SIP contribution crosses Rs 13 thousand crore!: एसआईपी कंट्रीब्यूशन 13 हजार करोड़ रुपए के पार!

इक्विटी म्यूचुअल फंड का नेट इनफ्लो 33.4% गिरने के बावजूद, डेट फंड्स में आउटफ्लो जारी है।

इक्विटी म्यूचुअल फंड का नेट इनफ्लो 33 4 गिरने के बावजूद

SIP Contribution: भारतीय म्यूचुअल फंड एसोसिएशन ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उनके अनुसार अक्टूबर 2022 में एसआईपी कंट्रीब्यूशन में काफी बढ़ोत्तरी हुई है और यह 13 हजार करोड़ रुपए से भी अधिक हो गया है।

अक्टूबर के महीने में भारतीय शेयर बाजारों में समग्र रूप से एक तेजी दिखाई दी है पर, इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में नेट इनफ्लो में भारी कमी आई है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया द्वारा 10 अक्टूबर को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार अक्टूबर के महीने में इक्विटी फंड्स में 9,390.4 करोड़ रुपए का नेट इनफ्लो हुई, जो सितंबर के 14,099.73 करोड़ रुपए के नेट इनफ्लो की तुलना में 33.4 प्रतिशत कम है। जबकि अक्टूबर में भारतीय शेयर बाजार के इंडेक्स, बीएसई सेंसेक्स में 5.78 प्रतिशत और निफ्टी 50 में 5.37 प्रतिशत की बढ़त देखी गई थी।

एएमएफआई द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार डेट म्यूचुअल फंड्स में अक्टूबर के दौरान भी नेट आउटफ्लो होता रहा। अक्टूबर में डेट फंड्स में कुल 2,817.79 करोड़ रुपए का आउटफ्लो रहा, जबकि इसी अवधि में ओवरनाइट फंड्स में 7,505.38 करोड़ रुपए का आउटफ्लो दर्ज हुआ। दूसरी तरफ, लॉन्ग ड्यूरेशन फंड्स, गिल्ट फंड्स और लिक्विड फंड्स में अक्टूबर के दौरान नेट इनफ्लो दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के प्रदर्शन में सुधार

वर्ष 2022 के अक्टूबर महीने में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के प्रदर्शन में सुधार देखा गया है। सितंबर में इस उद्योग से कुल 41,404.3 करोड़ रुपए का आउटफ्लो हुआ था, पर अक्टूबर में 14,046.9 करोड़ रुपए का नेट आउटफ्लो दर्ज किया गया है। इसके अलावा मनी मार्केट फंड्स से सितंबर में 11,232.1 करोड़ रुपए का आउट-फ्लो हुआ था, लेकिन अक्टूबर में यह घटकर 1,996.3 करोड़ रुपए रह गया। सितंबर में, पूरी म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का नेट एसेट अंडर मैनेजमेंट 38.4 लाख करोड़ रुपए था, जो बढ़कर अक्टूबर में 39.5 लाख करोड़ रुपए का हो गया है। अक्टूबर के महीने में कुल 31 नई म्यूचुअल फंड स्कीमें शुरू की गईं, जिनमें से 28 ओपन एंडेड और 3 क्लोज एंडेड स्कीमें थीं। इन स्कीमों ने लगभग 5,439 करोड़ रुपए इकठ्ठा किए।

एसआईपी योगदान में वृद्धि 

अक्टूबर के महीने में देश में सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी के खातों की संख्या और उनके जरिए किए गए निवेश की रकम, दोनों में वृद्धि हुई है। सितंबर 2022 में देश में कुल एसआईपी योगदान 12,976.34 करोड़ रुपए था, जो अक्टूबर 2022 में बढ़कर 13,040.64 करोड़ रुपए हो गया। इसी अवधि में देश में एसआईपी के कुल खातों की संख्या भी 5.83 करोड़ से बढ़कर 5.93 करोड़ हो गई है।इसका मतलब यह है कि अक्टूबर के महीने में देश में इनकी संख्या में 9.52 लाख की वृद्धि हुई है। देश में एसआईपी के माध्यम से निवेश की रकम में तीन महीने से लगातार वृद्धि हो रही है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के सीईओ एन एस वेंकटेश ने एसआईपी खातों और निवेश में इस बढ़ोतरी को आम निवेशकों के मजबूत इरादों का संकेत बताया और कहा, “बाजार में ग्लोबल फैक्टर्स और डोमेस्टिक रेट हाइक की प्रतिक्रिया लगातार देखने को मिलती है. लेकिन म्यूचुअल फंड निवेशकों ने महीने-दर-महीने एसआईपी में निवेश करना जारी रखकर अपने मजबूत इरादों का परिचय दिया है।”

कुल मिलाकर इस स्थिति को सकारात्मक ही माना जा रहा है और इस रुख के आगे जारी रहने की उम्मीद की जा रही है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

SIP Contribution: भारतीय म्यूचुअल फंड एसोसिएशन ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उनके अनुसार अक्टूबर 2022 में एसआईपी कंट्रीब्यूशन में काफी बढ़ोत्तरी हुई है और यह 13 हजार करोड़ रुपए से भी अधिक हो गया है।

अक्टूबर के महीने में भारतीय शेयर बाजारों में समग्र रूप से एक तेजी दिखाई दी है पर, इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में नेट इनफ्लो में भारी कमी आई है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया द्वारा 10 अक्टूबर को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार अक्टूबर के महीने में इक्विटी फंड्स में 9,390.4 करोड़ रुपए का नेट इनफ्लो हुई, जो सितंबर के 14,099.73 करोड़ रुपए के नेट इनफ्लो की तुलना में 33.4 प्रतिशत कम है। जबकि अक्टूबर में भारतीय शेयर बाजार के इंडेक्स, बीएसई सेंसेक्स में 5.78 प्रतिशत और निफ्टी 50 में 5.37 प्रतिशत की बढ़त देखी गई थी।

एएमएफआई द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार डेट म्यूचुअल फंड्स में अक्टूबर के दौरान भी नेट आउटफ्लो होता रहा। अक्टूबर में डेट फंड्स में कुल 2,817.79 करोड़ रुपए का आउटफ्लो रहा, जबकि इसी अवधि में ओवरनाइट फंड्स में 7,505.38 करोड़ रुपए का आउटफ्लो दर्ज हुआ। दूसरी तरफ, लॉन्ग ड्यूरेशन फंड्स, गिल्ट फंड्स और लिक्विड फंड्स में अक्टूबर के दौरान नेट इनफ्लो दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के प्रदर्शन में सुधार

वर्ष 2022 के अक्टूबर महीने में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के प्रदर्शन में सुधार देखा गया है। सितंबर में इस उद्योग से कुल 41,404.3 करोड़ रुपए का आउटफ्लो हुआ था, पर अक्टूबर में 14,046.9 करोड़ रुपए का नेट आउटफ्लो दर्ज किया गया है। इसके अलावा मनी मार्केट फंड्स से सितंबर में 11,232.1 करोड़ रुपए का आउट-फ्लो हुआ था, लेकिन अक्टूबर में यह घटकर 1,996.3 करोड़ रुपए रह गया। सितंबर में, पूरी म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का नेट एसेट अंडर मैनेजमेंट 38.4 लाख करोड़ रुपए था, जो बढ़कर अक्टूबर में 39.5 लाख करोड़ रुपए का हो गया है। अक्टूबर के महीने में कुल 31 नई म्यूचुअल फंड स्कीमें शुरू की गईं, जिनमें से 28 ओपन एंडेड और 3 क्लोज एंडेड स्कीमें थीं। इन स्कीमों ने लगभग 5,439 करोड़ रुपए इकठ्ठा किए।

एसआईपी योगदान में वृद्धि 

अक्टूबर के महीने में देश में सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी के खातों की संख्या और उनके जरिए किए गए निवेश की रकम, दोनों में वृद्धि हुई है। सितंबर 2022 में देश में कुल एसआईपी योगदान 12,976.34 करोड़ रुपए था, जो अक्टूबर 2022 में बढ़कर 13,040.64 करोड़ रुपए हो गया। इसी अवधि में देश में एसआईपी के कुल खातों की संख्या भी 5.83 करोड़ से बढ़कर 5.93 करोड़ हो गई है।इसका मतलब यह है कि अक्टूबर के महीने में देश में इनकी संख्या में 9.52 लाख की वृद्धि हुई है। देश में एसआईपी के माध्यम से निवेश की रकम में तीन महीने से लगातार वृद्धि हो रही है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के सीईओ एन एस वेंकटेश ने एसआईपी खातों और निवेश में इस बढ़ोतरी को आम निवेशकों के मजबूत इरादों का संकेत बताया और कहा, “बाजार में ग्लोबल फैक्टर्स और डोमेस्टिक रेट हाइक की प्रतिक्रिया लगातार देखने को मिलती है. लेकिन म्यूचुअल फंड निवेशकों ने महीने-दर-महीने एसआईपी में निवेश करना जारी रखकर अपने मजबूत इरादों का परिचय दिया है।”

कुल मिलाकर इस स्थिति को सकारात्मक ही माना जा रहा है और इस रुख के आगे जारी रहने की उम्मीद की जा रही है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख