स्वास्थ्य बीमा पर आपका 10 मिनट का मार्गदर्शक

आमतौर पर लोगों को स्वास्थ्य बीमा की याद तब आती है जब वे या उनके परिवार के सदस्य स्वास्थ्य संबंधी समस्या से जूझते हैं और इलाज पर अच्छा-खासा पैसा खर्च करना पड़ता है।

guide to health insurance

आमतौर पर लोगों को स्वास्थ्य बीमा की याद तब आती है जब वे या उनके परिवार के सदस्य स्वास्थ्य संबंधी समस्या से जूझते हैं और इलाज पर अच्छा-खासा पैसा खर्च करना पड़ता है। ऐसे मौकों पर अक्सर लोगों को समय रहते स्वास्थ्य बीमा नहीं लेने पर अफसोस जताते देखा गया है। गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएँ काफ़ी महंगी हो गई हैं। इसलिए स्वास्थ्य से जुड़ी अगर कोई गंभीर समस्या आती है तो वह आपके बजट को बुरी तरह से बिगाड़ के रख देगी। मसलन, कैंसर के इलाज के लिए आपको 20 लाख रुपए तक खर्च करने पड़ सकते हैं। ऐसा इसलिए कि कैंसर के इलाज में काम आने वाली लक्षित दवाइयाँ काफी महंगी होती हैं। 

यह ऐसे खर्च होते हैं जिसके बारे में आमतौर पर कोई भी इंसान सोचता नहीं है। लेकिन, यह हमारे ऊपर काफ़ी वित्तीय बोझ बढ़ा देता है। हो सकता है आपकी कंपनी ने आपको स्वास्थ्य बीमा कवर दिया हो, लेकिन इसकी कुछ सीमा होती है। आप जब तक कंपनी में काम करेंगे, तब तक ही इस बीमा कवर के हकदार रहेंगे, कंपनी के छोड़ देने के बाद नहीं।         

इसलिए अचानक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं पर आने वाले ऐसे खर्चों से निपटने के लिए स्वास्थ्य बीमा लेना ज़रूरी है। स्वास्थ्य बीमा, एक बीमा पॉलिसी है जिसके तहत बीमाधारक (पॉलिसी होल्डर) या बीमित व्यक्ति के चिकित्सा और शल्य चिकित्सा पर आने वाले खर्च की भरपाई की जाती है।

स्वास्थ्य बीमा आपको कब खरीदना चाहिए: सीधे शब्दों में अगर कहें तो जितनी जल्दी खरीदेंगे, उतना ही अच्छा रहेगा। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है, वैसे-वैसे आप में बीमारी बढ़ने की आशंका भी बढ़ती जाती है। ऐसे में आपको स्वास्थ्य बीमा पर ज्यादा प्रीमियम देने पड़ेंगे। इसके अलावा, अगर आप किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो स्वास्थ्य बीमा मिलने में भी कई तरह की दिक्कतें आ सकती हैं। कई बार ऐसा होने पर इंश्योरर या बीमा कंपनी आपके बीमा अनुरोध को खारिज कर सकती है। आपसे ज़्यादा प्रीमियम की मांग की जा सकती है या फिर आप में जितनी तरह की बीमारियाँ हैं उसके साथ ही उन बीमारियों के संभावित असर के खिलाफ बीमा लेने के लिए कहा जा सकता है। 

 क्या ये आपकी सुरक्षा का सबसे बेहतर उपाय है?  स्वास्थ्य बीमा सभी वयस्कों के लिए ज़रूरी है और जितनी जल्दी हो सके उनको खरीद लेना चाहिए।

अगर आपको आपकी कंपनी की तरफ से पहले से ही स्वास्थ्य बीमा कवर मिला हुआ है तो आप टॉप अप योजना ले सकते हैं। जहाँ कंपनी का समूह स्वास्थ्य बीमा काम नहीं करता है, वहाँ आपकी टॉप अप योजना काम करेगी। जैसे, अगर आपने कंपनी छोड़ दी है तो कंपनी का समूह स्वास्थ्य बीमा आपके काम नहीं आएगा।

इसके अलावा आप खुद के लिए स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी या फिर अपने परिवार वालों के साथ संयुक्त फैमिली फ्लोटर योजना खरीद सकते हैं। दोनों ही स्थिति में क्षतिपूर्ति योजनाएँ आपके इलाज के वास्तविक खर्चों के आधार पर मुआवज़ा देती हैं।

अगर आप कैंसर, मधुमेह,दिल का दौरा पड़ने जैसी गंभीर बीमारियों के ख़िलाफ खुद को सुरक्षित करना चाहते हैं तो आपको गंभीर बीमारी वाले सुरक्षा विकल्पों पर विचार करना चाहिए। इसके लिए आप स्टैंडअलोन क्रिटिकल इलनेस योजना या फिर जीवन बीमा योजना के तहत क्रिटिकल इलनेस राइडर ले सकते हैं। यह सारी बीमारियाँ विशेष गंभीरता और घटना की आवृति से जुड़ी हुई हैं, इसलिए इन बीमारियों का इलाज काफी महंगा है। 

निष्कर्ष: स्वास्थ्य बीमा हर एक इंसान की भविष्य की योजनाओं का अहम हिस्सा है। हालांकि, कई बार लोग उलझन में पड़ जाते हैं। अगर अब भी आप स्वास्थ्य बीमा को लेकर किसी उलझन में हैं तो यहाँपर स्वास्थ्य बीमा के लिए प्रतिरूपी (डमी) दिए गए हैं: 7 ज़रूरी  सवाल और जवाब

संबंधित लेख