पुरुष बनाम महिला: दोपहिया वाहन खरीदने में अंतर

पुरुष मंगल ग्रह से हैं और महिलाएं शुक्र से। लेकिन क्या दोपहिया वाहनों में उनकी पसंद भी अलग है? जाहिरा तौर पर, हाँ।

पुरुष बनाम महिला: दोपहिया वाहन खरीदने में अंतर

दोनों, महानगरों में,जो ट्रैफिक से भरे हैं और छोटे शहरों और गांवों में,जिनके पास बेहतर बुनियादी ढांचा नहीं हैं, दोपहिया वाहन अपरिहार्य हो गए हैं। एक दोपहिया वाहन कई कारणों से एक स्मार्ट निवेश है।कार की तुलना में यह अत्यधिक सस्ती है, बेहतर माइलेज देती है - आसमान छूने वाला ईंधन की कीमतों को एक वरदान, और आपको परिवहन की आसानी प्रदान करता है। हालांकि दोपहिया वाहन खरीदने के लिए ये उद्देश्य लिंग-निष्पक्ष हैं, पर वाहन खरीदते समय ध्यान में आने वाले कारक ऐसे नहीं होते।

दोपहिया वाहन लेने पर पुरुषों और महिलाओं के पास टिक करने के लिए अलग-अलग बॉक्स होते हैं। आइए देखें कि ये क्या हैं

प्रकार: दोपहिया का प्रकार - चाहे वह बाइक हो या स्कूटर दोनों लिंगों के बीच एक प्रमुख अंतर है। जबकि ज्यादातर महिलाएं स्कूटर पसंद करती हैं, पुरुष ऐसी बाइक पसंद करते हैं, जो लंबी दुरी पर चल सकें।

वजन: दोपहिया वाहन का चयन करते समय किसी व्यक्ति की ऊंचाई और ढांचा महत्वपूर्ण कारक हैं। महिलाएं हल्के वजन वाले वाहन पसंद करती हैं क्योंकि वे चलाने में आसान होते हैं, और यह आराम से सवारी करने के लिए महत्वपूर्ण है। आजकल, हल्की बाइक उपलब्ध हैं जो दोनों लिंग के लोग चुन सकते हैं। 

ऑटो स्टार्ट: किक स्टार्ट करने वालों की तुलना में महिलाएं ऑटो स्टार्ट बाइक पसंद करती हैं। यही बात पुरुषों के बारे में भी कही जा सकती है। ऑटो और इलेक्ट्रिक स्टार्ट की सुविधा दोनों लिंग को समान रूप से आकर्षित करती है। यहां तक कि रॉयल एनफील्ड और हार्ले डेविडसन जैसी बाइक्स की खासियत इलेक्ट्रिक स्टार्ट और रिमोट स्टार्ट है। हालांकि, कुछ लोग पुराने ज़माने के किक स्टार्ट को पसंद करते हैं।

शैली और रंग: महिलाएं अधिक चटख रंगों की ओर आकर्षित होती हैं, जबकि पुरुष मिलिट्री हरा, नीला, काला और हर बार अक्सर लाल रंग से चिपके रहते हैं। महिलाएं स्टाइल को अधिक महत्व देती है, जबकि पुरुष हॉर्स पावर पर ध्यान देते हैं।

स्टोरेज :चूंकि हेलमेट पहनना और जरुरी कागजात ले जाना महत्वपूर्ण हो गया है, इसलिए रखने की पर्याप्त जगह अनिवार्य हो गई है। हालांकि, यह महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय लेने वाला कारक है। महिलाएं हर समय अपनी आवश्यक वस्तुओं को ले जाने के लिए ज्यादा जगह की डिक्की पसंद करती हैं।

व्यावहारिकता: जीवन में सभी मामलों में, महिलाएं अपनी पसंद में व्यावहारिक होती हैं। बाइक खरीदने की बात आने पर भी यह सच है। महिलाएं ऐसे दोपहिया वाहनों को चुनती हैं जिनकी सवारी की गुणवत्ता बेहतर होती है और वे दैनिक आधार पर उपयोग करने के लिए प्रायोगिक होते हैं। हालांकि यह कहना गलत होगा कि पुरुष अव्यावहारिक हैं, वे बड़ी मशीनों को खरीदने को व्यावहारिकता से अधिक एड्रेनालाईन को प्राथमिकता देते हैं।

जबकि कुछ कारक अलग-अलग होते हैं, कुछ लिंग अंतर के बावजूद निष्पक्ष रहते हैं। दोनों, पुरुष और महिलाएँ माइलेज और सर्विसिंग और रखरखाव लागत को अच्छी तरह से परखती हैं। इसके अलावा, दोपहिया वाहन की कीमत और पुनर्विक्रय मूल्य भी एक महत्वपूर्ण निर्णायक है।

आज अधिक से अधिक महिलाएं आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो रही हैं, वे दुपहिया वाहन खरीदने की ओर अग्रसर हैं। इस प्रवृत्ति को देखते हुए, निर्माता महिलाओं के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए दोपहिया वाहनों को पेश कर रहे हैं जो पतला, हल्का हैं और आपके पैसे को सबसे अच्छा वसूल देते हैं।

इस त्योहारी मौसम में एक नई बाइक खरीदना चाहते हैं? यहां भारत में सबसे अच्छे दोपहिया वाहनों के साथ-साथ बजट, माइलेज, उपयोग की गई या नई और ऐसे अधिक चीजों पर विचार किया जाना चाहिए।

संबंधित लेख

 

Most Shared