कोविड-19 महामारी के दौरान स्वास्थ्य बीमा खरीदते समय ध्यान देने योग्य बातें

यहां कुछ चीजें हैं जिन पर आपको विचार करने की आवश्यकता है यदि आप कोरोनोवायरस के इस समय में स्वास्थ्य बीमा खरीदने की सोच रहे हैं।

कोविड-19 महामारी के दौरान स्वास्थ्य बीमा खरीदते समय ध्यान देने योग्य बातें

पिछले कुछ हफ्तों में जिस तरह से दुनिया स्वास्थ्य सेवा को देखती है,उसमे व्यापक बदलाव आया है। कोविड -19 महामारी ने कई लोगों को अपनी वित्तीय तैयारी पर सवाल उठाने पे मजबूर किया है। और एक महत्वपूर्ण वित्तीय पहलू जो इन कठिन समय में उभरा है वह ये कि क्या किसी के पास पर्याप्त बीमा है।

कोरोनोवायरस का डर पूरी दुनिया पर छा जाने के बाद ,अब लोगो को बीमा की आवश्यकता पहले से कहीं अधिक है। चिकित्सा मुद्दे हमेशा बुजुर्ग लोगों के साथ जुड़े रहे हैं, लेकिन सभी आयु समूहों के लिए कोविड -19 के निकटस्थ खतरे ने व्यक्तियों को किसी भी आयु के होने के बावजूद ,स्वास्थ्य बीमा खरीदने के लिए आश्वस्त किया है|

यदि आपके पास स्वास्थ्य बीमा नहीं है और आप एक खरीदना चाहते हैं, तो यहां बताया गया है वो जो आपको पता होना चाहिए:

चिकित्सा परीक्षणों के बिना प्रक्रिया शुरू करना

स्वास्थ्य बीमा प्राप्त करना एक सीधी प्रक्रिया है। आप अपनी पसंद की योजना और बीमाकर्ता का चयन कर सकते हैं और कंपनी से संपर्क कर सकते हैं। आमतौर पर, बीमाकर्ता बीमा राशि पर निर्णय लेने से पहले एक चिकित्सा परीक्षण करा सकता है। हालांकि, कोरोनावायरस और लॉकडाउन के कारण, वर्तमान में चिकित्सा परीक्षण करवाना आसान नहीं है। इस समस्या से निपटने के लिए, कुछ बीमा कंपनियों ने टेलीमेडिकल परीक्षण करना शुरू कर दिया है। इस प्रक्रिया के तहत, एक डॉक्टर आपको फोन करता है और आपसे आपके स्वास्थ्य के बारे में कुछ सवाल पूछता है। आपके उत्तरों के आधार पर, बीमा कंपनी आपकी चिकित्सा स्थिति का मूल्यांकन करती है और आपको एक उपयुक्त बीमा राशि प्रदान करती है। यह आवश्यक है कि आप सभी प्रश्नों का सच्चाई से उत्तर दें और टेलीमेडिकल टेस्ट के दौरान डॉक्टर को अपना पूरा मेडिकल इतिहास बताएं। आपके धूम्रपान और पीने की आदतों से लेकर किसी भी दवाई के सेवन तक जो आप रोजाना कर रहे हैं, सब कुछ महत्वपूर्ण है। इस तरह की जानकारी छुपाने से बाद में आपके दावे को खारिज किया जा सकता है।

सही बीमा योजना चुनना

स्वास्थ्य बीमा खरीदना सरल है, लेकिन आदर्श योजना को चुनना मुश्किल हो सकता है, विशेष रूप से ऐसे समय में जब सामाजिक दुरी के कारण आपको घर से बाहर निकलने और बीमा एजेंट से मिलकर किसी पॉलिसी के फायदे एवं नुकसानों की चर्चा करना संभव नहीं हो पता हैं। हालांकि, अधिकांश बीमा प्रदाता आपको ऑनलाइन बीमा खरीदने देते हैं। आप एक योजना चुन सकते हैं, एक ग्राहक प्रतिनिधि के साथ ऑनलाइन चैट कर सकते हैं, और राइडर जोड़ सकते हैं - सभी अपने घर पर रहकर।

स्वास्थ्य बीमा खरीदते समय आपको निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए:

  • कवरेज: कवर की मात्रा प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग हो सकती है। यदि आप युवा हैं, तो आप मामूली प्रीमियम के लिए एक व्यापक कवर चुन सकते हैं। मध्यम आयु वर्ग या उम्रदराज़ लोगों के लिए प्रीमियम अधिक होने की संभावना है लेकिन इससे आपको पर्याप्त राशि का चयन करने से नहीं रुकना चाहिए। कवरेज उस शहर पर भी निर्भर करेगा जिसमें आप रहते हैं। स्वास्थ्य सेवा का खर्च आमतौर पर टियर बी और टियर सी शहरों के मुकाबले टियर ए शहरों में अधिक होता है। इन पहलुओं को ध्यान में रखें और एक उपयुक्त कवर चुने ।
  • नेटवर्क अस्पताल: प्रत्येक बीमाकर्ता अपने नेटवर्क के एक भाग के रूप में अस्पतालों की एक अनोखी सूची प्रदान करता है। ये नेटवर्क अस्पताल स्वास्थ्य आपातकाल के समय अस्पताल में नागदरहित इलाज, भुगतान में आसानी आदि जैसे कई लाभ प्रदान करते हैं। योजना चुनने से पहले नेटवर्क अस्पतालों की सूची को जांच लें। सुनिश्चित करें कि कम से कम एक सूचीबद्ध अस्पताल आपके घर से सुविधाजनक दूरी पर हो और आपको विभिन्न प्रकार के उपचार और सुविधाएं प्रदान करता हो जिनकी आपको आवश्यकता हो सकती है।
  • सह-भुगतान विकल्प: सह-भुगतान के तहत, आप स्वास्थ्य सम्बन्धी व्यय के एक हिस्से को स्वयं निपटाते हैं, और शेष भाग आपके बीमाकर्ता द्वारा कवर किया जाता है। यह बीमा कंपनियों द्वारा पॉलिसीधारकों द्वारा अनावश्यक दावों की संख्या को कम करने का एक तरीका है। सह-भुगतान योजनाएं कम प्रीमियम का लाभ भी दे सकती हैं। किसी भी दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने से पहले उस खंड और उसके नतीजों को अच्छे से समझ लें ।
  • छिपी हुई सीमाएँ: कुछ बीमाकर्ता समग्र बीमा राशि के लिए सीमाएँ तय करते हैं। उदाहरण के लिए, कमरे का किराया कुल बीमा राशि का एक हिस्सा होगा जिसके लिए कुल कवरेज राशि से ऊपर और अधिक भुगतान नहीं किया जाएगा। कुछ अस्पतालों में दैनिक कमरे के शुल्क बहुत अधिक हो सकते हैं, और इससे आपका अंतिम बिल बढ़ सकता है। किसी ऐसी योजना की तलाश करने की सलाह दी जाती है जिसमे ऐसे अप्रत्यक्ष खर्च न हो ।
  • डे-केयर उपचार: सभी प्रक्रियाओं में अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती है। मामूली प्रक्रियाओं या उपचार जैसे डायलिसिस, कीमोथेरेपी, फिजियोथेरेपी, आदि कुछ घंटों या उससे कम समय में किए जा सकते हैं। यदि आपकी बीमा योजना केवल अस्पताल में भर्ती होने के खर्च को कवर करती है, तो आपको अपनी खुद की जेब से डेकेयर उपचार के लिए भुगतान करना पड़ सकता है।
  • अतिरिक्त लाभ: उन योजनाओं की तलाश करें जो मैटरनिटी राइडर प्रदान करती हैं और मुफ्त चिकित्सा जांच जैसे ऐड-ऑन प्रदान करती हैं। ऐसी योजना चुनें जिसमें दवाओं के खर्च, अस्पताल में भर्ती होने के बाद के चेक-अप और परामर्श आदि शामिल हों। ये भविष्य में आपके काम आ सकते हैं और आपके कुल खर्च को कम कर सकते हैं।
  • दावा प्रक्रिया: दावा प्रक्रिया यथासंभव सरल होनी चाहिए। एक आदर्श योजना में न्यूनतम दस्तावेज मांगे जाने चाहिए, निदान पर अग्रिम भुगतान करना चाहिए और नागदरहित अस्पताल में भर्ती करना चाहिए।

एक पर्याप्त बीमित राशि का निर्धारण

एक स्वास्थ्य बीमा योजना का चयन करते समय चिकित्सा देखभाल की बढ़ती लागत को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए। हालांकि यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि अब से 10 या 15 साल बाद इलाज में कितना खर्च हो सकता है, आप एक सुझाव पाने के लिए अतीत को देखने का प्रयास कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, एक हृदय सम्बंधित प्रक्रिया जिसकी लागत आज 4 से 5 लाख है, एक दशक पहले इसकी लागत केवल 1 लाख रुपये होगी । अपने परिवार के उन रोगों और बीमारियों के इतिहास का मूल्यांकन करने का प्रयास करें जो आपको या आपके बच्चों को भी होने की उच्च संभावना है। अब इन बीमारियों के उपचार की वर्तमान लागत की जांच करें और भविष्य में ऐसी चिकित्सा स्थिति के खर्च का आकलन करने का प्रयास करें।

इसके अलावा, आपकी जीवनशैली की आदतें, परिवार के आश्रित सदस्यों की संख्या आदि आपको एक सही राशि पर पहुंचने में मदद कर सकती हैं। फैमिली फ्लोटर पैक या स्पाउसल प्लान अपेक्षाकृत कम प्रीमियम पर पूरे परिवार के लिए एक उच्च कवर पाने का एक शानदार तरीका है।

ऑनलाइन विभिन्न बीमा पॉलिसियों की तुलना करना

प्रत्येक बीमाकर्ता के पास नियमों और प्रक्रियाओं का एक विशिष्ट समूह होता है, जब बात खरीद, दावों, निपटान आदि की हो। यहाँ कुछ चीजें हैं जिन पर आपको नज़र रखनी चाहिए:

  • दावा निपटान अनुपात: यह आपको यह पता लगाने में मदद करता है कि एक कंपनी एक वर्ष में प्राप्त कुल दावों में से कितने दावों का निपटान करती है। जितना उच्च दर होगा , उतनी बेहतर कंपनी की प्रतिष्ठा होगी।
  • अनुमानित दावा अनुपात: यह किसी कंपनी द्वारा अर्जित प्रीमियम के संबंध में निपटान किये गए दावों की कुल राशि को संदर्भित करता है। यदि यह अनुमानित दर 100% से अधिक है, तो कंपनी जल्द ही घाटे में जा सकती है, क्योंकि वे प्रीमियम के मुकाबले दावों में अधिक पैसा दे रहे हैं।
  • ग्राहक समीक्षा: ऑनलाइन दुनिया का आकर्षण यह है कि प्रत्येक सेवा, उपयोगकर्ताओं द्वारा मूल्यांकित और समीक्षा की जाती है। ये टिप्पणियां और प्रतिक्रिया आपको यह समझने में मदद कर सकती हैं कि बीमा कंपनी कितनी अच्छी तरह काम करती है, जिससे एक त्रुटिरहित और निर्विघ्न बीमा प्रक्रिया की गारंटी मिलती है।
  • पॉलिसी दस्तावेज: बीमा प्रदाता को चुनने का निर्णय लेने से पहले पॉलिसी कागजात को ध्यान से पढ़ना महत्वपूर्ण है। बीमा शब्दजाल, कानूनी वजीफा आदि, आपको सही योजना और प्रदाता चुनने में मदद कर सकते हैं।

आखरी शब्द

सही स्वास्थ्य बीमा योजना का चयन कई कारकों पर निर्भर करता है। लेकिन यह समझना महत्वपूर्ण है कि किसी और के लिए जो सही है वह आपके लिए जरूरी नहीं सही हो । इसलिए, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप ऐसी पॉलिसी चुनें जो आपकी विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरी करती हो।