Tax Planning: वित्तीय वर्ष 2022-23 में टैक्‍स बचाने के 11 तरीके: ELSS, स्वास्‍थ्‍य बीमा, होम लोन,PPF

2022-23 के केंद्रीय बजट में टैक्‍स स्लैब या कर कटौती और छूट में किसी भी बदलाव की घोषणा नहीं की गई है। इस लेख में आयकर बचाने के कुछ तरीकों पर चर्चा की गई है।

11 Ways to save tax

वर्तमान वित्तीय वर्ष बस शुरू हुआ है। 2022-23 के केंद्रीय बजट में टैक्‍स स्लैब या कर कटौती/छूट में किसी भी बदलाव की घोषणा नहीं की गई है। इसलिए, हम चर्चा करेंगे कि यदि पिछले वित्तीय वर्ष में आपने अपनी टैक्स कटौती का पूरी तरह से उपयोग नहीं किया था तो आप इस वित्तीय वर्ष में टैक्‍स कैसे बचा सकते हैं। यह लेख आयकर बचाने के नौ तरीकों पर फोकस करेंगा।

1) सेक्शन 80D: स्वास्थ्य बीमा का प्रीमियम

COVID-19 महामारी ने हम सभी को स्वास्थ्य बीमा के महत्व का एहसास करा दिया है। इसलिए, यदि आपने अभी भी अपने और अपने परिवार के लिए स्वास्थ्य बीमा नहीं खरीदा है, तो वर्तमान वित्त वर्ष के लिए अपनी आयकर योजना की यात्रा शुरू करने का यह एक अच्छा तरीका है।

a) परिवार के लिए प्रीमियम: जब आप अपने, अपने जीवनसाथी और आश्रित बच्‍चों के लिए स्‍वास्‍थ्‍य बीमा के प्रीमियम का भुगतान करते है, तो आप आयकर योग्य आय से कटौती का लाभ उठा सकते हैं। एक वित्तीय वर्ष में अनुमत अधिकतम कटौती भुगतान किए गए प्रीमियम की राशि या 25,000 रुपए में से जो भी कम हो, वही होती है। यदि आप या आपका जीवनसाथी वरिष्‍ठ नागरिक(60 वर्ष या उससे अधिक आयु) है, तो अनुमत अधिकतम कटौती की राशि 50,000 रुपए है।  

b) माता-पिता के लिए प्रीमियम: जब आप अपने माता-पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम का भुगतान करते हैं, तो आप कर योग्य आय से कटौती का लाभ उठा सकते हैं। एक वित्तीय वर्ष में अनुमत अधिकतम कटौती भुगतान किए गए प्रीमियम की राशि या 25,000 रुपए में से जो भी कम हो, वही होती है। यदि माता-पिता में से एक या दोनों वरिष्ठ नागरिक हैं (आयु 60 या उससे अधिक), तो छूट की अनुमति 50,000 रुपए है।

यह मानते हुए कि आप और/या आपका जीवनसाथी वरिष्ठ नागरिक हैं और माता-पिता में से एक या दोनों वरिष्ठ नागरिक हैं, आप परिवार और माता-पिता के लिए कुल 1 लाख रुपए की कटौती का लाभ ले सकते हैं। यदि आप और आपके जीवनसाथी की आयु 60 वर्ष से कम है, और माता-पिता में से एक या दोनों वरिष्ठ नागरिक हैं, तो अधिकतम 75,000 रुपए की कटौती की अनुमति है।

इसे भी पढें: भारत में महिलाओं के लिए टॉप 4 स्‍वास्‍थ्‍य बीमा योजनाएं

2) सेक्‍शन 80TTA: बचत खाते पर ब्‍याज 

आप अपने बचत खाते पर जो ब्याज कमाते हैं, वह कर कटौती के योग्य होता है। एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम अनुमत कटौती ब्याज की कुल राशि या 10,000 रुपए में से जो भी कम हो वही होती है। अधिकतम सीमा सभी बचत खातों पर अर्जित कुल ब्याज पर लागू होती है। बचत खातों में निजी बैंक, PSU बैंक, भारत में संचालित विदेशी बैंक, सहकारी बैंक और डाकघर में खोले गए खाते शामिल हैं। इस सेक्शन के तहत लाभ केवल 60 वर्ष से कम आयु के व्यक्तियों पर लागू होता है।

3) सेक्‍शन 80C: जीवन बीमा का प्रीमियम

आयकर अधिनियम के सेक्‍शन 80C के तहत, आप अपने, अपने जीवनसाथी और अपने बच्चों के लिए भुगतान किए गए जीवन बीमा प्रीमियम के लिए कटौती का दावा कर सकते हैं। एक वित्तीय वर्ष में अनुमत अधिकतम कटौती भुगतान किए गए प्रीमियम की राशि या 1,50,000 रुपए में से जो भी कम हो वही होती है। कर लाभ पाने के लिए, ULIP के प्रीमियम का भुगतान पांच साल के लिए किया जाना चाहिए, और अन्य जीवन बीमा पॉलिसियों के लिए, प्रीमियम का भुगतान दो साल के लिए किया जाना चाहिए।
सेक्‍शन 80C के तहत कटौती का लाभ कुछ अन्य वित्तीय उत्पादों पर भी लागू होता है। इनमें ELSS में निवेश,  PPF खाते में योगदान और 5 साल के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट में निवेश शामिल हैं। इन उत्पादों के बारे में निम्नलिखित सेक्‍शन में चर्चा की गई है।

इसे भी पढें: सबसे अच्‍छी जीवन बीमा पॉलिसी कैसे चुनें? जीवन बीमा पर आपके सभी प्रश्‍नों का उत्तर दिया गया है

4) सेक्‍शन 80C: ELSS में निवेश

अपने वित्तीय नियोजन लक्ष्यों के हिस्से के रूप में, आप ग्रोथ के लिए इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम (ELSS) में निवेश कर सकते हैं। ELSS आपको धन सृजन और टैक्‍स की बचत का दोहरा लाभ देता है। ELSS में 3 साल की लॉक-इन अवधि होती है। यह आक्रामक जोखिम प्रोफाइल वाले व्यक्तियों के लिए उपयुक्त है और इसमें मुद्रास्फीति को मात देने वाले रिटर्न देने की क्षमता है।

5) सेक्‍शन 80C: PPF खाते में किया गया योगदान

ऊपर दिए गए सेक्‍शन में, हमने देखा कि एक आक्रामक जोखिम प्रोफ़ाइल वाला व्यक्ति ELSS में निवेश करके अपनी कर देयता को कैसे कम कर सकता है। यदि आपकी परिवर्तन विरोधी से मध्यम जोखिम प्रोफ़ाइल है, तो पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) खाते में निवेश करने पर विचार करें।
PPF खाता भारत सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली छोटी बचत योजनाओं का एक हिस्सा है। यह एक फ्लोटिंग रेट वाला उत्पाद है जिसमें सरकार हर तिमाही पर ब्याज दर की घोषणा करती है। PPF में 15 साल की लॉक-इन अवधि होती है। हालांकि, आप कुछ नियमों और शर्तों के अधीन ऋण ले सकते हैं या आंशिक राशि की निकासी कर सकते हैं। PPF पर रिटर्न कम से मध्यम होता है और मैच्योरिटी पर टैक्स फ्री होता है।

6) सेक्‍शन 80C: 5-साल के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट में निवेश

5 साल का फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट परिवर्तन विरोधी जोखिम प्रोफ़ाइल वाले व्यक्तियों के लिए निवेश और कर नियोजन का एक और विकल्प है। आप 5 साल की लॉक-इन अवधि के साथ बैंक या पोस्ट ऑफिस में टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट खोल सकते हैं। आप समय से पहले आंशिक या पूर्ण निकासी नहीं कर सकते। साथ ही, आप इस डिपॉजिट पर ऋण भी नहीं ले सकते हैं। रिटर्न कम से मध्यम होता है। ब्याज कर योग्य होता है, जो उच्च टैक्स ब्रैकेट वाले लोगों के लिए रिटर्न को और कम कर देता है।

7) सेक्‍शन 80EEB: इलेक्ट्रिक वाहन की खरीदारी

एक व्यक्ति इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने के लिए लिए गए वाहन ऋण पर दिए गए ब्याज पर कटौती का लाभ उठा सकता है। एक वित्तीय वर्ष में अनुमत अधिकतम कटौती की राशि ब्याज की राशि या 1,50,000 रुपए में से जो भी कम हो वही होती है। वित्तीय संस्थान द्वारा 1 अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2023 के बीच वाहन ऋण को स्वीकृत किया होना चाहिए।

इसे भी पढें: ई-व्‍हेकल्‍स पर टैक्‍स के लाभ: इसका लाभ कैसे लें:

8) सेक्‍शन 80E: एजुकेशन लोन पर भुगतान किया गया ब्‍याज

एक व्यक्ति अपनी उच्च शिक्षा या किसी रिश्तेदार की पढ़ाई के लिए लिए गए एजुकेशन लोन पर दिए गए ब्याज पर कटौती का लाभ उठा सकता है। आप लोन की अवधि या अधिकतम 8 वर्ष, जो भी कम हो, के लिए कटौती का लाभ उठा सकते हैं। कटौती के रूप में ली जा सकने वाली ब्याज राशि की कोई सीमा नहीं है।
इस संदर्भ में 'रिश्तेदार' का अर्थ जीवनसाथी, बच्चा या एक ऐसा छात्र हो सकता है जिसके लिए वह व्यक्ति कानूनी अभिभावक है। उच्च शिक्षा का मतलब सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त स्कूल, बोर्ड या विश्वविद्यालय से SSE या इसके समकक्ष के बाद किया जाने वाला कोई भी कोर्स है।

9) सेक्‍शन 80GG: आवास के लिए किराया

एक व्यक्ति जो किराए का भुगतान कर रहा है लेकिन उसे आय के हिस्से के रूप में मकान किराया भत्ता (HRA) नहीं मिल रहा है, वह सेक्‍शन 80GG के तहत कटौती का दावा कर सकता है। कटौती के रूप में आप जिस वार्षिक राशि का दावा कर सकते हैं, वह निम्नलिखित तीन मूल्यों में से न्यूनतम होगी:

  • समायोजित वार्षिक आय का 25%
  • किराए की राशि माइनस वार्षिक आय का 10%  
  • प्रति माह 5000 रूपए (सालाना 60,000 रूपये)

सेक्‍शन 80GG के तहत इस कटौती का दावा करने के लिए आपको फॉर्म 10BA दाखिल करना होगा।

10) सेक्‍शन 24: होम लोन पर ब्‍याज

एक व्यक्ति आयकर अधिनियम के सेक्‍शन 24 के तहत होम लोन पर चुकाए गए ब्याज पर कर योग्य आय से कटौती का लाभ उठा सकता है। एक वित्तीय वर्ष में अनुमत अधिकतम कटौती भुगतान किया गया वास्तविक ब्याज या 2,00,000 रूपए में से जो भी कम हो वही होता है। व्यक्ति कटौती का लाभ तभी उठा सकता है यदि उसने 1 अप्रैल 1999 को या उसके बाद होम लोन लेकर संपत्ति को खरीदा है, और संपत्ति होम लोन लेने के पांच साल के भीतर प्राप्‍त हो गई है।

11) सेक्‍शन 80CCD: नेशनल पेंशन स्‍कीम (NPS) के लिए योगदान

एक व्यक्ति सेक्‍शन 80CCD(1) के तहत नेशनल पेंशन स्‍कीम (NPS) में योगदान के लिए कर योग्य आय से कटौती का लाभ उठा सकता है। वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए अनुमत अधिकतम कटौती उनके वेतन का 10% या 1,50,000 रूपए में से जो भी कम हो वही होता है। स्व-रोजगार करने वाले व्यक्तियों के लिए, अनुमत अधिकतम कटौती आय का 20% या 1,50,000 रूपए में से जो भी कम हो वही होता है।

सेक्‍शन 80CCD (1B) के तहत, कोई व्यक्ति NPS में योगदान के लिए 50,000 रुपए तक की अतिरिक्त कटौती का लाभ उठा सकता है। 50,000 रुपए तक की अतिरिक्त कटौती सेक्‍शन 80C और 80CCD(1) के तहत स्वीकृत 1,50,000 रुपए तक की कटौती के अलावा है।

सेक्‍शन 80CCD(2) के तहत, एक कर्मचारी नियोक्ता द्वारा कर्मचारी के NPS खाते में किए गए योगदान के लिए अतिरिक्त कटौती का लाभ उठा सकता है। अनुमत अधिकतम कटौती  केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए योगदान की गई राशि या वेतन का 14% और अन्य कर्मचारियों के लिए वेतन का 10% में से जो भी कम हो वही होता है।

निष्‍कर्ष

बहुत से लोग कर नियोजन के लिए केवल वित्तीय वर्ष की अंतिम तिमाही (जनवरी-मार्च) के दौरान जागते हैं, जब उन्हें अपने एचआर डिपार्टमेंट से निवेश प्रमाण सबमिट करने के बारे में ईमेल रिमाइंडर मिलना शुरू हो जाते है। नतीजतन, वे जल्दबाजी में कर नियोजन करते हैं, जो शायद सबसे अच्छा परिणाम नहीं दे सकता है। अपनी प्रोफ़ाइल के लिए सर्वोत्तम कर-बचत वाले उत्पादों का मूल्यांकन करने के लिए पर्याप्त समय निकालकर वित्तीय वर्ष की शुरुआत से ही अपना कर नियोजन करना हमेशा बेहतर होता है।

इसके अलावा, समय रहते काम शुरू करने कारण आपको जरूरत पड़ने पर पूरे वित्तीय वर्ष में अपने निवेश की योजना बनाने के लिए पर्याप्त समय मिलता है। इन सबसे महत्‍वपूर्ण, ध्यान रखें कि शुरुआती कर नियोजन से आपको पूरे वित्तीय वर्ष में मानसिक शांति मिलती है!

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख