Government presented an opportunity to invest in PSU companies by issuing Bharat Bond ETF!: सरकार ने भारत बांड ईटीएफ जारी कर पीएसयू कंपनियों में निवेश का अवसर पेश किया!

भारत बांड ईटीएफ में 8 दिसंबर तक निवेश किया जा सकता है।

भारत बांड ईटीएफ

ETF: भारत बॉन्ड ईटीएफ भारत का पहला कॉरपोरेट बांड है जिसका कारोबार ट्रेडिंग एक्सचेंज के द्वारा किया जाता है। इसके चौथे चरण में जारी किए जाने वाले बॉन्ड अप्रैल 2033 तक मैच्योर होंगे और इसपर 7.5 प्रतिशत का लाभ मिलने की उम्मीद की जा सकती है।

अगर आपको किसी सुरक्षित और स्थायी आय देनेवाले विकल्प में निवेश करने के इच्छुक हैं तो इस बॉम्ड में निवेश कर सकते हैं। भारत सरकार ने पिछले शुक्रवार यानी 2 दिसंबर को भारत का पहले कॉर्पोरेट बॉन्ड ईटीएफ ‘भारत बॉन्ड’ का चौथा चरण जारी किया। इडेलवाइस म्यूचुअल फंड इस ईटीएफ का प्रबंधन करेगा और रिटेल निवेशक इसमें 8 दिसंबर तक निवेश कर सकते हैं। इस ईटीएफ के जरिये जुटाए गये फंड को सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज की ओर से पूंजीगत खर्च में लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें७ वित्तीय नियम

कहाँ कर सकते हैं निवेश?

बीपीएन फिनकैप के निवेशक ए. के. निगम ने फंड की जानकारी ते हुए बताया कि यह एक निष्क्रिय या पैसिव फंड जैसा है। इसमें केवल ‘एएए’ रेटिंग वाले बॉन्डों में पैसा लगाया जाता है, इसलिए यह एक सुरक्षित निवेश विकल्प है। फिलहाल इसका उच्च अर्जित लाभ 7.5 प्रतिशत है, अतः आशा की जा रही है कि इस फंड में निवेश करने से लाभ होगा। इस ईटीएफ को किसी स्टॉक एक्सचेंज से बहुत ही आसानी से खरीदा जा सकता है। इसके अलावा अगर आपके पास डीमैट खाता नहीं है तो आप म्यूचुअल फंड के माध्यम से भी इसमें निवेश कर सकते हैं।

चौथे चरण में जारी किए गये भारत बॉन्ड ईटीएफ की मैच्योरिटी अवधि दस साल की है, यानी यह अप्रैल 2033 तक मैच्योर होगा। मैच्योरिटी पर 7.5 प्रतिशत का लाभ होगा। चौथे चरण में सरकार की ओर से 1000 करोड़ रुपए के आधार सहित 4000 करोड़ रुपए के ग्रीन शो ऑप्शन से पैसा इकट्ठा किया जा रहा है। दिसंबर 2021 में सरकार ने 1,000 करोड़ रुपए की तीसरी किस्त का ऑफर दिया था, जिसमें करीब 6.2 गुना सब्सक्रिप्शन प्राप्त हुआ था।

भारत बॉन्ड ईटीएफ से केवल सार्वजनिक कंपनियों के ‘एएए’ रेटिंग वाले बॉन्डों में निवेश किया जाता है। बॉन्ड ईटीएफ पहली बार 2019 में पेश किया गया था। सीपीएसई ने इस इश्यू से कुल 12,400 करोड़ रुपए एकत्र किए थे। दूसरे चरण में 11,000 करोड़ रुपए और तीसरे चरण में कुल 6,200 करोड़ रुपए एकत्र हुए थे। अब तक के अपने तीन ऑफर में ईटीएफ ने कुल 29,600 करोड़ रुपए जुटाए हैं। फिलहाल 8 दिसंबर तक इस सुरक्षित फंड में निवेश किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: निफ़्टी ५० से रिटर्न

ETF: भारत बॉन्ड ईटीएफ भारत का पहला कॉरपोरेट बांड है जिसका कारोबार ट्रेडिंग एक्सचेंज के द्वारा किया जाता है। इसके चौथे चरण में जारी किए जाने वाले बॉन्ड अप्रैल 2033 तक मैच्योर होंगे और इसपर 7.5 प्रतिशत का लाभ मिलने की उम्मीद की जा सकती है।

अगर आपको किसी सुरक्षित और स्थायी आय देनेवाले विकल्प में निवेश करने के इच्छुक हैं तो इस बॉम्ड में निवेश कर सकते हैं। भारत सरकार ने पिछले शुक्रवार यानी 2 दिसंबर को भारत का पहले कॉर्पोरेट बॉन्ड ईटीएफ ‘भारत बॉन्ड’ का चौथा चरण जारी किया। इडेलवाइस म्यूचुअल फंड इस ईटीएफ का प्रबंधन करेगा और रिटेल निवेशक इसमें 8 दिसंबर तक निवेश कर सकते हैं। इस ईटीएफ के जरिये जुटाए गये फंड को सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज की ओर से पूंजीगत खर्च में लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें७ वित्तीय नियम

कहाँ कर सकते हैं निवेश?

बीपीएन फिनकैप के निवेशक ए. के. निगम ने फंड की जानकारी ते हुए बताया कि यह एक निष्क्रिय या पैसिव फंड जैसा है। इसमें केवल ‘एएए’ रेटिंग वाले बॉन्डों में पैसा लगाया जाता है, इसलिए यह एक सुरक्षित निवेश विकल्प है। फिलहाल इसका उच्च अर्जित लाभ 7.5 प्रतिशत है, अतः आशा की जा रही है कि इस फंड में निवेश करने से लाभ होगा। इस ईटीएफ को किसी स्टॉक एक्सचेंज से बहुत ही आसानी से खरीदा जा सकता है। इसके अलावा अगर आपके पास डीमैट खाता नहीं है तो आप म्यूचुअल फंड के माध्यम से भी इसमें निवेश कर सकते हैं।

चौथे चरण में जारी किए गये भारत बॉन्ड ईटीएफ की मैच्योरिटी अवधि दस साल की है, यानी यह अप्रैल 2033 तक मैच्योर होगा। मैच्योरिटी पर 7.5 प्रतिशत का लाभ होगा। चौथे चरण में सरकार की ओर से 1000 करोड़ रुपए के आधार सहित 4000 करोड़ रुपए के ग्रीन शो ऑप्शन से पैसा इकट्ठा किया जा रहा है। दिसंबर 2021 में सरकार ने 1,000 करोड़ रुपए की तीसरी किस्त का ऑफर दिया था, जिसमें करीब 6.2 गुना सब्सक्रिप्शन प्राप्त हुआ था।

भारत बॉन्ड ईटीएफ से केवल सार्वजनिक कंपनियों के ‘एएए’ रेटिंग वाले बॉन्डों में निवेश किया जाता है। बॉन्ड ईटीएफ पहली बार 2019 में पेश किया गया था। सीपीएसई ने इस इश्यू से कुल 12,400 करोड़ रुपए एकत्र किए थे। दूसरे चरण में 11,000 करोड़ रुपए और तीसरे चरण में कुल 6,200 करोड़ रुपए एकत्र हुए थे। अब तक के अपने तीन ऑफर में ईटीएफ ने कुल 29,600 करोड़ रुपए जुटाए हैं। फिलहाल 8 दिसंबर तक इस सुरक्षित फंड में निवेश किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: निफ़्टी ५० से रिटर्न

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget