Equity mutual funds: इक्विटी में बने रहेंगे तो पाएंगे तगड़ा रिटर्न

यदि आप लंबी अवधि के निवेश के साथ बाजार में बने रह सकते हैं तो म्यूचुअल फंड देगा शानदार मुनाफ़ा।

म्यूचुअल फंड लंबे निवेश से गारंटीड रिटर्न

Equity Mutual Fund returns: शेयर बाजार के जानकार और बड़े निवेशक अक्सर बाजार में लंबे समय तक बने रहने पर ज़ोर देते हैं। मार्केट गुरू वारेन बफेट का कहना था कि यदि कोई बाजार में 10 साल नहीं टिक सकता तो उसे 10 दिन भी नहीं रहना चाहिए। तमाम वित्तीय सलाहकार यह सलाह देते हैं कि शेयर बाजार में कंपाउंडिंग का पूरा लाभ उठाना हो तो बाजार में लंबे समय की पारी खेलने पर ध्यान देना चाहिए। धीरज रखते हुए यदि आप अपने निवेश को बनाए रखें तो अच्छा शानदार मुनाफ़े की गारंटी मिलती है। यदि निवेशक जल्दबाजी में इक्विटी में पैसा लगाने के बाद संयम न बरते तो उसे फायदा तो नहीं होगा उल्टे नुकसान हो सकता है। 

अधिक समय अधिक रिटर्न 

आमतौर पर देखा गया है कि इक्विटी में मिलने वाला रिटर्न समय के साथ कई गुना बढ़ता है। 10 साल में जितना ब्याज मिलता है वह उसके आगे 5 या 10 सालों में चार से पाँच गुना हो सकता है। फिलहाल बाजार में ऐसी कई श्रेणियों के म्यूचुअल फंड मौजूद हैं जिनमें 15 से 20 सालों में लगभग 15% से 18% तक का रिटर्न मिला है। यदि आप निवेश 10 सालों से अधिक समय के लिए बनाए रखें तो अगले 5 सालों के लिए या उसके आगे कंपाउंडिंग के चलते रिटर्न बहुत बढ़ जाता है।

यहाँ कुछ चुनिंदा म्यूचुअल फंड की जानकारी दे रहे हैं। साथ ही इन सभी स्कीम्स के रिटर्न की तुलना भी दी जा रही है।

यह भी पढ़ें: वैल्यू फंड कैसे अलग है? 

एचडीएफसी टॉप 100 फंड 

एचडीएफसी की इस स्कीम में लंबी अवधि के निवेशकों को 10, 15 और 20 सालों में क्रमशः 12%, 11.5% और 21% की वार्षिक दर से रिटर्न मिला है। इसके अनुसार यदि प्रतिमाह ₹5000 की एसआईपी की जाए तो 10 सालों बाद कुल मूल्य ₹11.5 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों बाद मूल्य ₹24 लाख होगा, और 20 सालों बाद यह ₹1.8 करोड़ हो जाएगा। 

एसबीआई लार्ज एंड मिडकैप फंड 

एसबीआई के इस फंड द्वारा 10, 15 और 20 सालों में क्रमशः 16.5%, 12% और 23% की वार्षिक दर से रिटर्न मिला है। इस हिसाब से प्रतिमाह ₹5000 की रकम एसआईपी की गई हो तो 10 सालों बाद उसका कुल मूल्य ₹15.3 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों बाद यही रकम ₹25.2 लाख हो जाएगी, और 20 सालों बाद रकम ₹2.3 करोड़ हो जाएगी।  

निप्पॉन इंडिया ग्रोथ फंड 

निप्पॉन इंडिया 20 सालों में सर्वाधिक रिटर्न देने वाला फंड रहा। इस स्कीम ने 10, 15 और 20 सालों में क्रमशः 16.5%, 12.5% और 24.5% की वार्षिक दर से रिटर्न दिया है। इस लिहाज से हर महीने ₹5000 की एसआईपी की गई हो तो 10 सालों बाद कुल मूल्य ₹15.3 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों बाद कुल मूल्य ₹26.5 लाख हो जाएगा, और 20 सालों बाद यह रकम ₹3.2 करोड़ हो जाएगी।

क्वांट एक्टिव फंड 

इस म्यूचुअल फंड ने 10,15 और 20 सालों में क्रमशः 20%, 12% और 20.46% की वार्षिक दर से अपने निवेशकों को रिटर्न दिया है। इसी हिसाब से प्रतिमाह ₹5000 की रकम एसआईपी की गई तो 10 सालों में कुल मूल्य ₹19.2 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों में यह रकम ₹25.2 लाख हो जाएगी और 20 सालों के बाद यह रकम ₹1.7 करोड़ हो जाएगी।

यह भी पढ़ेंअपना म्यूच्यूअल फण्ड पोर्टफोलियो के सुझाव

Equity Mutual Fund returns: शेयर बाजार के जानकार और बड़े निवेशक अक्सर बाजार में लंबे समय तक बने रहने पर ज़ोर देते हैं। मार्केट गुरू वारेन बफेट का कहना था कि यदि कोई बाजार में 10 साल नहीं टिक सकता तो उसे 10 दिन भी नहीं रहना चाहिए। तमाम वित्तीय सलाहकार यह सलाह देते हैं कि शेयर बाजार में कंपाउंडिंग का पूरा लाभ उठाना हो तो बाजार में लंबे समय की पारी खेलने पर ध्यान देना चाहिए। धीरज रखते हुए यदि आप अपने निवेश को बनाए रखें तो अच्छा शानदार मुनाफ़े की गारंटी मिलती है। यदि निवेशक जल्दबाजी में इक्विटी में पैसा लगाने के बाद संयम न बरते तो उसे फायदा तो नहीं होगा उल्टे नुकसान हो सकता है। 

अधिक समय अधिक रिटर्न 

आमतौर पर देखा गया है कि इक्विटी में मिलने वाला रिटर्न समय के साथ कई गुना बढ़ता है। 10 साल में जितना ब्याज मिलता है वह उसके आगे 5 या 10 सालों में चार से पाँच गुना हो सकता है। फिलहाल बाजार में ऐसी कई श्रेणियों के म्यूचुअल फंड मौजूद हैं जिनमें 15 से 20 सालों में लगभग 15% से 18% तक का रिटर्न मिला है। यदि आप निवेश 10 सालों से अधिक समय के लिए बनाए रखें तो अगले 5 सालों के लिए या उसके आगे कंपाउंडिंग के चलते रिटर्न बहुत बढ़ जाता है।

यहाँ कुछ चुनिंदा म्यूचुअल फंड की जानकारी दे रहे हैं। साथ ही इन सभी स्कीम्स के रिटर्न की तुलना भी दी जा रही है।

यह भी पढ़ें: वैल्यू फंड कैसे अलग है? 

एचडीएफसी टॉप 100 फंड 

एचडीएफसी की इस स्कीम में लंबी अवधि के निवेशकों को 10, 15 और 20 सालों में क्रमशः 12%, 11.5% और 21% की वार्षिक दर से रिटर्न मिला है। इसके अनुसार यदि प्रतिमाह ₹5000 की एसआईपी की जाए तो 10 सालों बाद कुल मूल्य ₹11.5 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों बाद मूल्य ₹24 लाख होगा, और 20 सालों बाद यह ₹1.8 करोड़ हो जाएगा। 

एसबीआई लार्ज एंड मिडकैप फंड 

एसबीआई के इस फंड द्वारा 10, 15 और 20 सालों में क्रमशः 16.5%, 12% और 23% की वार्षिक दर से रिटर्न मिला है। इस हिसाब से प्रतिमाह ₹5000 की रकम एसआईपी की गई हो तो 10 सालों बाद उसका कुल मूल्य ₹15.3 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों बाद यही रकम ₹25.2 लाख हो जाएगी, और 20 सालों बाद रकम ₹2.3 करोड़ हो जाएगी।  

निप्पॉन इंडिया ग्रोथ फंड 

निप्पॉन इंडिया 20 सालों में सर्वाधिक रिटर्न देने वाला फंड रहा। इस स्कीम ने 10, 15 और 20 सालों में क्रमशः 16.5%, 12.5% और 24.5% की वार्षिक दर से रिटर्न दिया है। इस लिहाज से हर महीने ₹5000 की एसआईपी की गई हो तो 10 सालों बाद कुल मूल्य ₹15.3 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों बाद कुल मूल्य ₹26.5 लाख हो जाएगा, और 20 सालों बाद यह रकम ₹3.2 करोड़ हो जाएगी।

क्वांट एक्टिव फंड 

इस म्यूचुअल फंड ने 10,15 और 20 सालों में क्रमशः 20%, 12% और 20.46% की वार्षिक दर से अपने निवेशकों को रिटर्न दिया है। इसी हिसाब से प्रतिमाह ₹5000 की रकम एसआईपी की गई तो 10 सालों में कुल मूल्य ₹19.2 लाख हो जाएगा, वहीं 15 सालों में यह रकम ₹25.2 लाख हो जाएगी और 20 सालों के बाद यह रकम ₹1.7 करोड़ हो जाएगी।

यह भी पढ़ेंअपना म्यूच्यूअल फण्ड पोर्टफोलियो के सुझाव

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख