LIC Jeevan Shiromani Policy: यह निवेश आपको करोड़पति बना सकता है

जीवन शिरोमणि पालिसी में निवेश कर बन सकते हैं करोड़पति।

LIC Jeevan Shiromani Policy

LIC Jeevan Shiromani policy benefits: एलआईसी जीवन शिरोमणि पॉलिसी, एचएनआई के लिए कंपनी द्वारा शुरू की गई सबसे लाभकारी पॉलिसियों में से एक है। यह एक गैर-लिंक्ड, सहभागी, व्यक्तिगत, जीवन बीमा बचत योजना है। इसमें आप चार साल निवेश करके 1 करोड़ रुपए के सम-एश्योर्ड की गारंटी ले सकते हैं। एलआईसी जीवन शिरोमणि योजना के अंतर्गत कम से कम पूरे एक वर्ष तक पॉलिसी के प्रीमियम के भुगतान के बाद और कुछ शर्तों के अधीन एक ऋण सुविधा भी उपलब्ध है। 

भारतीय जीवन बीमा निगम या एलआईसी भारत सरकार के अंतर्गत एक भारतीय वैधानिक बीमा और निवेश निगम है। एलआईसी लिंग, आयु और आर्थिक स्थिति के आधार पर बीमा प्रदान करती है, जिससे कि व्यावहारिक रूप से किसी भी व्यक्ति या समूह की ज़रूरतों को पूरा किया जा सके। एलआईसी के पास मध्यम या निम्न मध्यम वर्ग के लिए उत्कृष्ट बीमा पॉलिसियों के अलावा, उच्च निवल मूल्य वाले व्यक्तियों यानी हाई नेटवर्थ वाले लोगों के लिए भी कुछ उत्कृष्ट बीमा योजनाएं हैं। एलआईसी जीवन शिरोमणि पॉलिसी हाई नेटवर्थ वाले लोगों के लिए डिजाइन की गई है। 

यह एक सीमित प्रीमियम भुगतान मनी बैक लाइफ इन्श्योंरन्स प्लान है जिसमें न्यूनतम मूल बीमा राशि (सम-एश्योर्ड) 1 करोड़ रुपए है। इस पॉलिसी का पूरा लाभ लेने के लिए चार साल तक मोटी रकम जमा करनी होगी जिसे सालाना, छह महीने, तीन महीने, या मासिक तौर पर जमा किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: क्या जीवन बीमा करवाने से पहले आपको स्वास्थ्य परीक्षण के लिए कहा गया है?

जीवन शिरोमणि पॉलिसी के मुख्य लाभ 

1. मृत्यु लाभ: पॉलिसी लेने के पहले पांच वर्षों के भीतर पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाने पर, अर्जित गारंटीकृत अतिरिक्त राशि के साथ बीमित राशि का भुगतान किया जाएगा। पॉलिसी लेने के 5 वर्ष के बाद लेकिन पॉलिसी की परिपक्वता तिथि से पहले पॉलिसीधारक की मृत्यु होने पर, अर्जित गारंटीकृत बीमा राशि और लॉयल्टी एडीशन का भुगतान किया जाता है। यह बीमा राशि के वार्षिक प्रीमियम का 7 गुना, 125% मूल बीमा राशि, और सभी प्रीमियमों के योग के 105% से कम नहीं होगा।

2. उत्तरजीविता लाभ: यदि पॉलिसीधारक पॉलिसी की निश्चित अवधि तक जीवित रहता है, तो मूल बीमा राशि का एक निश्चित प्रतिशत देय होगा। पॉलिसी की शर्तों के अनुसार 14 वर्ष  की अवधिकी पॉलिसी के लिए 10वें और 12वें वर्ष में मूल बीमित राशि का 30%, 16 वर्ष  की अवधि  की पॉलिसी के लिए 14वें और 16वें वर्ष में मूल बीमित राशि का 35%, 18 वर्ष  की अवधि  की पॉलिसी के लिए 14वें और 16वें वर्ष में मूल बीमित राशि का 40%, और 20 वर्ष  की अवधिकी पॉलिसी के लिए 16वें और 20वें वर्ष में मूल बीमित राशि का 45% का भुगतान किया जाएगा।

3. मैच्योरिटी या परिपक्वता लाभ: यदि बीमा धारक पॉलिसी की अवधि पूरी होने तक जीवित रहता है और सभी प्रीमियमों का विधिवत भुगतान करता है, तो परिपक्वता पर धारक को बीमित राशि और अर्जित गारंटी समेत लॉयल्टी एडीशन प्राप्त होते हैं। परिपक्वता पर 14 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 40%, 16 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 30%, 18 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 20%, और 20 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 10% का भुगतान किया जाएगा।

4. अंतर्निहित (इनबिल्ट) जटिल बीमारी लाभ: यदि पॉलिसी धारक को किसी गंभीर बीमारी का पता चलता है और पॉलिसी प्रभावी है तो बीमित राशि का 10% एकमुश्त दिया जाएगा। इसके साथ ही पॉलिसी धारक को बीमारी की स्वीकृति तिथि से दो साल की अवधि के लिए प्रीमियम स्थगित करने का विकल्प दिया जाता है। इसके अलावा धारक को एलआईसी के साथ पैनलबद्ध उपलब्ध स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के माध्यम से चिकित्सा पर सेकेंड ओपिनियन लेने की सुविधा मिल सकती है।

5. कर: ऐसी बीमा योजनाओं पर लगाए गए सांविधिक कर (यदि कोई हों), तो ये भारत सरकार द्वारा लागू कर कानूनों के अंतर्गत आते हैं। 

पॉलिसी लेने के लिए आईडी प्रूफ, जन्म तिथि प्रमाण, पते के प्रमाण, नवीनतम फोटो और अगर प्रीमियम भुगतान की आवृत्ति मासिक है तो बैंक खाता विवरण जैसे दस्तावेजों की आवश्यकता होती है। एलआईसी कैलक्यूलेटर का उपयोग कर उम्र के अनुसार प्रीमियम की राशि के बारे में जाना जा सकता है।

यह भी पढ़ें: अपने जीवन बीमा के लिए नॉमिनी कैसे तय करें?

LIC जीवन शिरोमणि Plan

संवादपत्र

संबंधित लेख