क्या आपका म्यूचुअल फंड निवेश सिर्फ ईएलएसएस फंड में होना चाहिए?

जैसे-जैसे ईएलएसएस फंड लोकप्रिय होते जा रहे हैं, निवेशकों सोच में पड़ गए हैं कि क्या उन्हें उनमें ही निवेश करना चाहिए.

क्या आपका म्यूचुअल फंड निवेश सिर्फ ईएलएसएस फंड में होना चाहिए?

जैसे-जैसे भारतीय निवेशकों की दिलचस्पी म्युचुअल फंड्स में बढ़ी है, इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) एक लोकप्रिय विकल्प के रूप में उभर रही है. साथ ही, जनवरी 2020 से मार्च 2021 तक, एक लोकप्रिय भारत-आधारित निवेश प्लेटफॉर्म पर 20%[1] निवेशकों ने ईएलएसएस में निवेश करना चुना.

ये ईएलएसएस आखिर है क्या?

ईएलएसएस एक ओपन-एंडेड इक्विटी स्कीम है जिसके ज़रिए निवेशक टैक्स लाभ का आनंद लेते हुए पैसा बना पाते हैं. इसमें 3 साल के लिए लॉक-इन करना अनिवार्य होता है. टोटल एसेट्स का कम से कम 80% इक्विटी या इक्विटी से संबंधित इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश किया जाता है. चूंकि ईएलएसएस निवेश का बड़ा हिस्सा इक्विटी में होता है, यह बाज़ार की अस्थिरता के अधीन है.

ईएलएसएस में निवेश करने के दो तरीके हैं - या तो एक सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के माध्यम से या एकमुश्त पैसे जमा करके. एसआईपी के माध्यम से, आप नियमित अंतराल (साप्ताहिक, द्विमासिक या मासिक) पर ईएलएसएस फंड में एक निश्चित राशि का निवेश कर सकते हैं. अगर आप एकमुश्त पेमेंट करते हैं तो आप ईएलएसएस फंड में एक निश्चित राशि जमा करके निवेश कर सकते हैं. इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम: ज़्यादा रिटर्न + टैक्स सेविंग्स (Part I)

ईएलएसएस की विशेषताएं क्या हैं?

टैक्स में लाभ

ईएलएसएस इक्विटी म्यूचुअल फंड हैं. चूंकि वे सभी तरह की - छोटी, मध्यम और बड़ी - कंपनियों में निवेश करते हैं, इसलिए उन्हें मल्टी-कैप फंड भी कहा जाता है. आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत, ये 1.5 लाख रुपये की राशि पर टैक्स डिडक्शन भी देते हैं.

अगर आप सबसे बड़े इनकम ब्रैकेट में आते हैं और 30% टैक्स भरते हैं, तो आप 46,800 रुपये तक बचा सकते हैं. इसमें 4% का इनकम टैक्स सेस शामिल है. निवेशकों के लिए लॉन्ग-टर्म वेल्थ बनाने के अलावा, ईएलएसएस एकमात्र म्यूचुअल फंड है जो टैक्स लाभ देता है.

इससे मिलती-जुलती जानकारी: ईएलएसएस बनाम एनपीएस:टैक्स बचाने और पैसे बनाने में इनमें से कौन आपकी ज़्यादा मदद कर सकता है?

लॉक-इन पीरियड

निवेश के टैक्स सेविंग विकल्पों में सबसे कम लॉक-इन पीरियड ईएलएसएस में है (नीचे टेबल देखें).

निवेश विकल्प

लॉक-इन पीरियड

यूलिप 5 साल
एनएससी 5 साल और 10 साल
टैक्स सेविंग एफडी 5 साल
पीपीएफ 15 साल
ईएलएसएस 3 साल

 

संबंधित लेख