इच्‍छाओं और ज़रूरतों के बीच अंतर का पता लगाना

क व्यक्ति की ज़रूरतें और इच्‍छाएं दो अलग-अलग चीजें हैं, और खर्चों को निर्धारित करके आपको दोनों को पूरा करने में मदद मिल सकती है। 50/30/20 जैसी व्यक्तिगत बजटिंग टिप्‍स आपको वित्तीय स्वतंत्रता हासिल करने के लिए पैसे बचाने में मदद कर सकती हैं।

इच्‍छाओं और ज़रूरतों के बीच अंतर का पता लगाना

अर्थशास्त्र में हम अक्सर ज़रूरतों और इच्‍छाओं शब्दों का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी इस पर विचार किया है कि वे कैसे भिन्न हैं? आर्थिक सिद्धांत उत्पादन, वितरण और उपभोग के कार्यों की जांच करते हैं। यह मानव की इच्‍छाओं और ज़रूरतों को पूरा करने के साथ-साथ उनके उपयोग को अधिकतम करने के लिए दुर्लभ संसाधनों को आवंटित करने के बारे में निर्णय लेने के लिए संक्षेपण करते हैं। हालांकि, दोनों - इच्‍छाओं और जरूरतों के बीच अंतर करना - विचार का विषय है।

संबंधित : https://www.tomorrowmakers.com/financial-planning/personal-finance-handbook-secure-future-your-family-ebook

ज़रूरतों और इच्‍छाओं के बीच अंतर

जब विशिष्ट वस्तुओं को प्राप्त करने या स्‍वामित्‍व की बात आती है, तो वाक्यांश 'इच्‍छा' और 'ज़रूरत' में अक्सर बदलाव आता है। जिस तरह से इन दो वाक्यांशों को विभिन्न स्थितियों में उपयोग किया जाता है, वह आपको यह सोचने पर मजबूर कर सकते हैं कि उनका अर्थ एक ही है, यदि समान नहीं है। हालांकि, ये दो आर्थिक शब्दावली व्यवहार में काफी भिन्न हैं।

ज़रूरतें वे चीजें हैं जो जीवित रहने के लिए आवश्यक हैं। दूसरी ओर, इच्‍छाएं ऐसी चीजें हैं जो आप पाना चाहते हैं, लेकिन उन चीजों की अनुपस्थिति आपकी जीविका को प्रभावित नहीं करेंगी। पैसे को उचित रूप से खर्च करने और बचाने के लिए, सभी को ज़रूरतों और इच्‍छाओं के बीच के अंतर को समझना चाहिए।

संबंधित:https://www.tomorrowmakers.com/financial-planning/how-audit-your-personal-finances-article

कैसे निर्धारित करें कि क्या ज़रूरते हैं और क्या इच्‍छाएं हैं

हालांकि इच्‍छाओं और ज़रूरतों के बीच अंतर करना एक साधारण कार्य प्रतीत होता है, यह चुनौतीपूर्ण हो सकता है। कुछ चीजों को जल्दी से ज़रूरतों और इच्‍छाओं में विभाजित किया जा सकता है, जबकि अन्य को गहन विचार-विमर्श की आवश्यकता होती है। जीवित रहने के लिए बुनियादी जरूरतों में रहने के लिए जगह, कपड़े और स्वस्थ रहने के लिए पर्याप्त भोजन और पानी शामिल हैं। वे आवश्यक हैं; इसलिए, उन्हें ज़रूरत माना जा सकता है, और बाकी सभी चीजों को इच्‍छाएं कहा जा सकता है। हालांकि, यहीं से रेखाएं धुंधली होने लगती हैं।

सच्चाई यह है कि हम अपने कई फैसले तर्क के बजाय भावनाओं के आधार पर करते हैं, चाहे वह भोजन हो या कपड़ों के लिए हो। इसलिए, आपकी ज़रूरत को निर्धारित करने के लिए इसे एक उचित और ईमानदार आत्मविश्लेषण की आवश्यकता है और जिसे आपकी इच्छा कहा जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ज़रूरत और इच्‍छा के बीच का अंतर व्यक्तिपरक है, और यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकता है। उदाहरण के लिए, अपने बच्चों को किसी प्राइवेट स्कूल में भेजना आपके लिए 'ज़रूरत' हो सकती है, लेकिन दूसरों के लिए 'इच्‍छा'। इसलिए, आपको अपने विशिष्ट मामले का विश्लेषण करने की आवश्यकता है।

50/30/20 बजटिंग नियम

अपनी ज़रूरत और इच्‍छा को संतुलित करने के जटिल अभ्‍यास को बजटिंग कहा जाता है। एक ऐसा बजट बनाना जो आपकी ज़रूरतों और इच्छाओं को संतुलित करता है, आपके वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने की कुंजी है। सीनेटर एलिजाबेथ वारेन और उनकी बेटी अमेलिया वारेन टैगी ने "ऑल योर वर्थ: द अल्टीमेट लाइफटाइम मनी प्लान" नामक अपनी पुस्तक में इच्‍छाओं और ज़रूरतों के बीच अंतर करने के लिए एक व्यावहारिक तरीका सुझाया। लेखकों ने पुस्तक में 50/30/20 बजटिंग नियम का परिचय दिया। यह बजटिंग नियम, जो आपकी शुद्ध आय का आधा हिस्सा आवश्यकताओं के लिए आवंटित करने और शेष भाग को इच्‍छाओं (30%) और बचत (20%) के बीच विभाजित करने की सिफारिश करता है, जिसे आमतौर पर खर्चों को सीमित करने की एक विश्वसनीय विधि के रूप में उद्धृत किया जाता है।

हालांकि, इससे पहले कि आप यह निर्धारित करें कि यह रणनीति कितनी उपयोगी है, आपको पहले अपनी ज़रूरतों और इच्‍छाओं की अच्छी समझ होनी चाहिए।

संबंधित:https://www.tomorrowmakers.com/financial-planning/whats-your-budgeting-style-article

निष्‍कर्ष

संक्षेप में, यह आसानी से निर्धारित किया जा सकता है कि ज़रूरतें और इच्‍छाएं अलग-अलग ताकतें हैं, और वे हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग होती हैं। कुछ लोग, उदाहरण के लिए, मानते हैं कि हेल्‍थकेयर बेनिफिट एक आवश्यकता है; कुछ अन्य उसे लक्‍शरी मानते हैं। सामान्य तौर पर, यदि ज़रूरतें समय पर पूरी नहीं होती हैं तो एक व्यक्ति की जीविका खतरे में पड़ जाती है; हालांकि, इच्‍छाएं ऐसा चीज है जो एक व्यक्ति चाहता है, लेकिन पूरी नहीं होने पर उनकी जीविका को खतरे में नहीं डालता है।

इसलिए, आपको अपने विशिष्ट मामले के अनुसार अपनी ज़रूरतों और इच्‍छाओं को परिभाषित करना चाहिए।

संवादपत्र

संबंधित लेख