तलाक से गुज़र रहे हैं? यहां बताया गया है कि आपकी बीमा पॉलिसियों का क्या होगा

अपने बीमाकर्ता के आधार पर, आप अपने स्वास्थ्य बीमा कवरेज के साथ अपनी शादी के बंधन से बाहर निकल सकते हैं।

तलाक से गुज़र रहे हैं? यहां बताया गया है कि आपकी बीमा पॉलिसियों का क्या होगा

सभी रिश्ते समय के साथ बदलते हैं; कुछ मजबूत हो जाते हैं जबकि अन्य टूटने लगते हैं। विवाह भी कोई अपवाद नहीं हैं। यद्यपि विवाह को जीवनभर का समर्पण माना जाता है; फिर भी पहले से कहीं अधिक भारतीय जोड़े आज तलाक का विकल्प चुन रहे हैं। ऑर्गनाइजेशन फॉर इकोनॉमिक को-ऑपरेशन एंड डेवलपमेंट (ओ.इ.सी.डी.) द्वारा प्रकाशित आंकड़े बताते हैं कि 2010 से भारत में तलाक की दर 13 गुना बढ़ गई है।

कोई भी अलगाव - चाहे आपसी सहमति से हो या न हो - विवाहित जोड़ों के लिए कुछ वित्तीय परिणाम लाती हैं, जो केवल भावनात्मक परेशानियों को बढ़ाती है। इसलिए, यह जोड़े के सर्वोत्तम हित में होगा कि वो अलग होने से पहले,औपचारिक रूप से वित्तीय निपटान योजना में आपसी सहमति कर ले , खासकर जब बात बीमा की हो। इसके दो कारण हैं, जिन्हें हम नीचे रेखांकित करेंगे।

सबसे पहला, बीमा योजना (जीवन, स्वास्थ्य, घर, ऑटो) संकट की स्थिति में वित्तीय निरंतरता प्रदान करने के लिए होती है। जब तलाक की प्रक्रिया अदालत में चल रही हो तब उसे समाप्त होने देना, दोनों पक्षों को जोखिम में डाल सकता है। दूसरी बात यह है कि यदि संपत्ति के विभाजन को लेकर आपसी सहमति से कोई समझौता नहीं हो पाता है, तो अदालत का फैसला दोनों के लिए बाध्यकारी होगा। बाद में अपील दायर करने से पति या पत्नी को अधिक राहत नहीं मिल पाएगी।

फैमिली फ्लोटर सेहत बीमा योजना एक शादीशुदा जोड़े और उन पर आश्रित बच्चों और / या ससुराल वालों को मेडिकल खर्च से कवर करने के लिए होते हैं। अधिकांश पारिवारिक फ्लोटर योजनाओं में वार्षिक प्रीमियम होता है। कुछ मामलों में, कर लाभ का दावा करने के लिए युगल आपस में प्रीमियम भुगतान को विभाजित कर सकते है। स्वाभाविक रूप से, यह उनके व्यक्तिगत रूप से देय राशि को कटौती कर आधा करने में भी मदद करता है।

आइए अब देखते हैं कि तलाक की स्थिति में एक परिवार फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा योजना कैसे प्रभावित होती है।

1. फ्लोटर से व्यक्तिगत योजना में रूपांतरण

तलाक के मामले में, बीमाकर्ता को जल्द से जल्द सूचित किया जाना चाहिए। वह एक फ्लोटर को एक व्यक्तिगत योजना में बदलने के लिए तैयार हो सकता है। हालाँकि, 'नीति शब्द' या नियम और शर्तें स्पष्ट रूप से बताएंगी कि क्या इस तरह का रूपांतरण संभव है।बीमाकर्ता के जोखिम मूल्यांकन करने के लिए दम्पत्तियों को फिर से चिकित्सा जांच से गुजरना पड़ सकता है।

2. नीतियों में परिवर्तन

बीमाकर्ता के विवेक के अनुसार, एक रूपांतरण की अनुमति दी जा सकती है। संभावना है कि एक ही राशि के कवरेज के लिए दंपति को अधिक प्रीमियम देना पड़ सकता है। इसके अलावा, पहले से मौजूद बीमारियों के लिए प्रतीक्षा अवधि फिर से शुरू हो सकती है और कुछ चिकित्सा स्थितियों को कवरेज के दायरे से बाहर रखा जा सकता है।

3. लाभ के संभावित नुकसान

यदि तलाक पॉलिसी के मध्यावधि में होता है, तो पॉलिसी को समाप्त करना पड़ सकता है क्योंकि इस स्थिति में पॉलिसी रूपांतरण की अनुमति केवल नवीकरण पर दी जाती है। दंपति गंभीर बीमारी के मामले में 30% सह-भुगतान खंड की छूट के लिए अब पात्र नहीं होंगे। जाहिर है, एकत्रित किये गए बिना क्लेम के बोनस क्रेडिट ख़त्म कर दिए जाएंगे और प्रीमियम पर कोई छूट नही मिलेगी यदि नवीनीकरण की छूट अवधि समाप्त हो जाए।

जीवनसाथी (और अन्य लाभार्थियों) के नाम रद्द होने के बाद बीमा अनुबंध की शर्तें बदल जाती हैं। जब यह प्रभावी हो जाता है, तो किसी भी अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान प्रो-राटा आधार पर वापस किया जाता है।

4. बीमा पोर्टेबिलिटी

यदि आपका बीमा प्रदाता अनुमति देता है, तो आप तलाक के बाद परिवार फ्लोटर योजना को एक व्यक्तिगत कवर में बदल सकते हैं। जब पॉलिसी नवीनीकरण होने वाला होता है तो यह आपको एक अलग प्रदाता में पोर्ट(स्थानांतरित) करने में मदद भी कर सकता है ।

5. परिवार पर प्रभाव

यदि आपके वयस्क बच्चे हैं, तो परिवार फ्लोटर स्वास्थ्य योजना की उपयोगिता सीमित हो सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि 25 या उससे अधिक उम्र के आश्रित ऐसी योजनाओं में कवर नहीं होते हैं। इस स्थिति में, पॉलिसी को समाप्त होने देने में अधिक समझदारी होती है। जैसा कि बताया गया है, पति-पत्नी के बुजुर्ग माता-पिता तब तक स्वास्थ्य कवरेज से वंचित रह सकते हैं जब तक उनका अपना स्वास्थ्य बीमा न हो।

6. नामांकित व्यक्ति बदलना

एक बार तलाक की प्रक्रिया को अंतिम रूप दे दिया जाए, तो पॉलिसी धारक नॉमिनी में बदलाव का अनुरोध कर सकता है। बीमाकृत परिवार का सदस्य ही जीवनसाथी को नामिती के रूप में बदल सकता है। ‘बीमाकृत परिवार' से तात्पर्य किसी ऐसे व्यक्ति से है जो प्रस्तावक की मृत्यु की स्थिति में वित्तीय नुकसान उठा सकता है। परिपक्वता पर आसान निपटान के लिए अपने स्वयं के बच्चों को नामांकित करना एक अच्छा अभ्यास हो सकता है।

7. नाबालिगों के अधिकार

यदि बच्चा नाबालिग है, तो एक 'नियुक्ति' या 'देखभाल करने वाला' नामित किया जाता है, जिस पर समय आने पर सही लाभार्थियों को आय हस्तांतरित करने के लिए भरोसा किया जा सकता है। पूर्व पति या पूर्व पत्नी को उम्मीदवार बनाया जाना असामान्य नहीं है। प्रक्रिया के अनुसार, प्रक्रिया शुरू करने के लिए नामांकित व्यक्ति के एक पत्र अनुरोध को बीमा कंपनी को भेजा जाना चाहिए।

8. एक नियोजक नियुक्त करना

एक सहयोगी दूसरे साथी की जगह बीमा योजना के अधिकारों और जोखिमों को वहन करता है। यदि उनकी शादी के दौरान ही अधिकार स्वेच्छा से हस्तांतरित किए गए थे, तो अलग होने के बाद भी, सहयोगी नीति पर नियंत्रण बनाए रखता है। इसमें नॉमिनी को मंजूरी देने या पुनः सहयोगी निर्धारित करने का अधिकार शामिल है। इसलिए, तलाक की प्रक्रिया पूरी होने से पहले , सहयोगी पुनःनिर्धारित करने वाले अधिकार फिर से तय कर लेना महत्वपूर्ण है।

आखिरी शब्द

स्वास्थ्य बीमा ,पॉलिसी धारकों को चिकित्सा आपातकाल के कारण होने वाले खर्चों का सामना करने में मदद करता है। एक तलाक पूरे परिवार के लिए यथास्थिति को बाधित कर सकता है। एक सहज परिवर्तन सुनिश्चित करने के लिए, विशेष रूप से नए नामांकितों को नियुक्त करने और पुन: सहयोगी के बदलाव करने के संबंध में, पति-पत्नी की जोड़ी पर समान रूप से भार पड़ता है। यह एक जोड़े को तलाक होने पर वित्तीय चिंताओं को दूर रख सकता है।

संबंधित लेख