एक गृह ऋण खोज रहे हैं ? यहां बताया गया है वो जो आपको जानना चाहिए

गृह ऋण एक बड़ी लम्बी अवधि का दायित्व है ,इसलिए अपनी तरफ से शोध किये बिना इसे न लें |

एक गृह ऋण खोज रहे हैं ? यहां बताया गया है वो जो आपको जानना चाहिए

एक घर खरीदना यक़ीनन आपके जीवन का सबसे बड़ा वित्तीय निर्णय होगा | इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए ,आपको या तो किसी बड़ी निवेश को तरल करना पड़ेगा या एक गृह ऋण लेना पड़ेगा | आजकल, बाज़ार में कई गृह ऋण उत्पाद मौजूद है और कई ऋणदाता ,इच्छुक घर खरीदारों को सर्वोत्तम संभव ऋण शर्तें देने को तैयार हैं |

हालांकि, एक गृह ऋण उच्च मूल्य का ऋण होता है जो एक या दो दशक तक चलता है | यह एक दीर्घकालिक देनदारी है जिसमे अच्छा-ख़ासा ब्याज लगता है | इन सभी कारकों को ध्यान में रखते हुए, आपको गृह ऋण लेने से पहले सही प्रश्न पूछने चाहिए और उनके जवाबों से संतुष्ट होना चाहिए|

गृह ऋण के लिए आवेदन करते वक़्त आपको यहां दिए गए कुछ प्रश्न पूछने चाहिए |

1. मेरी क्रेडिट स्कोर और पात्रता क्या है ?

किसी विशेष संपत्ति को चुनने से भी पहले, आपको अपने क्रेडिट स्कोर और ऋण पात्रता जांच लेनी चाहिए | यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड के बिलों और मौजूदा ऋण को समय पर चुकाते आये हैं ,तो आपका अच्छा क्रेडिट स्कोर होगा | यह ,आपकी आय के साथ, उच्च ऋण पात्रता को बढ़ावा देगा | यदि आपको अपनी पात्रता पता है तो आप अपने बजट और वहन-शक्ति के अनुसार सम्पत्तियों का चयन कर पाएंगे |

2. क्या मेरा ऋण पूर्व-अनुमोदित है ?

आप अपनी पात्रता के अनुसार ऋणदाता से अपना गृह ऋण पूर्व-अनुमोदित करने को कह सकते हैं | यह आपको अपने लिए घर ढूंढ़ते वक़्त एक साफ़ वित्तीय दृश्य देगा | इसके अलावा, पूर्व-अनुमोदन आपको बेहतर बातचीत करने देगा क्यूंकि किसी विशेष घर की बुकिंग की ज़रूरत अब शुरू होगी |

3. मुझे कितने ऋण के लिए आवेदन करना चाहिए ?

हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां और बैंक आमतौर पर संपत्ति मूल्य का 75 से 90% ऋण प्रदान करते है | यह भी आपकी ऋण पात्रता पर निर्भर करेगा | यदि आप अपनी पात्रता बढ़ाना चाहते हैं , तो आप एक सह-आवेदक शामिल कर सकते हैं | एक ऑनलाइन होम कैलकुलेटर देखें और अपने पसंदीदा सामान मासिक किश्त(ई.एम.आई.) चुनें | इसके लिए, आपको अपनी ऋण राशि कम करनी पड़ सकती है और अपने डाउन पेमेंट को बढ़ाना पड़ सकता है,यदि संभव हो |

4. किन दस्तावेज़ों की ज़रूरत होती है ?

आप नहीं चाहेंगे कि आपके दस्तावेजों में कमी के कारण ऋण प्रक्रिया में रुकावट आये | पहचान प्रमाण,आय और पते के प्रमाण के अलावा, गृह ऋण लेने के लिए संपत्ति के दस्तावेज़ों की भी ज़रूरत होती है | आपको जमा करने वाले दस्तावेज़ों एवं उनकी पुनर्प्राप्ति की जानकारी होनी चाहिए | संपत्ति के दस्तावेज़ों की सुरक्षित हिरासत और आसान पुनर्प्राप्ति ज़रूरी है ,विशेषतः तब जब आप ऋणदाता के स्थान में न रहते हो |

5. इ.एम.आई. डिफ़ॉल्ट के परिणाम क्या होते हैं ?

इ.एम.आई. डिफ़ॉल्ट के सम्बन्ध में ऋणदाता की पॉलिसी के बारे में सूचित रहना आवश्यक है | यह आपके हित में होगा यदि आप अपने इ.एम.आई. का नियमित रूप से भुगतान करें ,वर्ना लगातार तीन डिफ़ॉल्ट होने पर ऋणदाता न्यायालय के हस्तक्षेप के बिना ही आपके खिलाफ कार्यवाही कर सकते हैं | आपको यह भी मालूम करना चाहिए कि यदि कर्ज़दार किसी वित्तीय मुश्किल में पड़ जाये तो क्या ऋणदाता ऋण विस्तार देना चाहेगा या नहीं |

6. मेरी ऋण की अवधि क्या होनी चाहिए ?

ऋण अवधि के बारे में निर्णय लेते वक़्त आपको ई.एम.आई. के बोझ और ब्याज के खर्च को ध्यान रखना चाहिए | लम्बी अवधि में, ई.एम.आई. का भार कम होगा परन्तु कुल ब्याज बहुत बढ़ जाएगा| एक ऋण कैलकुलेटर के मुताबिक़, 50 लाख के ऋण के लिए 8% निश्चित ब्याज पर ,ई.एम.आई और ब्याज के खर्च लगभग :

  • 10 वर्ष: ई.एम.आई. 60,600 रुपये ,कुल ब्याज 22.8 लाख रुपये
  • 20 वर्ष: ई.एम.आई. 41,800 रुपये ,कुल ब्याज 50.4 लाख रुपये
  • 30 वर्ष: ई.एम.आई. 36,700 रुपये ,कुल ब्याज 82.0 लाख रुपये

7. किस दर से ब्याज लगाया जाता है?

गृह ऋण की तुलना करते वक़्त, ब्याज दर हमेशा ही एक निर्णायक कारक होता है | आइये एक उदाहरण देखते हैं | 50 लाख का ऋण जो 20 वर्षों के लिए 8% ब्याज दर पर लिया गया है , उसकी कुल भुगतान की जानी वाली ब्याज 50.37 लाख होगी ,जो मूलधन से भी ज्यादा है !

इसकी ब्याज दर स्थिर या अस्थायी हो सकती है | निश्चित ब्याज दर से,आपकी ई.एम.आई. उस ऋण अवधि के लिए अपरिवर्तनीय हो सकती है |हालांकि,आप ब्याज दर में आयी किसी भी गिरावट का कोई लाभ नहीं उठा सकेंगे | वर्तमान महामारी की स्थिति में, आर.बी.आई. ने काफी हद तक ब्याज दर को कम किया है | ऐसा कोई व्यक्ति जिसकी निश्चित गृह ऋण ब्याज दर है,इस लाभ का आनंद नहीं ले सकता है | दूसरी ओर, एक अस्थायी ब्याज दर में किसी भी उतार-चढ़ाव से आपकी ऋण देयता बढ़ जाती है|

यह ध्यान देने योग्य है कि ऋणदाता, निश्चित ब्याज देने का दावा कर सकता है , परन्तु यह केवल निश्चित समय के लिए उपलब्ध हो सकता है या उनके नियम एवं शर्तों में एक रिसेट खंड हो सकता है |

8. प्रसंस्करण फीस और खर्चें क्या होते हैं ?

ऋणदाता,आमतौर पर ऋण को अनुमोदित करने से पहले एक बार प्रोसेसिंग शुल्क वसूलता है | आपको अपने चुने हुए गृह ऋण की कंपनियों के प्रोसेसिंग शुल्क के बारे में पता लगाना चाहिए ताकि आप जान सकें कि किसकी फीस सबसे कम है | ऋण के शुरूआती खर्च के साथ कुछ अतिरिक्त शुल्क भी होते हैं, इसलिए आपको अंतिम चुनाव करने से पहले इसको भी ध्यान में रखना चाहिए |

9. क्या इसमें एक पुरोबंध( फोरक्लोज़र) शुल्क या पूर्व भुगतान दंड शामिल होता है ?

एक ऋण को पुरोबंध करने से आपके बहुत सारे पैसे बच सकते हैं जो अन्यथा आप ब्याज की तरह चुकाते| हालांकि, बैंकों ने अतीत में ऐसे अग्रिम भुगतानों के लिए अर्थदंड वसूलें हैं | आर.बी.आई. ने अब किसी भी अस्थायी ब्याज ऋण पर इसे वसूलने पर रोक लगा दी है | एक ऋण का चयन करते वक़्त, जानिये कि क्या एक पुरोबंध मानदंड कर्ज़दार के हित में होता है,विशेषतः छिपे खर्च के रूप में| एक आंशिक पूर्वभुगतान करने से देनदारी भी कम होती है और अतीत में बैंकों ने पूर्वभुगतान अर्थदंड भी वसूला है |

10. ऋण अनुबंध असल में क्या बताता है ?

मौखिक चर्चा और स्पष्टीकरण के बावजूद, आपको ऋण अनुबंध की एक कॉपी के बारे में पूछना चाहिए | अपने किसी भी शंका की पुष्टि मांगे | यह अभ्यास ऋणदाता के नियम एवं शर्तों की व्यापक जानकारी के लिए आवश्यक है |

अंतिम पंक्तियाँ

गृह ऋण ने घर खरीदने के तरीकों को आसान बना दिया है | उन्होंने लोगों को अपना घर खरीदने के सपने देखने में मदद की है,तब भी जब उनके पास तुरंत खरीदने के फंड्स नहीं थे | हालांकि, गृह ऋण का चुनाव काफी शोध करने के बाद ही किया जाना चाहिए | यदि आपके पास सभी गृह ऋण सम्बंधित संदेह और चिंताओं का जवाब है ,तो आपके लिए उपयुक्त गृह ऋण चुनना आसान हो जाएगा |

संबंधित लेख