इंश्‍योरेंस में फ्री-लुक पीरियड का ज्‍यादा से ज्‍यादा फायदा उठाने के लिए 5 सुझाव

प्रीति कुलकर्णी कहती हैं, इंश्योरेंस में 15 दिन का फ्री-लुक पीरियड एक ग्राहक अनुकूल सुविधा है। यहाँ वे बातें हैं जो इसके बारे में आपको पता होनी चाहिए।

tips to make the best out of free look insurance

1) फार्म पर संपर्क का सही विवरण दें

जब आप इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदें, तो आवेदन पत्र में संपर्क विवरण खुद भरें। अक्सर, एजेंट आपना फोन नंबर दे देते हैं। इसका मतलब यह है कि बीमाकर्ता से आने वाली अनिवार्य वेल्कम कॉल का, आप यानी पॉलिसीधारक की बजाय उनके द्वारा उत्तर दिया जाता है। किसी भी गलतफहमी से बचने के लिए, वेल्काम कॉल के दौरान पॉलिसी की विशेषताएं विस्तार से समझाईं जाती हैं, । उस समय, यदि एजेंट ने झूठे वायदों से आप को गुमराह किया है, तो आप पॉलिसी की समाप्ति के लिए तुरंत कॉल कर सकते हैं।

2) डिलीवरी की तिथि सहेज कर रखें

15 दिन का फ्री-लुक पीरियड उस दिन से शुरू होता है जिस दिन आप पॉलिसी प्राप्त करते हैं। सुनिश्चित करें कि आपने पॉलिसी दस्तावेज से युक्त लिफाफा सुरक्षित रखा है क्योंकि इसमें डिलीवरी की तिथि होती है। इसके अलावा, रसीद पर हस्ताक्षर करने से पहले, तिथि की जाँच करें। आपको सतर्क रहना चाहिए कि आप पहले की तिथि वाली रसीद पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं, क्योंकि इससे आपके 15 दिन के ट्रायल पीरियड में कटौती हो जाएगी और आप रद्द करने की समय सीमा चूक सकते हैं।

3) इंश्योपरेंस कंपनी के माध्यम से पॉलिसी रद्द करें

यदि आप अपनी पॉलिसी रद्द करने का फैसला करते हैं तो एजेंट को मौखिक सूचना भर न दें। एजेंट प्रक्रिया में देरी करने की कोशिश कर सकता है। ऐसे कई उदाहरण हैं जहां एजेंट दस्तावेज दबा कर रख लेते हैं, ताकि फ्री-लुक पीरियड समाप्त हो जाए। पॉलिसी रद्द करने के अपने निर्णय की सूचना देने के लिए इंश्योरेंस कंपनी के कस्टमर केयर पर कॉल करें। अपनी पॉलिसी रद्द करने का आवेदन प्रस्तुत करने के लिए आपको इंश्योनरेंस कंपनी के कार्यालय जाना चाहिए। कई इंश्योरेंस कंपनियां रद्द करने का फार्म अपनी वेबसाइट पर भी डालती हैं, जिसे डाउनलोड किया जा सकता है। सुनिश्चित करें कि आपको आपके आवेदन की पावती देने वाली समय की मुहर लगी रसीद मिली है।

4) प्रीमियम की पूर्ण वापसी की उम्मीद न करें

रद्द करने के स्थिति में भुगतान किया गया पूरा प्रीमियम वापस नहीं होता है। यहां तक कि यदि आप फ्री-लुक पीरियड के भीतर भी पॉलिसी लौटाते हैं, तो भी इंश्योरेंस कंपनी चिकित्सा परीक्षण और स्टांप ड्यूटी पर हुए खर्च को घटाने के बाद ही भुगतान की गई राशि वापस करती है। यदि रिस्क कवर पहले से ही प्रभाव में आ चुका है, तो पॉलिसी रद्द करने से पहले उस अवधि के लिए आनुपातिक जोखिम प्रीमियम की कटौती की जाती है।

5) यूलिप के लिए धन वापसी की प्रक्रिया को समझें

यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस पॉलिसियों की स्थिति में आवंटित यूनिट की उस दिन के नेट एसेट वैल्यू पर इंश्योरेंस कंपनी द्वारा पुनर्खरीद की जाएगी जिस दिन आपकी पॉलिसी रद्द होगी। उदाहरण के लिए, यदि आपका प्रीमियम 100 रुपये था, और इंश्योरेंस कंपनी ने शुल्क के रूप में 20 रुपये की कटौती की और यह मानते हुए कि इस अवधि के दौरान आपकी यूनिटों का एनएवी बढ़कर 85 रूपये हो गया है फंड आप्शन में 80 रुपये का निवेश किया, तो इंश्योपरेंस कंपनी को 85 प्लस 20 रुपये वापस करना होगा, लेकिन 105 रुपये से स्टांप शुल्क, चिकित्सा और उस अवधि के लिए मोर्टेलिटी शुल्क घटाने के बाद।.

संबंधित लेख