लंबे समय तक लॉकडाउन होने से आपके वाहन कैसे प्रभावित हो सकता है?

यहां कुछ तथ्य दिए गए हैं जिन्हें आपको कोविड-19 महामारी के दौरान अपने मोटर बीमा को नवीनीकृत करने से पहले समझ लेना चाहिए।

 लंबे समय तक लॉकडाउन होने से आपके वाहन कैसे प्रभावित हो सकता है?

कोविड-19 महामारी ने सिर्फ सामान्य दिनचर्या में परिवर्तन नहीं किया है, लेकिन सभी को अपने घरों के भीतर सीमित कर दिया है। देश में प्रबल मौजूदा सबसे लंबे लॉकडाउन में से एक ने गतिशीलता पर पाबंदी लगा दी है। हम में से कई लोगो ने कई महीनों से स्थानीय किराने की दुकान के अलावा कहीं कदम नहीं रखा है । इस तरह के परिदृश्यों में, हमारे वाहन कई दिनों के लिए बिना उपयोग आये ही पड़े रहते है ।

लंबे समय तक चल रहे लॉकडाउन में राहत की सांस आयी जब सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 30 मार्च 2020 को एक आदेश जारी किया । इस आदेश के अनुसार कहा गया कि 1 फरवरी 2020 के बाद से समाप्त होने वाले परिवहन से संबंधित सभी दस्तावेजों की वैधता 30 जून 2020 तक वैध मानी जाएगी। इसमें फिटनेस सर्टिफिकेट, परमिट, ड्राइवर का लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन के दस्तावेज शामिल होंगे । हालांकि, कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए, मंत्रालय ने राज्य और केंद्र शासित प्रदेश के अधिकारियों को 30 जून 2020 से 30 सितंबर 2020 तक वैधता अवधि बढ़ाने की सलाह दी ।

इसके अतिरिक्त, 21 मई 2020 को, केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के नियम 32/नियम 81 के तहत, शुल्क वैधता पर छूट दी जाएगी। 31 जुलाई 2020 तक यात्रा दस्तावेजों पर कोई विलम्ब शुल्क या अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा। 

आपकी कार पर लॉकडाउन का प्रभाव

  • अपनी खली कड़ी हुई वाहन के इंजन को नहीं चलाने से इंजन खराब हो सकता है और बैटरी डिस्चार्ज हो सकती है। 
  • बहुत लंबे समय तक कार को स्थिर छोड़ना टायर क्षति का कारण बन सकता है; विशेष रूप से वह हिस्सा जो जमीन के संपर्क में है।
  • एक बंद पार्किंग स्थल में खड़ी वाहनों को चूहों के घुसने और बिजली के तारों और प्लास्टिक के हिस्सों को नुकसान पहुंचाने का खतरा होता है । 
  • एयर कंडीशनिंग, ब्रेक, या यहां तक कि वाइपर जैसे पार्ट्स की समय-समय पर जांच सुनिश्चित नहीं करना उनकी स्थिति को प्रभावित कर सकता है।

जब आप घर के अंदर सुरक्षित रहते हैं, तो भी अपने वाहनों की थोड़ी अतिरिक्त देखभाल करना न भूलें। यदि आप ऐसा करने में लापरवाही करेंगे, तो लॉक डाउन के बाद आपको एक मोटा बिल का भुगतान करना पड़ सकता है जो आप की प्रतीक्षा कर रहा हो। 

महामारी के दौरान अपने मोटर बीमा नवीनीकरण का महत्व

राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए, वित्त मंत्रालय ने वाहन दस्तावेजों की वैधता का विस्तार जारी किया जो 1 फरवरी २०२० के बाद से समाप्त हो गया था। ऑनलाइन नवीकरण संभव होने के साथ, यहां बताया गया है कि लॉकडाउन के दौरान भी अपने दस्तावेज़ों को नवीनीकृत करना क्यों आवश्यक है

  • यह आपके एनसीबी को सुरक्षित करता है: संचित 'स्व-क्षति ' प्रीमियम राशि पर पेश की जाने वाली छूट, आपका नो-क्लेम बोनस (एनसीबी) सिर्फ 5 वर्षों में 50% तक बढ़ सकता है। यदि आप अपनी नीति को नवीनीकृत नहीं करते हैं, तो आप अपनी एनसीबी खो सकते हैं।
  • यह स्वयं द्वारा हुए नुकसान का दावा करने की अनुमति देता है: अपने मोटर बीमा रद्द होने देना असलाहनिय होगा, खासकर यदि सरकार ने एक छूट की अवधि प्रदान की है । और तो और , बीमा में राइडर जोड़ने से रंग या चमड़े की सीटों में मौसम के कारण हुई क्षति को भी कवर कर सकते हैं ।

पेशेवर सुझाव : बीमा राइडर क्या होता है ?  वे एक सक्रिय बीमा पॉलिसी में जोड़े गए प्रावधान हैं जो अधिक व्यापक कवरेज देते हैं। राइडर्स को अतिरिक्त खर्च करके खरीदा जा सकता है जिसे बीमित व्यक्ति द्वारा वहन किया जाना चाहिए। 

  • यह अतिरिक्त खर्चों का ख्याल रखता है: एक अम्ब्रेला नीति में प्राकृतिक आपदा के कारण होने वाले नुकसान की वजह से हुए अप्रत्याशित खर्च को भी शामिल किया गया है-जैसे हाल ही में आये अम्फान चक्रवात के कारण नुकसान।

संक्षेप में, 1 फरवरी 2020 से समाप्त होने वाले सभी मोटर वाहन दस्तावेजों की वैधता बढ़ा दी गई है । शून्य स्पर्श नीति और ऑनलाइन नवीकरण की उपलब्धता के साथ, लंबे समय तक लॉकडाउन के दौरान भी कार की बीमा पॉलिसी को नवीनीकृत करने में विफल रहने का अब आपके पास कोई बहाना नहीं है।




संबंधित लेख