TomorrowMakers

अगर आप ऐसा टर्म प्लान लेना चाहते हैं जिसमें पॉलिसी की अवधि में मृत्यु न होने की स्थिति में आपको कुछ फायदा मिले, तो आपके लिए टर्म प्लान विद रिटर्न ऑफ प्रीमियम सबसे उपयुक्त जीवन बीमा प्लान रहेगा।

tr

जीवन बीमा पॉलिसी लेकर आप निश्चिंत हो सकते हैं कि आपके न रहने पर भी आपके परिवार की देखभाल ठीक से होती रहेगी और टीआरओपी उन पॉलिसीधारकों के लिए उपयुक्त है जिन्हें उम्मीद है कि पॉलिसी की अवधि के दौरान उनकी मृत्यु नहीं होगी। टीआरओपी आपके लिए सही है न नहीं ये फैसला लेने के पहले आइए उनके बारे में गहराई से जानते हैं।

टर्म प्लान विद रिटर्न ऑफ प्रीमियम (टीआरओपी) क्या हैं?

सबसे जरूरी ये जानना है कि साधारण टर्म प्लान पॉलिसी का क्या मतलब है। जहां कुछ जीवन बीमा पॉलिसी के तहत पॉलिसीधारक को उसकी मुत्यु तक सुरक्षा मिलती है, वहीं टर्म प्लान तय अवधि के लिए लिया जाता है, आमतौर पर 10, 15, 20, 25 या फिर 30 साल के लिए। आजकल कुछ नए टर्म प्लान 75 साल की उम्र तक कवर मुहैया करा रहे हैं। हालांकि, टर्म प्लान जिंदगी भर के लिए कवर नहीं प्रदान करते हैं, लेकिन टर्म प्लान के कम प्रीमियम इन्हें काफी आकर्षक बना देते हैं। इस वजह से टर्म प्लान उन लोगों के लिए किफायती बन जाते हैं जिनकी भारी प्रीमियम चुकाने की क्षमता नहीं होती है (जैसे उन बीमा पॉलिसी के लिए जिनमें बचत और निवेश का विकल्प होता है), लेकिन उन्हें जीवन बीमा पॉलिसी से मिलने वाली सुरक्षा चाहिए होती है।

टर्म प्लान के प्रीमियम किफायती होने की वजह है पॉलिसी की अवधि में अगर पॉलिसीधारक की मुत्यु नहीं होती है तो पॉलिसी खत्म होने पर पॉलिसीधारक कोई रकम नहीं मिलती है। हालांकि, इस वजह से कुछ लोग टर्म प्लान से बचते हैं। इस को ध्यान रखते हुए बीमा कंपनियां परंपरागत टर्म प्लान का एक अलग प्रकार ग्राहकों को मुहैया कराने लगी हैं – ऐसा टर्म प्लान जिसमें पॉलिसीधारक को प्रीमियम वापिस मिलता है (टर्म प्लान विद रिटर्न ऑफ प्रीमियम या टीआरओपी)।

जैसा नाम से पता चलता है टीआरओपी टर्म प्लान का ही एक प्रकार है जिसमें पॉलिसीधारक को पॉलिसी की अवधि के दौरान भरे गए प्रीमियम की पूरी राशि (टैक्स काटकर) वापिस मिलती है। सैद्धांतिक रूप से टीआरओपी के तहत आप बिना किसी खर्च के बीमा करवा सकते हैं, क्योंकि प्लान की अवधि खत्म होने के बाद पॉलिसीधारक जीवित होने पर उसे टर्म प्लान में भरी पूरी रकम वापस मिल जाती है।

एक उदाहरण लेते हैं - 35 वर्षीय, धूम्रपान नहीं करने वाले, राहुल ने टीआरओपी प्लान लिया है और पॉलिसी की मुख्य बातें हैं – 

टीआरओपी में भी कुछ अतिरिक्त फायदे और सेवाएं जुड़वाई जा सकती है। कुछ बीमा कंपनियों के प्लान के तहत पॉलिसीधारक कुछ साल प्रीमियम भरकर पॉलिसी की पूरी अवधि में बीमा कवर का फायदा उठा सकता है। वहीं, कुछ कंपनी मिड-टर्म बेनेफिट मुहैया कराती हैं जिसके तहत अगर पॉलिसी की आधी अवधि तक पॉलिसीधारक जीवित रहता है, तो उसे भरे गए प्रीमियम का 40 फीसदी हिस्सा लौटाया जाता है। टीआरओपी के कई प्रकार के प्लान बाजार में उपलब्ध हैं और ग्राहक अपनी और अपने परिवार की जरूरतों के मुताबिक प्लान का चुनाव कर सकते हैं।

क्या आपके लिए टीआरओपी प्लान उपयुक्त है?

इस सवाल का जवाब आपकी सोच और आपकी जरूरतों पर निर्भर करता है। अगर आप ऐसा टर्म प्लान चाहते हैं जिसमें पॉलिसी की अवधि खत्म होने के बाद आप खाली हाथ न रह जाएं, बल्कि भरे हुए प्रीमियम की पूरी राशि मिल जाए, तो आपके लिए टीआरओपी सबसे बेहतर विकल्प है।

हालांकि, टीआरओपी प्लान के प्रीमियम थोड़े महंगे होते हैं, जिससे सभी ग्राहकों के लिए इन्हें लेना संभव नहीं होता है। इसके अलावा टीआरओपी प्लान को निवेश विकल्प के तौर पर नहीं देखा जा सकता है। आपको जो रिटर्न मिलेगा वो मुनाफा नहीं होगा, बल्कि आपने जो रकम बीमा कंपनी को प्रीमियम के रूप में दी है उसकी भरपाई होगी।

अंत में आप अपनी जरूरतों और वित्तीय हालत के आधार पर चाहे टीआरओपी चुने या फिर साधारण टर्म प्लान लें, दोनों की स्थितियों में आपके परिवार का भविष्य सुरक्षित बनेगा।

आपको कितने बीमा कवर की जरूरत है ये जानने के लिए यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख