जीवन बीमा

ताजा लेख

सबसे प्रचलित

जीवन बीमा प्रीमियम पर टैक्स छूट लेने के नियम

जीवन बीमा पॉलिसियों पर मिलने वाली टैक्स छूट और टैक्स से जुड़ी बातों पर 2 हिस्सों में लिखी श्रंखला का यह पहला लेख है। यह लेख आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत जीवन बीमा के प्रीमियम पर मिलने वाली टैक्स छूट के बारे में है। श्रंखला का दूसरा लेख इन पॉलिसियों से होने वाले फायदों के टैक्स प्रबंध से जुड़ा है।

जानिए जीवन बीमा लाभ प्रदान करने वाला सबसे पसंदीदा निवेश क्यों है

जीवन बीमा के कुछ ऐसे लाभ, जिनकी वजह से यह एक पसंदीदा वित्तीय स्रोत बना हुआ है।

जीवन बीमा आपके दीर्घ-कालिक लक्ष्‍यों को पूरा करने में कैसे मददगार हो सकता है

क्‍या आप इस बात को लेकर अनिश्चित हैं कि आपको जीवन बीमा पॉलिसी लेनी चाहिए या नहीं? यहां जीवन बीमा में निवेश के फायदे बताए गए हैं।

प्राकृतिक आपदा क्या है और आपइससे खुदको कैसे सुरक्षित रख सकते हैं?

भारत को जो प्राकृतिक आपदाएं सबसे ज्‍यादा प्रभावित करती हैं उसमें भूकंप, सुनामी, समुद्री तूफ़ान या बवंडर, बाढ़ प्रमुख हैं

मेरी तरह टर्म प्लान न लेने की गलती न करें

अगर आप इस लेख में दिए गए किसी बहाने की वजह से टर्म प्लान नहीं खरीद रहे हैं, तो आप अपनी और अपने प्रियजनों को मुश्किल में डाल रहे हैं। इस लेख को पढ़ें और अपने परिवार को सुरक्षित बनाने के लिए टर्म प्लान खरीदने का फैसला करें।

संपत्ति निर्माण या जीवन बीमा: क्या ज़्यादा ज़रूरी है?

संपत्ति निर्माण या बीमा, इस दुविधा का समाधान यही है कि एक व्यक्ति के लिए दोनों ज़रूरी हैं। यहां जाने ऐसा क्यों है।

अपने जीवन बीमा के लिए नॉमिनी कैसे तय करें?

अपनी जीवन बीमा पॉलिसी के लिए अपने नॉमिनी / लाभार्थी को कैसे तय करें। आपका नामांकित व्यक्ति आपकी पसंद का कोई भी हो सकता है, लेकिन बीमाकर्ता केवल तभी भुगतान करेगा जब कोई बीमा योग्य ब्याज हो। तत्काल परिवार के किसी व्यक्ति को नामिती के रूप में रखना सबसे अच्छा है क्योंकि कानूनी उत्तराधिकारी इसे विवादित नहीं बना सकते।

पीपीएफ (पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड) और जीवन बीमा में तुलना : क्या पहले होना चाहिए ?

सबसे अच्छी बात यह है कि पहले सुरक्षा, बचत बाद में आनी चाहिए। आपकी बचत योजना सुरक्षा और बचत इन दो स्तम्भ पर निर्धारित होनी चाहिए।