Mutual Fund for Senior Citizens

क्या वरिष्ठ नागरिक कम जोखिम निवेश गोल्स के लिए म्यूचुअल फंड चुन सकते हैं?

वरिष्ठ नागरिकों के लिए म्यूचुअल फंड

Mutual fund investments for the senior Citizens: वरिष्ठ नागरिकों को अगर किसी बात की सबसे अधिक चिंता होती है तो वह है उनकी बढ़ती उम्र की। बढ़ती उम्र के साथ बाजार में जोखिम उठाने की चाह नहीं होती और मुनाफ़े के अवसर कम होते जाते हैं। म्यूचुअल फंड में यदि रिटर्न और रिस्क का सही तालमेल बिठा लिया जाए तो वरिष्ठ नागरिकों को बेहतर रिटर्न मिल सकता है और जोखिम भी कम होता है। 

वरिष्ठ नागरिकों के लिए बेहतर विकल्प म्यूचुअल फंड 

आम तौर पर समझा जाता है कि म्यूचुअल फंड एक जोखिम का निवेश है इसलिए वरिष्ठ नागरिकों को कम पसंद आता हो लेकिन अब ऐसी स्थिति नहीं रही। कुछ म्यूचुअल फंड खास तौर पर वरिष्ठ नागरिकों के लिए ही डिजाइन किए गए हैं जिनमें जोखिम पर खास ध्यान दिया गया है ।

आरडी (RD) और एफडी (FD) से ज्यादा रिटर्न 

मौजूदा दौर में बैंको से आरडी और एफडी में वरिष्ठ नागरिकों को 3% से 7% तक ब्याज मिलता है। सरकार द्वारा पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिकों को 7.6% ब्याज दे रहा है तो नेशनल पेंशन स्कीम में 9-12 % का ब्याज दिया जा रहा है। 

म्यूचुअल फंड बाजार के प्रदर्शन पर निर्भर करता है। इसलिए कभी भी रिटर्न पूर्वनिर्धारित नहीं होता। लेकिन निवेश की अवधि के अनुसार अच्छे क्रेडिट रेटिंग वाली कंपनियों के शॉर्ट टर्म प्लान अवश्य चुने जा सकते हैं जो एफडी से बेहतर रिटर्न देते हैं। 

यह भी पढ़ें: वैल्यू फंड कैसे अलग है?

म्यूचुअल फंड की फ्लेक्सीबिलिटी 

म्यूचुअल फंड द्वारा निवेशकों की रकम का बॉन्ड एटीएफ आदि विविध क्षेत्रों में निवेश किया जाता है। निवेशकों द्वारा मेहनत से जोड़ी गई रकम को उस क्षेत्र के जानकारों द्वारा लाभ प्राप्त करने के लिए किया गया निवेश म्यूचुअल फंड अक्सर लाभकारी होता है। म्यूचुअल फंड भुगतान के सुविधाजनक विकल्प देता है जैसे निवेशक चाहें तो एकमुश्त भुगतान कर सकता है या फिर एसआईपी के जरिए निर्धारित समय पर भुगतान किया जा सकता है। इस प्रकार मुद्रास्फीति के प्रभाव से भी बचा जा सकता है। 

लाँग टर्म में अधिक मुनाफा 

वरिष्ठ नागरिक रिटायरमेंट के बाद किए गए निवेश के कारण बाजार की अनिश्चितता के नुकसान से बचना चाहते हैं। ऐसे में म्यूचुअल फंड या कोई भी निवेश जो उन्हें गारंटीड मुनाफा देता हो उनके लिए सही होता है। इसलिए पोस्ट ऑफिस में बचत खाते, बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट या फिर राष्ट्रीय बचत योजना में निवेश किया जाता है। यदि वरिष्ठ नागरिक लाँग टर्म का निवेश करना चाहते हैं तो म्यूचुअल फंड में निवेश एक अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि इसमें शॉर्ट टर्म जैसा नुकसान दिखाई नहीं देता। 

म्यूचुअल फंड में निवेशक किसी भी समय निवेश बाहर निकाल सकता है जबकि एनपीएस में यह सुविधा उपलब्ध नहीं होती। म्यूचुअल फंड में ऐसेट या परिसंपत्ति बदलने की भी गुंजाइश होती है। 

डेट (Debt) म्यूचुअल फंड में निवेश 

वरिष्ठ नागरिक पहले 5 सालों के लिए डेट म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं, और बाद के 5 सालों में जरूरत के मुताबिक बैलेंस्ड म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। 10 सालों के बाद के लिए लार्जकैप निवेश चुनना एक अच्छा विकल्प है। 

यह भी पढ़ें: अपना म्यूच्यूअल फण्ड पोर्टफोलियो के सुझाव

Best Mutual Fund for Senior Citizens 

संवादपत्र

संबंधित लेख