पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के बारे में महिलाओं के सामान्य प्रश्न

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम लाखों महिलाओं को प्रभावित करता है। यहां आपको पी.सी.ओ.एस. के बारे में जानने की जरूरत है।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के बारे में महिलाओं के सामान्य प्रश्न

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पी.सी.ओ.एस.) एक ऐसी स्थिति है जिसके बारे में शायद आपने इसलिए सुना होगा क्यूंकि आपके आसपास वालो को यह है या आपको न हो जाये सोचकर आप चिंतित हैं | किसी भी तरह से, पी.सी.ओ.एस. जागरूकता महत्वपूर्ण है, जैसा की दुनिया भर में इसके स्तर बढ़ रहे और जिस तरह से यह एक महिला के स्वास्थ्य के सभी पहलुओं को प्रभावित करता है। यहाँ सभी महत्वपूर्ण बातें बताई गयी है जो आपको पी.सी.ओ.एस. के बारे में जानना चाहिए।

1. पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम क्या है?

पी.सी.ओ.एस. मुख्य रूप से एक हार्मोनल विकार है जो प्रजनन हार्मोन के असंतुलन के कारण होता है। एण्ड्रोजन, जो आमतौर पर पुरुष हार्मोन होते हैं, पी.सी.ओ.एस. वाली महिलाओं में उच्च स्तर पर मौजूद होते हैं। यह प्रत्येक मासिक धर्म के दौरान अंडाशय द्वारा निकले अंडे को रोकता है । यह परिणामस्वरुप , अनियमित मासिक धर्म और अंडाशय में छाले उत्पन्न करता है।

2. पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम कितना आम है?

भारत में हर पांच में से एक महिला को पी.सी.ओ.एस. है। हालांकि पी.सी.ओ.एस. अत्यधिक प्रचलित है, लेकिन यह अक्सर पीड़ित महिलाओं के लिए बिना निदान के और अनियंत्रित हो जाता है। यह 15-30 वर्ष की आयु के बीच के महिलाओं को तेजी से प्रभावित कर रहा है।

3. इसके सामान्य लक्षण क्या हैं?

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पी.सी.ओ.एस.) के कुछ सबसे आम लक्षण हैं:

  • अनियमित, मासिक धर्म में कमी होना या न होना ।
  • बांझपन या गर्भवती होने में कठिनाई।
  • चेहरे, पेट, छाती और पीठ पर अत्यधिक बाल उगना।
  • वजन बढ़ना, खासकर पेट के आसपास।
  • बालों का पतला होना या पुरुष का गंजापन।
  • मुंहासे, तैलीय त्वचा, रूसी और अन्य त्वचा संबंधी समस्याएं।

4. पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम का क्या कारण है?

इस हार्मोन संबंधी विकार का कारण अभी तक ज्ञात नहीं है। हालांकि, डॉक्टर इसे आनुवांशिकी और जीवनशैली के कई मुद्दों का एक संयोजन मानते हैं। यदि आपकी मां, बहन या चाची को पी.सी.ओ.एस. है, तो उच्च संभावना है कि आपको भी हो सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि एक गतिहीन जीवन शैली, अस्वास्थ्यकर आहार, अनियमित नींद पैटर्न, तनाव के स्तर में वृद्धि, पी.सी.ओ.एस. के कारण बनने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

5. मोटापे और पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के बीच क्या संबंध है?

पी.सी.ओ.एस से ग्रस्त लगभग 60 प्रतिशत महिलाएं मोटापे से भी ग्रस्त हैं, यह एम्स द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है। मोटापा और पी.सी.ओ.एस. एक जाल की तरह हो सकते हैं, प्रत्येक दूसरे को उकसाता है। हालांकि मोटापे और अधिक वजन वाली महिलाओं में पी.सी.ओ.एस. अधिक आम है, पी.सी.ओ.एस. और वजन बढ़ाता है, जिससे स्थिति और बिगड़ जाती है और यह चक्र जारी रहता है।

6. क्या कोई अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं?

हालांकि यह एक घातक बीमारी नहीं है, पी.सी.ओ.एस. से कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं:

1. डायबिटीज: पी.सी.ओ.एस. से पीड़ित लगभग 70% महिलाओं में इंसुलिन प्रतिरोध अधिक होता है, जिससे वे टाइप 2 डायबिटीज की चपेट में आ जाती हैं।

2. दिल की बीमारियाँ: पी.सी.ओ.एस. से पीड़ित महिलाओं में दिल की बीमारियाँ होने का खतरा काफी अधिक होता है।

3. अवसाद: पी.सी.ओ.एस. से पीड़ित महिलाओं में चिंता और अवसाद से पीड़ित होने का अधिक खतरा होता है। पी.सी.ओ.एस. के कारण शारीरिक स्थिति में परिवर्तन से युवा महिलाएं अधिक प्रभावित होती हैं।

4. कैंसर: नियमित ओव्यूलेशन और हार्मोन प्रोजेस्टेरोन की कमी , पी.सी.ओ.एस.से ग्रस्त महिलाओं में एंडोमेट्रियल कैंसर के खतरे को बढ़ाता है।

7. पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम का निदान कैसे किया जाता है?

पी.सी.ओ.एस. एक पुरानी बीमारी है;जिसका कोई इलाज नहीं है। हालांकि, इसको संभाला जा सकता है। इसलिए, पी.सी.ओ.एस. का निदान होना आवश्यक है। कुछ अलग तरीके हैं जिनसे आपके डॉक्टर को पता चल सकता है कि क्या आपको पी.सी.ओ.एस. है:

शारीरिक परिक्षण: आपका डॉक्टर आपके रक्तचाप, बी.एम.आई., कमर के आकार की जाँच करेगा और ज्यादा बालों के बढ़ने वाले  क्षेत्रों की जाँच भी कर सकता है।
रक्त परीक्षण: आपका डॉक्टर आपको एण्ड्रोजन स्तर के साथ-साथ ग्लूकोज के स्तर की जांच के लिए कुछ रक्त परीक्षण कराने के लिए भी कह सकता है।
पेट का परिक्षण: पेट का परिक्षण आपके डॉक्टर को यह देखने में मदद करेगी कि क्या आपके अंडाशय बढ़े हुए हैं या इनमे छाले हैं।

8. पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम का इलाज क्या है?

पी.सी.ओ.एस. उपचार मुख्य रूप से लक्षणों को नियंत्रित करने और हृदय रोगों और मधुमेह के जोखिम को कम करने के लिए है। उपचार का प्रकार ,लक्षणों पर निर्भर करेगा और इस पर भी कि महिला गर्भ धारण करना चाहती है या नहीं। इनमे शामिल है:

  • जीवन शैली में परिवर्तन।
  • नियमित व्यायाम और स्वस्थ आहार शामिल करना।
  • गर्भनिरोधक गोलियाँ।
  • जन्म नियंत्रण की गोलियाँ 

अन्य बातों के अलावा, पुरुष हार्मोन के स्तर को कम करने और मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में भी मदद करती हैं । यह उन महिलाओं के लिए एक लोकप्रिय उपचार विकल्प है जो गर्भवती नहीं होना चाहती हैं। हालांकि, इनके कुछ साइड इफेक्ट्स हैं, और गोलियां बंद होने के बाद सभी लक्षण वापस आ जाते हैं।

अपने चिकित्सक से परामर्श करना और पी.सी.ओ.एस. के लिए सही उपचार प्राप्त करना, शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरह से मदद करता है। अधिक जागरूक बनना, पी.सी.ओ.एस.से पीड़ित समूहों और दोस्तों को मदद करना भी इस हालात से निपटने में मदद कर सकता है। अगर आप सोच रहे हैं कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का ज्यादा सामना क्यों करती हैं, तो इस लेख को पढ़ें |

संबंधित लेख

 

Most Shared