Pay As You Drive: आप भी मोटर इंशोरेंस पर 20 प्रतिशत तक कर सकते हैं बचत, नहीं जानते तो जान लें ये स्कीम

'पे एज़ यू ड्राइव' मोटर बीमा पॉलिसी के तहत आप मोटर इंशोरेंस पर 20 प्रतिशत तक कर सकते हैं बचत, अगर नहीं जानते कैसे तो यहां समझें

Pay As You Drive

Pay As You Drive: भारत में कार इंश्योरेंस को लेकर सख्त नियम हैं। अगर आप कार का इस्तेमाल अधिक नहीं करते हैं और आपकी कार महीने में एक बार सड़क पर आती है, तो आपको कम से कम एक थर्ड-पार्टी मोटर बीमा लेना होगा। इसके साथ ही अगर आपने अपनी गाड़ी का फुल बीमा कराया हुआ है तो आपको इसके बदले भारी प्रीमियम भुगतान करना होगा। पहले हल्की और भारी गाड़ियों के प्रीमियम पर कोई खास अंतर नहीं होता था लेकिन पिछले कुछ समय से मोटर बीमा पॉलिसी अधिक ग्राहक-अनुकूल बन गई हैं। अब कार मालिकों के पास अपनी वाहन बीमा पॉलिसी को अपने अनुसार मॉडलाइज करने का विकल्प मौजूद है। 

दरअसल बीमा कंपनियों को ये एहसास हुआ कि रिस्क का मतलब हर किसी के लिए अलग-अलग है। रिस्क इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप कितना ड्राइव करते हैं या कितनी जिम्मेदारी के साथ ड्राइव करते हैं। कस्टमर फ्रेंडली ऐसी ही एक येजना है 'पे एज़ यू ड्राइव' मोटर बीमा पॉलिसी। 

'पे एज़ यू ड्राइव' बीमा प्रोडक्ट स्वयं की क्षति (ओडी) प्लस थर्ड पार्टी (टीपी) पॉलिसी है जहां थर्ड पार्टी के प्रीमियम का कैलकुलेशन कई फैक्टर्स के आधार पर किया जाता है। इस पॉलिसी में डैमेज के प्रीमियम की कैलकुलेशन इस आधार पर की जाएगी कि आप एक निश्चित समय में कितने किलोमीटर गाड़ी चलाते हैं। 

पॉलिसीबाजार.कॉम के मोटर इंश्योरेंस रिन्यूवल्स के प्रमुख अश्विनी दुबे के मुताबिक- 'पे एज़ यू ड्राइव' पॉलिसी दो बुनियादी प्रकार की होती हैं। एक किलोमीटर पर आधारित और दूसरी बीमा पॉलिसी कितने दिनों तक चलती है इस पर आधारित। अश्विनी दूबे के मुताबिक- किलोमीटर आधारित योजनाएं आम तौर पर हर साल 2,500 किलोमीटर से शुरू होती हैं और इसमें 5,000 किलोमीटर, 7,500 किलोमीटर, 10,000 किलोमीटर का स्लैब है। उपयोग को मापने के लिए बीमा कंपनियां आमतौर पर आपकी कार में एक ट्रैकिंग डिवाइस लगाती है या मोबाइल एप्लिकेशन का इस्तेमाल करती है।

उदाहरण के लिए, एचडीएफसी एर्गो के 'पे एज़ यू ड्राइव' किलोमीटर बेनिफिट ऐड-ऑन कवर के तहत यदि आप एक साल में 10,000 किलोमीटर से कम ड्राइव कर रहे हैं तो आप बेसिक सेल्फ डैमेज प्रीमियम में 25 प्रतिशत तक की छूट ले सकते हैं। आपके द्वारा चलाए जा रहे किलोमीटर के आधार पर छूट अलग-अलग होगी। यदि आप बीमाकर्ता के साथ पॉलिसी रिन्यू जारी रखते हैं तो आपकी पिछली पॉलिसी में कोई क्लेम नहीं होने पर आपको बेसिक डैमेज प्रीमियम पर 5 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट मिलती है।

यदि आप किलोमीटर की सीमा से अधिक गाड़ी चलाते हैं तो आम तौर पर थर्ड पार्टी कवर एक्टिव रहेगा लेकिन क्लेम के मामले में कोई सेल्फ डैमेज कवर नहीं होगा। आम तौर पर बीमाकर्ता आपको उस साल के लिए पहले से चुनी गई माइलेज योजना खत्म होने पर अधिक किलोमीटर के साथ अपने कवरेज को बढ़ाने का विकल्प देते हैं।

Pay As You Drive: भारत में कार इंश्योरेंस को लेकर सख्त नियम हैं। अगर आप कार का इस्तेमाल अधिक नहीं करते हैं और आपकी कार महीने में एक बार सड़क पर आती है, तो आपको कम से कम एक थर्ड-पार्टी मोटर बीमा लेना होगा। इसके साथ ही अगर आपने अपनी गाड़ी का फुल बीमा कराया हुआ है तो आपको इसके बदले भारी प्रीमियम भुगतान करना होगा। पहले हल्की और भारी गाड़ियों के प्रीमियम पर कोई खास अंतर नहीं होता था लेकिन पिछले कुछ समय से मोटर बीमा पॉलिसी अधिक ग्राहक-अनुकूल बन गई हैं। अब कार मालिकों के पास अपनी वाहन बीमा पॉलिसी को अपने अनुसार मॉडलाइज करने का विकल्प मौजूद है। 

दरअसल बीमा कंपनियों को ये एहसास हुआ कि रिस्क का मतलब हर किसी के लिए अलग-अलग है। रिस्क इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप कितना ड्राइव करते हैं या कितनी जिम्मेदारी के साथ ड्राइव करते हैं। कस्टमर फ्रेंडली ऐसी ही एक येजना है 'पे एज़ यू ड्राइव' मोटर बीमा पॉलिसी। 

'पे एज़ यू ड्राइव' बीमा प्रोडक्ट स्वयं की क्षति (ओडी) प्लस थर्ड पार्टी (टीपी) पॉलिसी है जहां थर्ड पार्टी के प्रीमियम का कैलकुलेशन कई फैक्टर्स के आधार पर किया जाता है। इस पॉलिसी में डैमेज के प्रीमियम की कैलकुलेशन इस आधार पर की जाएगी कि आप एक निश्चित समय में कितने किलोमीटर गाड़ी चलाते हैं। 

पॉलिसीबाजार.कॉम के मोटर इंश्योरेंस रिन्यूवल्स के प्रमुख अश्विनी दुबे के मुताबिक- 'पे एज़ यू ड्राइव' पॉलिसी दो बुनियादी प्रकार की होती हैं। एक किलोमीटर पर आधारित और दूसरी बीमा पॉलिसी कितने दिनों तक चलती है इस पर आधारित। अश्विनी दूबे के मुताबिक- किलोमीटर आधारित योजनाएं आम तौर पर हर साल 2,500 किलोमीटर से शुरू होती हैं और इसमें 5,000 किलोमीटर, 7,500 किलोमीटर, 10,000 किलोमीटर का स्लैब है। उपयोग को मापने के लिए बीमा कंपनियां आमतौर पर आपकी कार में एक ट्रैकिंग डिवाइस लगाती है या मोबाइल एप्लिकेशन का इस्तेमाल करती है।

उदाहरण के लिए, एचडीएफसी एर्गो के 'पे एज़ यू ड्राइव' किलोमीटर बेनिफिट ऐड-ऑन कवर के तहत यदि आप एक साल में 10,000 किलोमीटर से कम ड्राइव कर रहे हैं तो आप बेसिक सेल्फ डैमेज प्रीमियम में 25 प्रतिशत तक की छूट ले सकते हैं। आपके द्वारा चलाए जा रहे किलोमीटर के आधार पर छूट अलग-अलग होगी। यदि आप बीमाकर्ता के साथ पॉलिसी रिन्यू जारी रखते हैं तो आपकी पिछली पॉलिसी में कोई क्लेम नहीं होने पर आपको बेसिक डैमेज प्रीमियम पर 5 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट मिलती है।

यदि आप किलोमीटर की सीमा से अधिक गाड़ी चलाते हैं तो आम तौर पर थर्ड पार्टी कवर एक्टिव रहेगा लेकिन क्लेम के मामले में कोई सेल्फ डैमेज कवर नहीं होगा। आम तौर पर बीमाकर्ता आपको उस साल के लिए पहले से चुनी गई माइलेज योजना खत्म होने पर अधिक किलोमीटर के साथ अपने कवरेज को बढ़ाने का विकल्प देते हैं।

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget