Don't Let Your Health Insurance Claim Get Rejected: Follow These 7 Tips

स्वास्थ्य बीमा दावा अस्वीकृति से बचने के लिए पारदर्शिता रखते हुए कुछ खास बातों का ईमानदारी से पालन करना चाहिए।

अपने स्वास्थ्य बीमा क्लेम को खारिज होने से बचाएं इन 7 टिप्स को हमेशा याद रखें

स्वास्थ्य बीमा फाइनेंशियल प्लानिंग का अहम हिस्सा होता है। हेल्थ इंश्योरेंस यह सुनिश्चित करता है कि बीमारी के समय चिकित्सा खर्चे के कारण आपकी जमा पूंजी को नुकसान न हो। एक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी चिकित्सा बिल, अस्पताल में भर्ती, परामर्श शुल्क, एम्बुलेंस शुल्क आदि जैसे विभिन्न खर्चों को कवर करती है। इससे बीमाधारक में शांति और सुरक्षा की भावना आती है।  

हालांकि, कभी-कभी लोगों को उनके स्वास्थ्य बीमा क्लेम रिजेक्ट होने के कड़वे अनुभव का सामना भी करना पड़ता है। इसलिए आपको उन कारणों के बारे में पता होना चाहिए जिससे स्वास्थ्य बीमा दावा खारिज हो सकता है। शुरुआत से ही इसकी जानकारी होने पर आप अपने स्वास्थ्य बीमा दावों को खारिज होने से बचा सकते हैं। ऐसे ही 7 सामान्य कारणों की पड़ताल यहाँ कर रहे हैं:

1. बीमा अवधि का ध्यान रखें

दावा अस्वीकृति के सबसे बुनियादी कारणों में से एक पॉलिसी अवधि की समाप्ति है। अधिकांश स्वास्थ्य बीमा योजनाएँ समयबद्ध अनुबंध हैं जिन्हें हर साल नवीनीकरण की आवश्यकता होती है। कई पॉलिसीधारक अपनी पॉलिसी को रिन्यू कराना भूल जाते हैं, जिससे कि यह लैप्स हो जाता है। यदि लैप्स अवधि के दौरान दावा किया जाता है तो बीमा कंपनी भुगतान करने के लिए उत्तरदायी नहीं होती है। 

पॉलिसी नवीनीकरण का ट्रैक रखना और यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आप पूरी तरह से कवर हैं। यदि आप नवीनीकरण की समय सीमा से चूक जाते हैं तो अधिकांश बीमा कंपनियां पॉलिसी अवधि के दौरान अर्जित लाभों को खोए बिना पॉलिसी को नवीनीकृत करने के लिए 15 दिनों की छूट अवधि प्रदान करती हैं।

2. स्वास्थ्य स्थिति का वास्तविक विवरण दें

स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू पहले से मौजूद बीमारियों या स्थितियों का प्रकटीकरण है। रक्तचाप, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, आदि, या किसी भी पिछली बड़ी सर्जरी जैसी किसी भी चिकित्सीय स्थिति का उल्लेख करना महत्वपूर्ण है। कोई नई चिकित्सीय स्थिति या बीमारी जो हाल के दिनों में हुई हो, उसका भी बीमा नवीनीकरण के समय खुलासा किया जाना चाहिए। 

दावों के दौरान होने वाली परेशानियों से बचने के लिए इन विवरणों को ईमानदारी से बीमाकर्ता के साथ साझा करना महत्वपूर्ण है। कुछ पहले से मौजूद बीमारियों का परिणाम स्थायी रूप से पॉलिसी की अस्वीकृति हो सकता है या बीमा प्रस्ताव का रीजेक्शन हो सकता है। इसलिए, स्वास्थ्य संबंधी सभी जानकारी को सच्चाई से प्रकट करना हमेशा सबसे अच्छा होता है।

यह भी पढ़ेंसमूह स्वास्थ्य बीमा बनाम व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा

3. वेटिंग पीरियड के दौरान क्लेम न करें 

एक महत्वपूर्ण बिन्दु प्रतीक्षा अवधि है, जो उस समय के एक विशिष्ट वेटिंग पीरियड को संदर्भित करता है जिसके दौरान कुछ शर्तों के तहत दावा स्वीकार नहीं किया जाता। अक्सर यह अवधि पॉलिसी की शुरुआत में या किसी नई बीमारी के पहचान के बाद होती है। हालांकि यह वेटिंग पीरियड बीमाकर्ता और संबंधित बीमारी के आधार पर अलग-अलग हो सकती है, इसलिए विशिष्टताओं को समझने के लिए अपनी पॉलिसी की सावधानीपूर्वक समीक्षा करना महत्वपूर्ण है।  

4. बीमारियों की सूची पर ध्यान दें

एक अन्य महत्वपूर्ण कारक जिसे ध्यान में रखना चाहिए वह आपकी पॉलिसी के कवरेज और बहिष्करणों यानि एक्स्क्लूजंस की सूची है। यदि कोई विशेष स्थिति या बीमारी आपकी बीमा कंपनी के कवरेज के दायरे में नहीं आती है, तो आप इसके लिए दावा नहीं कर पाएंगे। इसलिए यह जानना आवश्यक है कि इस सूची में क्या शामिल है और क्या शामिल नहीं है।

5. जल्द से जल्द क्लेम करें

जब मेडिकल इंश्योरेंस क्लेम करने का समय आए तो अपनी पॉलिसी में उल्लिखित निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर ऐसा करना सुनिश्चित करें। आम तौर पर, जब आप अपना दावा करते हैं, तब से सब कुछ सबमिट करने के लिए आपके पास लगभग 60-90 दिनों का समय होता है। इसलिए जल्दी से कार्रवाई करना महत्वपूर्ण है। हालांकि यदि आप आकस्मिक परिस्थितियों के कारण देरी का अनुभव करते हैं, तो भी आपके बीमाकर्ता के पास आपका दावा स्वीकार करने का विकल्प होता है। लेकिन फिर भी जितनी जल्दी हो सके फाइल करना हमेशा सबसे अच्छा होता है।

6. सभी दस्तावेज तैयार रखें 

दावों को खारिज करने का एक सामान्य कारण उचित दस्तावेज की कमी है। इस समस्या से बचने के लिए, अपना दावा करने से पहले सुनिश्चित करें कि आपके पास सभी आवश्यक दस्तावेज हैं, जिसमें परीक्षण के परिणाम और डॉक्टर के पत्र, आदि सभी शामिल हैं। यदि कोई दस्तावेज़ गायब है, तो आपका बीमाकर्ता आपको सूचित करेगा ताकि आप उन्हें समय पर जमा करवा सकें।

7. नेटवर्क अस्पताल को प्राथमिकता दें 

जब मेडिकल इंश्योरेंस क्लेम सेटलमेंट की बात आती है तो एक पसंदीदा नेटवर्क अस्पताल का चयन करना एक स्मार्ट कदम हो सकता है। ये अस्पताल अक्सर कैशलेस सेवाओं और अन्य भत्तों की पेशकश करते हैं जो बीमा दावा प्रक्रिया को कारगर बनाने में मदद कर सकते हैं। अधिकांश बीमाकर्ताओं के पास पॉलिसीधारकों के लिए इन सुविधाओं का एक नेटवर्क उपलब्ध होता है और वे आपको इस नेटवर्क की सूची उपलब्ध कराते हैं।

यह भी पढ़ें: सस्ते प्रीमियम पर लीजिए बेहतर बीमा पॉलिसी

संवादपत्र

संबंधित लेख