TomorrowMakers

आय सुरक्षा प्लान क्या होते हैं और मासिक आय बीमा योजना में क्या क्या होता है। कैसे इनकम प्रोटेक्शन प्लान आपके न होने पर परिवार की नियमित आय का ज़रिया हो सकते हैं। मासिक बीमा योजना के गठन को गहराई से समझते हैं और कैसे वे आपको परिवार के लिए निर्बाध आय सुनिश्चित करने में मदद करते हैं।

Protect Your Family Always With An Income Protection Plan

क्या कभी आपने सोचा है कि आपके न रहने पर आपके परिवार की देखभाल कौन करेगा? आप अकेले नहीं हैं जो ऐसे सवालों की परवाह नहीं करते। ये हैरान करने वाला सवाल होता है कि आपके और आपकी कमाई दोनों के न रहने पर प्रियजनों की आर्थिक स्थिति क्या होगी और उसकी वजह से उनकी भावनात्मक स्थिति क्या होगी।

 

ऐसे ही हालात को ध्यान में रखकर बीमा कंपनियों ने आय सुरक्षा योजना प्रस्तुत की है। ऐसे प्लान के ज़रिए ये पक्का किया जाता है कि आपके न रहने पर भी परिवार और प्रियजनों का रहन सहन वैसा ही रहे जिसे देने के लिए आप कड़ी मेहनत करते हैं। ऐसे प्लान के तहत परिवार के लिए नियमित आय को सुनिश्चित किया जाता है। 

इनकम प्रोटेक्शन प्लान कैसे काम करता है?

नियमित टर्म इंश्योरेंस प्लान में पॉलिसीहोल्डर की मौत के बाद उसके लाभार्थियों को एकमुश्त तय रकम मिल जाती है जिसे डेथ बेनिफिट कहा जाता है। लेकिन इसमें दिक्कत ये हो सकती है कि लाभार्थी शायद इस रकम का ठीक से फायदा नहीं उठा पाएं। या फिर लंबे समय तक इस रकम से गुज़ारा करना मुश्किल हो जाए। इनकम प्रोटेक्शन प्लान के तहत जो लाभार्थी होते हैं उन्हें अपनी मर्ज़ी के हिसाब से तय मियाद तक इंश्योरेंस की रकम को लेने की सुविधा दी जाती है। इसमें लाभार्थी को मिली एकमुश्त रकम के दुरुपयोग का खतरा नहीं रहता। मतलब ऐसी स्कीम का मुख्य आधार ये होता है कि बीमा कराने वाले व्यक्ति की मौत के बाद परिवार के लिए एक नियमित आय का ज़रिया बना रहे। लाभार्थी को एक नियमित रकम हर महीने मिलती रहती है ताकि परिवार के कर्ताधर्ता की मौत के बाद उसकी कामकाजी आयु तक आय का संकट न खड़ा हो। यानी अगर कोई 60 साल में रिटायर करने वाला व्यक्ति हो जिसकी मौत पहले हो जाए तो भी साठ साल जितने समय तक परिवार को एक नियमित रकम मिलती रहे।

आपको किन हालात मे इनकम प्रोटेक्शन प्लान की ज़रूरत:

-अगर आप परिवार के अकेले या मुख्य कमाई का ज़रिया वाले व्यक्ति हैं

-अगर आप चाहते हैं कि आपके न रहने पर भी परिवार की नियमित आय रहे

-अगर महंगाई की बढ़ती रफ्तार से खर्च की भरपाई के लिए अतिरिक्त आय चाहिए

-अगर आपके प्रियजन आर्थिक तौर पर आप पर ही पूरी तरह निर्भर हैं

-आपके जिंदा न रहने पर या अपंगता की स्थिति में परिवार पर मुसीबत न आए

बीमा सुरक्षा योजना के फायदे को रवि के उदाहरण से समझते हैं, जिसने हाल ही में एगॉन लाइफ का इनकम इंश्योरेंस प्लान खरीदा है।.

रवि शादीशुदा व्यक्ति है जिसके पास 4 साल का बेटा है। रवि की उम्र 30 साल और शुरुआती हर महीने की आय 75,000 रुपए है। उसने जो पॉलिसी ली है उसकी मियाद 30 साल की है। रवि टैक्स छोड़कर पॉलिसी के लिए हर महीने 1970 रुपए प्रीमियम देता है।  

पहली स्थिति: बीमित व्यक्ति की मृत्य पर

रवि की मौत पर परिवार को 10.94 लाख रुपए तुरंत मिलेंगे। जबकि पॉलिसी के बचे 25 साल ( यानी 60 साल की उम्र तक) रवि के परिवार को हर महीने 91,163 रुपए मिलते रहेंगे। हर साल प्रति माह मिलने वाली रकम में 5% का इज़ाफा भी होता रहेगा।

मतलब ऐसे प्लान लेने पर रवि के परिवार को उसकी पूरी 60 साल तक की कामकाजी जिंदगी तक वित्तीय मदद मिलती रहेगी।

अगर मान लीजिए कि रवि की मौत नहीं होती बल्कि पॉलिसी के 5वें साल में ही रवि के साथ कोई हादसा हो जाता है जिससे उनके कामकाज करने और रोज़ी रोटी कमाने की क्षमता पर असर पड़ता है तो क्या होगा। 

ऐसे हालात में रवि को मासिक आय के आधे के बराबर की रकम हर महीने मिलती रहेगी। ये रकम पॉलिसी की पूरी मियाद तक जारी रहेगी। रवि के परिवार को 60 साल की उम्र होने तक 30 साल की मियाद तक 45,582 रुपए मिलते रहेंगे। ये रकम हर साल 5% की दर से बढ़ती रहेगी। लेकिन हर महीने मिलने वाली अधिकतम रकम 50,000 रुपए से अधिक नहीं होगी। यही नहीं एगॉन लाइफ रवि के फ्यूचर प्रीमियम की रकम को भी माफ कर देगी। मतलब रवि को मुश्किल हालात में अपने परिवार को सहारा देने के लिए रकम मिलती रहेगी।  

अगर आज की आय कल के खर्चों की भरपाई करने में नाकाफी हो तो?

हम सभी ऐसे आर्थिक हालात में जी रहे हैं जिसमें महंगाई और कीमतों में बढ़ोतरी का जोखिम हमेशा बना रहता है। ऊपर के उदाहरण को ही देखते हुए समझें तो रवि के परिवार को हादसे की हालत में एक तय रकम हर महीने मिलती रहेगी। लेकिन ये रकम भविष्य की वित्तीय ज़रूरतों को देखते हुए शायद काफी नहीं होगी। शायद 10 या 15  साल बाद जब महंगाई काफी बढ़ चुकी होगी। चीज़ों के दाम महंगाई की वजह से काफी बढ़े हुए होंगे।

इसलिए इंश्योरेंस कंपनियां हर साल एक तय प्रतिशत के हिसाब से इसमें बढ़ोतरी करती हैं। जैसे कि एगॉन लाइफ हर महीने दी जाने वाली रकम में हर साल 5% की बढ़ोतरी करती है।

निष्कर्ष

हम अक्सर लोन लेते हैं और किस्तों में अदा करते हैं ताकि हम परिवार की सारी ज़रूरतों को पूरा कर पाएं, उन्हें सब कुछ दे सकें। किसी हादसे की स्थिति में हम नहीं चाहते कि परिवार की आय खत्म हो जाए या फिर उनके जीवन स्तर या रहन सहन का स्तर नीचे गिर जाए। वो जीवन स्तरजिसे देने के लिए हम जी तोड़ मेहनत करते हैं। इसलिए मंथली इनकम रीप्लेसमेंट प्लान सबसे बढ़िया तरीका है परिवार की खुशहाली को बनाए रखने का ताकि खुद के न रहने पर भी परिवार की देखभाल ठीक से हो सके। 

एगॉन लाइफ इनकमके बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख