LIC Saral Pension Yojna: सिर्फ एक बार प्रीमियम भर कर पाएँ उम्रभर पेंशन

सेवानिवृत्ति के बाद अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पेंशन योजना की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है।

LIC Saral Pension Yojna

LIC Saral Pension Yojna: भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए खासकर सेवानिवृत्ति के बाद के समय के लिए लोग कई तरह के निवेश करते हैं। जिसमें पेंशन योजनाएँ प्रमुख रूप से उपयोग में लाई जाती है। 60 साल की उम्र के बाद पेंशन देने वाली तो कई योजनाएँ मौजूद हैं लेकिन कुछ एकाध ही ऐसी योजना होती है जो इसके पहले भी पेंशन दे सकती है। ऐसी ही एक योजना है एलआईसी (LIC) की सरल पेंशन योजना। 

भारतीय जीवन बीमा कोर्पोरेशन (एलआईसी LIC) की योजना द्वारा न सिर्फ रेगुलर इनकम मिलेगी बल्कि इसमें जीवनसाथी को पेंशन मिलने का भी प्रावधान किया गया है। 

क्या है एलआईसी की सरल पेंशन योजना? 

इस योजना के अंतर्गत रिटायरमेंट के बाद भी पैसे कमाए जा सकते हैं। एलआईसी सरल पेंशन योजना एकल प्रीमियम वाली योजना है जो कि नॉन लिंक्ड है और व्यक्तिगत तत्काल वार्षिकी योजना की श्रेणी में आती है। 

यह भी पढ़ेंअटल पेंशन योजना - बुढ़ापे में देगी सुरक्षा

एलआईसी सरल पेंशन योजना कैसे ले सकते हैं 

इस योजना को दो तरीके से लिया जा सकता है, सिंगल लाइफ या जॉइंट लाइफ। सिंगल लाइफ विकल्प में पॉलिसी किसी भी एक व्यक्ति के नाम पर ली जाती है जिसमें पॉलिसीधारक को जीवनभर पेंशन मिलने का प्रावधान किया गया है। पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में बेस प्रीमियम की राशि उसके नॉमिनी को दे दी जाती है। 

जॉइंट लाइफ योजना के तहत पति-पत्नी दोनों को पेंशन मिलती है। प्रारंभ में प्राथमिक पेंशनधारक को पेंशन मिलती है जो कि उसके जीवन पर्यंत चलती है। लेकिन यदि उसकी मृत्यु हो जाए तो उसके जीवनसाथी को यह पेंशन दी जाती है। जीवनसाथी की मृत्यु की स्थिति में बेस प्रीमियम नॉमिनी को दिया जाता है। 

सिंगल प्रीमियम योजना 

एलआईसी सरल पेंशन योजना के तहत पॉलिसी खरीदने पर एक बार ही प्रीमियम भरा जाता है। प्रीमियम का भुगतान होते ही पॉलिसी धारक को पेंशन मिलना प्रारंभ हो जाता है, अर्थात् यह एक इमीडिएट एन्यूटी प्लान है। इस स्कीम के तहत पॉलिसीधारक को जिंदगी भर पेंशन दी जाती है। 

एलआईसी सरल पेंशन योजना किसे मिल सकती है 

हर एक व्यक्ति जो 40 से 80 वर्ष की उम्र का है, एलआईसी सरल पेंशन योजना में निवेश कर सकता है। इस योजना को पति-पत्नी मिलकर भी खरीद सकते हैं। योजना की खास बात यह है कि यदि स्कीम खरीदने के बाद इसे जारी रखना संभव नहीं है तो पॉलिसीधारक छह महीने के भीतर भी इसे सरेंडर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: बजट विधियों: हो जाएं कर्ज मुक्त

LIC Saral Pension Yojna: भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए खासकर सेवानिवृत्ति के बाद के समय के लिए लोग कई तरह के निवेश करते हैं। जिसमें पेंशन योजनाएँ प्रमुख रूप से उपयोग में लाई जाती है। 60 साल की उम्र के बाद पेंशन देने वाली तो कई योजनाएँ मौजूद हैं लेकिन कुछ एकाध ही ऐसी योजना होती है जो इसके पहले भी पेंशन दे सकती है। ऐसी ही एक योजना है एलआईसी (LIC) की सरल पेंशन योजना। 

भारतीय जीवन बीमा कोर्पोरेशन (एलआईसी LIC) की योजना द्वारा न सिर्फ रेगुलर इनकम मिलेगी बल्कि इसमें जीवनसाथी को पेंशन मिलने का भी प्रावधान किया गया है। 

क्या है एलआईसी की सरल पेंशन योजना? 

इस योजना के अंतर्गत रिटायरमेंट के बाद भी पैसे कमाए जा सकते हैं। एलआईसी सरल पेंशन योजना एकल प्रीमियम वाली योजना है जो कि नॉन लिंक्ड है और व्यक्तिगत तत्काल वार्षिकी योजना की श्रेणी में आती है। 

यह भी पढ़ेंअटल पेंशन योजना - बुढ़ापे में देगी सुरक्षा

एलआईसी सरल पेंशन योजना कैसे ले सकते हैं 

इस योजना को दो तरीके से लिया जा सकता है, सिंगल लाइफ या जॉइंट लाइफ। सिंगल लाइफ विकल्प में पॉलिसी किसी भी एक व्यक्ति के नाम पर ली जाती है जिसमें पॉलिसीधारक को जीवनभर पेंशन मिलने का प्रावधान किया गया है। पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में बेस प्रीमियम की राशि उसके नॉमिनी को दे दी जाती है। 

जॉइंट लाइफ योजना के तहत पति-पत्नी दोनों को पेंशन मिलती है। प्रारंभ में प्राथमिक पेंशनधारक को पेंशन मिलती है जो कि उसके जीवन पर्यंत चलती है। लेकिन यदि उसकी मृत्यु हो जाए तो उसके जीवनसाथी को यह पेंशन दी जाती है। जीवनसाथी की मृत्यु की स्थिति में बेस प्रीमियम नॉमिनी को दिया जाता है। 

सिंगल प्रीमियम योजना 

एलआईसी सरल पेंशन योजना के तहत पॉलिसी खरीदने पर एक बार ही प्रीमियम भरा जाता है। प्रीमियम का भुगतान होते ही पॉलिसी धारक को पेंशन मिलना प्रारंभ हो जाता है, अर्थात् यह एक इमीडिएट एन्यूटी प्लान है। इस स्कीम के तहत पॉलिसीधारक को जिंदगी भर पेंशन दी जाती है। 

एलआईसी सरल पेंशन योजना किसे मिल सकती है 

हर एक व्यक्ति जो 40 से 80 वर्ष की उम्र का है, एलआईसी सरल पेंशन योजना में निवेश कर सकता है। इस योजना को पति-पत्नी मिलकर भी खरीद सकते हैं। योजना की खास बात यह है कि यदि स्कीम खरीदने के बाद इसे जारी रखना संभव नहीं है तो पॉलिसीधारक छह महीने के भीतर भी इसे सरेंडर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: बजट विधियों: हो जाएं कर्ज मुक्त

संवादपत्र

संबंधित लेख