टर्म इंश्योरेंस प्लान

टर्म इंश्योरेंस प्लान के तहत मामूली प्रीमियम के भुगतान पर सिर्फ जीवन बीमा कवर मिलता है। ये प्लान जीवन बीमा का सबसे सरल रूप है।

tip2

जीवन बीमा पॉलिसी न सिर्फ आपका भविष्य सुरक्षित बनाती है, बल्कि आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आपकी मुत्यु के बाद आपके परिवार को वित्तीय संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा।

कम उम्र में ही जीवन बीमा पॉलिसी खरीदना समझदारी का काम है, लेकिन ये तय करना मुश्किल हो जाता है कि आपके लिए कौन सी जीवन बीमा पॉलिसी सबसे उपयुक्त है।

टर्म प्लान इंश्योरेंस- किफायती और भरोसेमंद

बीमा कंपनियों द्वारा मुहैया कराई जाने वाली पॉलिसी में से सबसे सरल टर्म प्लान होते हैं। ये प्लान उन लोगों के लिए सबसे ज्यादा उपयुक्त हैं जो कम प्रीमियम देकर ज्यादा जीवन बीमा कवर लेना चाहते हैं। आमतौर पर टर्म प्लान का प्रीमियम किफायती होता है जिससे वो लोग भी जीवन बीमा ले पाते हैं जो हर महीने भारी प्रीमियम का खर्च नहीं उठा सकते हैं। टर्म प्लान द्वारा कम लागत में जीवन बीमा की सुरक्षा पाई जा सकती है।

टर्म प्लान कितने किफायती हैं, ये और बेहतर तरीके से समझने के लिए एक उदाहरण देखते हैं – 

25 वर्षीय युवा अमित ने टर्म प्लान इंश्योरेंस खरीदा है। पॉलिसी की मुख्य बातें-

कुल सम अश्योर्ड – 1 करोड़ रुपये

पॉलिसी की अवधि – 25 साल

सालाना प्रीमियम – 6000 रुपये (तकरीबन पूर्ण रूप से स्वस्थ्य धूम्रपान नहीं करने वाले पुरुष के लिए)

 

पॉलिसी की अवधि में अमित की मुत्यु होने पर नॉमिनी को मिलने वाली राशि – 1 करोड़ रुपये

पॉलिसी की अवधि खत्म होने पर पॉलिसीधारक के जिंदा रहने की स्थिति में मिलने वाली राशि – शून्य (कुछ नहीं)

दूसरी जीवन बीमा पॉलिसी की अपेक्षाकृत टर्म प्लान सस्ते होने की वजह है कि अगर पॉलिसी की अवधि खत्म होने पर पॉलिसीधारक जिंदा है तो बीमा कंपनी से उसे कुछ भी रकम नहीं मिलती है। इससे टर्म प्लान किफायती हो जाते हैं क्योंकि पूरी प्रीमियम की राशि आपको सुरक्षा देने के लिए इस्तेमाल की जाती है। लेकिन पॉलिसी की अवधि खत्म होने पर कोई रकम न मिलने की शर्त से वो लोग टर्म प्लान लेने से कतराते हैं जो जीवन बीमा को निवेश के विकल्प के तौर पर देखते हैं। वहीं, जो लोग हर महीने बड़ी राशि प्रीमियम के रूप में नहीं चुका सकते हैं, उनके लिए टर्म प्लान परिवार के भविष्य को सुरक्षित बनाने का किफायती तरीका है।

अतिरिक्त फायदे

आजकल बाजार में ऐसे टर्म प्लान भी मौजूद हैं जो अंतनिर्हित फायदे और राइडर्स के रूप में ग्राहक को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराते हैं। राइडर्स वो अतिरिक्त फायदे होते हैं जिन्हें ग्राहक थोड़े और प्रीमियम का भुगतान कर अपनी पॉलिसी में जोड़ सकता है। आमतौर पर राइडर्स पॉलिसीधारक की दुर्घटना में मृत्यु या उसे घातक बीमारी होने की स्थिति में अतिरिक्त फायदा मुहैया कराते हैं। प्लान के तहत अंतनिर्हित फायदे होते हैं। जैसे पॉलिसीधारक को घातक बीमारी होने का पता चलने पर कुल मरणोत्तर देय राशि का 25 फीसदी हिस्सा तुरंत दिया जाता है।

राइडर्स कैसे साधारण टर्म पॉलिसी को ज्यादा बेहतर बनाते हैं, ये समझने के लिए उदाहरण का इस्तेमाल करते हैं- 

30 वर्षीय अमित ने दुर्घटना में मृत्यु होने पर अतिरिक्त फायदे वाले राइडर के साथ टर्म प्लान खरीदा है।

सम अश्योर्ड – 50,00,000 रुपये

पॉलिसी की अवधि – 30 साल

सालाना प्रीमियम (बेस राइडर) – 12,000 रुपये (तकरीबन पूर्ण रूप से स्वस्थ्य धूम्रपान नहीं करने वाले पुरुष के लिए)

दुर्घटना में मृत्यु होने पर अतिरिक्त फायदा – 20,00,000 रुपये

अगर पॉलिसी लेने के 3 साल बाद अमित की दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है तो नॉमिनी बीमा कंपनी से निम्न मुआवजे की मांग कर सकता है –

एक मुश्त रकम – 50,00,000 रुपये + 20,00,000 रुपये = 70,00,000 रुपये

इस उदाहरण की मदद से आप देख सकते हैं कि किस तरह राइडर के चुनाव से साधारण टर्म प्लान को एक ऐसे व्यापक पॉलिसी में बदला जा सकता है जो विषम परिस्थितियों में भी सुरक्षा प्रदान करेगा।

टर्म प्लान खरीदने से पहले दो और बातों का ध्यान रखना जरूरी है

  • पॉलिसी की अवधि

आपको टर्म प्लान की अवधि के बारे में फैसला लेना होगा। आदर्शरूप में जब तक आप कमाई कर रहे हैं यानि 60-65 साल की उम्र तक आपको बीमा पॉलिसी से सुरक्षा कवर मिलना चाहिए। छोटी अवधि यानि 15-20 साल की अवधि वाले टर्म प्लान से लेने से बचना चाहिए। अगर आपकी उम्र 30 साल से कम है को 15-20 साल वाले टर्म प्लान आपको चालीसवें साल के बाद सुरक्षा कवर नहीं मुहैया कराएंगे। जबकि इसी उम्र में सबसे ज्यादा जोखिम होता है और पारिवारिक जिम्मेदारियां भी ज्यादा होती हैं। तब आपको कवर की अवधि बढ़ाने के लिए भारी प्रीमियम चुकाना पड़ेगा।

इसलिए, टर्म प्लान चुनाव करते वक्त ऐसा प्लान लेना सबसे बेहतर होगा जो आपको 60 साल की उम्र तक कवर प्रदान करे या फिर प्लान में कवर की अवधि को बढ़ाने का विकल्प मौजूद हो।

  • बीमा की राशि

दूसरी अहम बात है ये जानना कि आपको कितना बीमा खरीदने की जरूरत है। अगर बीमा कवर आपके परिवार की जरूरत की पूरा करने में अक्षम है तो आपका जीवन बीमा पॉलिसी लेना बेकार रहा।

कवर की मूल राशि इतनी होनी चाहिए कि आपकी मृत्यु के बाद आपकी कमाई की भरपाई कर सके। इसके अलावा आकस्मिक स्वास्थ्य संबंधी खर्चे, बच्चों की पढ़ाई का खर्च, शादी का खर्च के अलावा कर्ज और रोजमर्रा के खर्चे भी कवर में जोड़ना जरूरी है। कमाई और सब खर्चों को जोड़ने के बाद जो रकम सामने आई है उसे पर्याप्त कवर माना जा सकता है।

लंबी अवधि और पर्याप्त कवर रकम वाले टर्म प्लान लेने से आप निश्चिंत हो सकते हैं कि आपके बाद आपके परिवार को वित्तीय मुश्किलों से नहीं जूझना पड़ेगा। जेब पर कम बोझ वाले टर्म प्लान सुरक्षा के मामले में दूसरी पॉलिसी से पीछे नहीं हैं।

संबंधित लेख