TomorrowMakers

बीमा कवर प्राप्त करने के लिए आप जिस प्रीमियम का भुगतान करते हैं वह विभिन्न कारों और विभिन्न मालिकों के लिए अलग-अलग होता है। यहां कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कारक दिये गए हैं जिन पर प्रीमियम राशि तय करने से पहले विचार किया जाता है।

Key factors that determine car insurance premium in India

इसमें कोई संदेह नहीं कि मोटर बीमा प्रत्येक वाहन मालिक के लिए ज़रूरी है। यह किसी भी नुकसान या आपदा की स्थिति में न केवल आपकी कार को सुरक्षा देता है बल्कि आपको भी सुरक्षित करता है।

यहां सवाल उठता है कि इस पर कितना खर्च आएगा?

बीमा कवर प्राप्त करने के लिए आप जिस प्रीमियम का भुगतान करते हैं वह विभिन्न कारों और विभिन्न मालिकों पर निर्भर करते हुए अलग-अलग होता है। यहां कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कारक दिये गए हैं जिन पर प्रीमियम का आंकड़ा तय करने से पहले विचार किया जाता है।

वाहन का मॉडल

आपके द्वारा भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम की राशि मुख्य रूप से बीमाकृत घोषित मूल्य पर निर्भर करती है। “बाज़ार मूल्य” का ही एक रोचक नाम है बीमाकृत घोषित मूल्य। इस तरह, आपकी कार जितनी महंगी होगी, आपको प्रीमियम के तौर पर उतनी ही अधिक राशि का भुगतान करना होगा। यह मानना सुरक्षित होगा कि आयातित ब्रांड और एसयूवी या हाई एंड सेडान जैसी बड़ी कारों के लिए हैचबैक कारों की तुलना में अधिक प्रीमियम चुकाना पड़ता है। इसी तरह, ईंधन के प्रकार पर निर्भर करते हुए, आम तौर पर डीज़ल वाहनों के लिए प्रीमियम अधिक होता है।


इसके अलावा निर्माण का वर्ष और रजिस्ट्रेशन की तारीख पर भी ध्यान दिया जाता है। अगर किसी वाहन में दुर्लभ या महंगे स्पेयर पार्ट्स लगाए जाते हैं तो उसका बीमा प्रीमियम भी बढ़ जाता है।

वाहन का प्रयोजन/उद्देश्य

कार बीमा निजी और व्यावसायिक वाहनों के लिए भी उपलब्ध है। यदि आप अपने वाहन का व्यावसायिक उपयोग कर रहे हैं तो इसे आय का स्रोत मानते हुए, बीमा कंपनियां आपसे ज़्यादा बीमा प्रीमियम वसूल करने के लिए बाध्य हैं।

सुरक्षा उपकरण

आधुनिक कारों को सभी यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बनाया जाता है। ये एयरबैग्स, बेहतरीन ब्रेकिंग प्रणाली, मजबूत तालों और एंटि थेफ्ट डिवाइस (चोरी रोकने के उपकरण) जैसी सुरक्षा की अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ आती हैं। यही वजह है कि कुछ बीमाकर्ता उन कारों के लिए प्रीमियम बढ़ा देते हैं जो क्षति पहुंचने, सवार व्यक्ति को चोट लगने और चोरी होने के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं। वहीं दूसरी ओर उन कारों के लिए प्रीमियम कम होता है जो इन सभी मानकों पर बेहतर प्रदर्शन करती हैं।


यदि आपकी कार बेहतर सुरक्षा प्रदान करती है तो आप प्रीमियम पर 2.5 प्रतिशत की छूट प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए शर्त है कि आपकी कार के फीचर्स, ऑटोमोबाइल रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एआरएआई) द्वारा स्वीकृत विशेषताओं की सूची में शामिल हों। यही वजह है कि कार खरीदने से पहले थोड़ी जानकारी हासिल कर लेने की सलाह दी जाती है।

बीमा क्षेत्र

आप कहां रहते हैं और आपकी कार किस स्थान पर रजिस्टर्ड है यह तथ्य भी आपके द्वारा भरे जाने वाले मोटर बीमा प्रीमियम की राशि को प्रभावित करते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए बीमाकर्ताओं द्वारा एक वाहन को क्षति पहुंचने की आशंका को आधार बनाकर ‘बीमा क्षेत्र’ बनाए गए हैं।


जानबूझकर दूसरों की संपत्ति को नष्ट करने की प्रवृत्ति, चोरी और दुर्घटनाओं की उच्च दर के कारण, शहरी चालकों को छोटे शहरों या ग्रामीण इलाकों के लोगों की तुलना में अधिक प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है। आम तौर पर इस क्षेत्रीय विभाजन को, मेट्रो शहर और शेष भारत के वर्गों में बांटकर किया जाता है।

और भी बहुत कुछ...

भारतीय बीमा कंपनियां कार बीमा प्रीमियम पर निर्णय लेने से पहले ऊपर दिए गए सभी कारकों पर ज़रूर विचार करती हैं। लेकिन तेज़ी से विकसित होते बीमा उद्योग को देखते हुए तय है कि ऐसे कई अतिरिक्त कारक हैं जो प्रीमियम निर्धारण के लिए जल्द ही महत्वपूर्ण बन सकते हैं।

इन कारकों में शामिल है आपका क्रेडिट इतिहास, आपकी कार द्वारा तय की गई दूरी, आपकी कार की नियमित रूप से किसी अधिकृत डीलर द्वारा मरम्मत की जाती है या नहीं और क्या आपका कार दुर्घटनाओं में शामिल होने का इतिहास रहा है।

सीखने योग्य सबक?

गाड़ी सावधानी से चलाएं। यह न केवल आपकी जिंदगी बचा सकता है बल्कि आपके पैसे को भी बचा सकता है।

एक बार फिर से...

कार बीमा का प्रीमियम निर्धारित करने वाले मुख्य कारक

  • बीमा करवाने में मेरा कितना खर्चा होगा?
  • क्या मैं कार बीमा के लिए बहुत अधिक भुगतान कर रही हूं?

जवाब यहां है

  • वाहन का मॉडल: जितना ज़्यादा बाज़ार मूल्य, उतना महंगा प्रीमियम
  • वाहन का प्रयोजन: व्यावसायिक वाहनों पर चार्ज किया जाता है अधिक प्रीमियम

सुरक्षा उपकरण: अगर आपकी कार में सुरक्षा उपकरण लगे हैं तो प्रीमियम में मिलेगी छूट

बीमा क्षेत्र: चोरी और उत्पात की घटनाओं के कारण शहरी ड्राइवर भरते हैं अधिक प्रीमियम