लाभ उठाया जा सकता है, बशर्ते व्यक्ति की उम्र 60 से ऊपर न हो। अगर माता-पिता जो 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक हैं, उनके लिए ये राशि अधिकतम 30,000 रुपये पर है। इसलिए एक करदाता धारा 80 डी के तहत ‘कर’ लाभ को अधिकतम 55,000 रुपये कर सकता है यदि उसकी उम्र 60 वर्ष से कम हो, जबकि माता-पिता की आयु 60 वर्ष से अधिक हो। उन करदाताओं के लिए जो 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के हैं और अपने माता पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम भी दे रहे हैं, धारा 80 डी के तहत अधिकतम ‘कर’ लाभ कुल 60,000 रुपये होगा।

जीवन बीमा कंपनियां: धारा 80 डी से मिलने वाला ‘कर’ लाभ स्वास्थ्य नीति के लिए किए गए प्रीमियम भुगतान पर है और इसलिए किसी व्यक्ति को स्वास्थ्य योजना केवल स्वास्थ्य बीमा कंपनियों से खरीदने के लिए बाध्य नहीं करता। जीवन बीमा पॉलिसी में गंभीर बीमारी या मेडिकल इंश्योरेंस की ओर किए गया प्रीमियम भुगतान भी उसी अनुभाग के तहत ‘कर’ लाभ के लिए योग्यता प्राप्त करता है। इसके अलावा, जीवन बीमा कंपनियों की स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी का प्रीमियम भी उसी ‘कर’ लाभ का पात्र है।

स्वास्थ्य परीक्षण : 25,000 रुपये या 30,000 रुपये की अधिकतम सीमा के भीतर, निवारक स्वास्थ्य परीक्षण के लिए  5,000 रुपये तक का लाभ मिलता है। इसका मतलब है, यदि आप मेडिक्लेम के लिए 20,000 रुपये का प्रीमियम भुगतान करते हैं और 5,000 रुपये की लागत वाले स्वास्थ्य परीक्षण से गुजरते हैं, तो आप धारा 80 डी के तहत कुल 25,000 रुपये का लाभ उठा सकते हैं । अधिकांश प्रमुख अस्पताल निवारक स्वास्थ्य परीक्षण पैकेज मुहैया कराते हैं। जब जीवनशैली में बदलाव से जुड़ी बीमारियों में वृद्धि हो रही है, ऐसे में स्वास्थ्य पर नजर रखना हमेशा बेहतर है।

दोनों प्रकार के स्वास्थ्य बीमा पर उपलब्ध कर लाभ: 'क्षतिपूर्ति' और 'परिभाषित लाभ’ दोनो प्रकार की स्वास्थ्य बीमा योजनाएँ ‘कर’ लाभ के लिए योग्यता प्राप्त करेंगी। न केवल क्षतिपूर्ति योजनाएँ जैसे की व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा योजना जिसे लोकप्रिय रूप से मेडिक्लेम और फैमिली फ्लोटर योजना कहा जाता है, बल्कि किसी भी स्टैंडअलोन स्वास्थ्य बीमा कंपनी या एक सामान्य बीमा कंपनी की परिभाषित लाभ योजनाएँ जैसे कि दैनिक अस्पताल नकद योजना और गंभीर बीमारी योजना भी ‘कर’ लाभ के लिए योग्यता प्राप्त करेंगी।

नकद भुगतान: प्रीमियम भुगतान नकदी में भी किया जा सकता है, हालांकि, ‘कर’ लाभ उठाने के लिए, आयकर नियम नकदी में प्रीमियम भुगतान पर ‘कर’ लाभ को अस्वीकार करते हैं। हालांकि प्रीमियम पर टैक्स लाभ प्राप्त करने के लिए कोई भी इंटरनेट बैंकिंग, चेक, ड्राफ्ट या क्रेडिट कार्ड द्वारा भुगतान कर सकता है। हालांकि, निवारक स्वास्थ्य परीक्षण के लिए किया गया नकद भुगतान धारा 80 डी लाभ के लिए पात्र है।

निष्कर्ष: अक्सर यह कहा जाता है कि किसी को केवल ‘कर’ बचाने के लिए निवेश नहीं करना चाहिए। स्वास्थ्य बीमा के मामले में, जो किसी भी तरह से निवेश नहीं है, प्रीमियम भुगतान न केवल आपको स्वास्थ्य कवर प्रदान करता है बल्कि करों को बचाने में भी सहायता करता है। अस्पतालों में इलाज के बढ़ते ख़र्चो को ध्यान में रखते हुए, स्वास्थ्य बीमा खरीदने से निश्चित रूप से मदद मिलती है।d

 

संबंधित लेख

Most Shared

5 Ways RBI has made e-wallet safer for users

5 RBI steps that have made e-wallet more customer friendly