Top 10 Midcap and Small cap: टॉप 10 मिडकैप और स्मॉल कैप फंड

दिसंबर 2022 तक म्यूचुअल फंड ने मिडकैप और स्मॉलकैप कंपनियों में पैसा लगाया। कुल आवक रही ₹7300 करोड़।

मिडकैप और स्मॉल कैप फंड

Top 10 Midcap: इस पूरे साल भर म्यूचुअल फंड ने बड़ी मात्रा में मिडकैप और स्मॉलकैप पर पैसा लगाया। इस क्षेत्र की कुल आवक ₹7300 करोड़ रही। वैसे तो शेयर बाजार में अनिश्चितता का माहौल बना रहा लेकिन भारत के आर्थिक प्रगति के चलते पिछले साल स्मॉलकैप कंपनियों के लिए अच्छा रहा। वहीं मिडकैप कंपनियों को भी आर्थिक सुधारों का तेजी का फायदा मिला। 

इस क्षेत्र का एयूएम साल के अंत में 16.6 लाख करोड़ हो गया। जिसमें 2020 के अंत के नौ महीने में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की गई। इसका मतलब है 20% की वार्षिक वृद्धि के साथ साल 2022 खत्म हुआ हालाँकि वित्त वर्ष खत्म होने में अभी एक तिमाही और बाकी है।

एसआईपी (SIP) का निवेश 

यदि निवेश के तरीकों का अध्ययन करें तो एसआईपी (SIP) के जरिए सबसे अधिक निवेश हुआ जो अपने रिकॉर्ड हाई पर था। एसआईपी का कुल निवेश रहा ₹13570। इसमें 20 बेसिस पॉइंट की अर्थात 20% की बढ़ोतरी हुई और प्रतिमाह 2% की वृद्धि दर्ज की गई। म्यूचुअल फंडों के फंड हाउस ने भी अपने स्टॉक के प्रति स्ट्रैटजी में बदलाव किया। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

जिन लार्जकैप में निवेश किया गया इनके नाम यहाँ दिए जा रहे हैं। टॉप बाय (buy) लार्जकैप में मैक्रोटेकि डेवलपर्स, आइआरसीटीसी (IRCTC), नायका, वेदांता और अदानी ट्रांसमिशन पहले पाँच पायदान पर रहीं। इसी के साथ अदानी टोटल गैस, एलआईसी, एलटीआईमाइंडट्री, डाबर इंडिया के साथ बॉश लिमिटेड टॉप बाय में रही। टॉप सेल (sell) जिन लार्ज कैप कंपनियों का हुआ उनमें अडानी एंटरप्राइज, वरुण बेवरेजेस, बर्जर पेंट्स पहले तीन स्थानों पर रहे। इनके साथ टॉप 10 लिस्ट में टाटा एलेक्सी Elxsi, टाटा पावर कंपनी का शुमार रहा। साथ ही इंडस टावर्स, डॉ. रेड्डीज लैब और एचडीएफसी लाइफ ने भी जगह बनाई। हिंदुस्तान जिंक और इन्फोएज इंडिया ये अन्य दो कंपनियाँ टॉप 10 में शामिल थीं। 

मिडकैप और स्मॉलकैप में निवेश जारी 

इस साल मिडकैप और स्मॉलकैप में लगातार निवेश जारी रहा और आवक बढ़ते-बढ़ते 2022 में 7300 करोड़ तक पहुँच गई जो कि पहले ₹2250 करोड़ थी। यदि तुलनात्मक अध्ययन करें तो लार्जकैप से लोगों ने निवेश का निकास किया। वहीं आवक स्मॉलकैप और मिडकैप में जारी दिखी। यह निवेश एसआईपी के जरिए बड़ी संख्या में था। नवंबर में एसआईपी की कुल इन्फ़्लो रहा ₹13,300 करोड़ जो कि दिसंबर में बढ़कर ₹13,573 करोड़ तक पहुँच चुकी थी। 

नीचे चार्ट में टॉप कंपनियाँ जो कि मिडकैप और स्मॉलकैप हैं दी जा रही हैं – 

मिडकैप टॉप बाय में रहा बैंक ऑफ इंडिया, वोडाफोन आइडिया, एलएंडटी और पेटीएम। साथ ही निपॉन, एचडीएफसी एएमसी, जीएमआर एयरपोर्ट्स इन्फ्रास्ट्रक्चर, PB फिनटेक, SAIL के साथ एनएमडीसी भी टॉप बाय में शामिल रहा। 

स्मॉल कैप टॉप बाय कंपनियाँ रहीं GMM Pfaudler, जुबिलैंट इनग्रेविया, जिंदल स्टेनलेस और सफायर फूड्स इंडिया। रेनबो चिल्ड्रन्स मेडिकेयर, गुजरात नर्मदा वैली फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स, VRL लजिस्टिक्स Ethos PCBL के साथ Elantas Beck India भी इस लिस्ट में थी।

टॉप 10 सेल था

मिडकैप टॉप 10 Sell पेट्रोनेट LNG, L&T टेक्‍नोलॉजी सर्विसेज, पूनावाला फिनकॉर्प, गोदरेज प्रॉपर्टीज, BHEL, श्रीराम फाइनेंस, Biocon, अरबिंदो फार्मा, द रैमको सीमेंट्स और Gujarat Gas आदि। 

स्‍मॉलकैप टॉप 10 Sell वाली कम्पनियाँ रहीं अमारा राजा बैटरीज, ग्रीव्‍स कॉटन, एक्‍शन कंस्‍ट्रक्‍शन, Mazagon Dock Shipbuilders, सियाराम सिल्‍क मिल्‍स, गुजरात इंडस्‍ट्रीज पावर कंपनी, प्राज इंडस्‍ट्रीज, Himatsingka Seide, सनटेक रियल्‍टी, महाराष्‍ट्र सीमलेस आदि।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

TOP Mid-Cap Stocks to Buy in 2023

Top 10 Midcap: इस पूरे साल भर म्यूचुअल फंड ने बड़ी मात्रा में मिडकैप और स्मॉलकैप पर पैसा लगाया। इस क्षेत्र की कुल आवक ₹7300 करोड़ रही। वैसे तो शेयर बाजार में अनिश्चितता का माहौल बना रहा लेकिन भारत के आर्थिक प्रगति के चलते पिछले साल स्मॉलकैप कंपनियों के लिए अच्छा रहा। वहीं मिडकैप कंपनियों को भी आर्थिक सुधारों का तेजी का फायदा मिला। 

इस क्षेत्र का एयूएम साल के अंत में 16.6 लाख करोड़ हो गया। जिसमें 2020 के अंत के नौ महीने में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की गई। इसका मतलब है 20% की वार्षिक वृद्धि के साथ साल 2022 खत्म हुआ हालाँकि वित्त वर्ष खत्म होने में अभी एक तिमाही और बाकी है।

एसआईपी (SIP) का निवेश 

यदि निवेश के तरीकों का अध्ययन करें तो एसआईपी (SIP) के जरिए सबसे अधिक निवेश हुआ जो अपने रिकॉर्ड हाई पर था। एसआईपी का कुल निवेश रहा ₹13570। इसमें 20 बेसिस पॉइंट की अर्थात 20% की बढ़ोतरी हुई और प्रतिमाह 2% की वृद्धि दर्ज की गई। म्यूचुअल फंडों के फंड हाउस ने भी अपने स्टॉक के प्रति स्ट्रैटजी में बदलाव किया। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

जिन लार्जकैप में निवेश किया गया इनके नाम यहाँ दिए जा रहे हैं। टॉप बाय (buy) लार्जकैप में मैक्रोटेकि डेवलपर्स, आइआरसीटीसी (IRCTC), नायका, वेदांता और अदानी ट्रांसमिशन पहले पाँच पायदान पर रहीं। इसी के साथ अदानी टोटल गैस, एलआईसी, एलटीआईमाइंडट्री, डाबर इंडिया के साथ बॉश लिमिटेड टॉप बाय में रही। टॉप सेल (sell) जिन लार्ज कैप कंपनियों का हुआ उनमें अडानी एंटरप्राइज, वरुण बेवरेजेस, बर्जर पेंट्स पहले तीन स्थानों पर रहे। इनके साथ टॉप 10 लिस्ट में टाटा एलेक्सी Elxsi, टाटा पावर कंपनी का शुमार रहा। साथ ही इंडस टावर्स, डॉ. रेड्डीज लैब और एचडीएफसी लाइफ ने भी जगह बनाई। हिंदुस्तान जिंक और इन्फोएज इंडिया ये अन्य दो कंपनियाँ टॉप 10 में शामिल थीं। 

मिडकैप और स्मॉलकैप में निवेश जारी 

इस साल मिडकैप और स्मॉलकैप में लगातार निवेश जारी रहा और आवक बढ़ते-बढ़ते 2022 में 7300 करोड़ तक पहुँच गई जो कि पहले ₹2250 करोड़ थी। यदि तुलनात्मक अध्ययन करें तो लार्जकैप से लोगों ने निवेश का निकास किया। वहीं आवक स्मॉलकैप और मिडकैप में जारी दिखी। यह निवेश एसआईपी के जरिए बड़ी संख्या में था। नवंबर में एसआईपी की कुल इन्फ़्लो रहा ₹13,300 करोड़ जो कि दिसंबर में बढ़कर ₹13,573 करोड़ तक पहुँच चुकी थी। 

नीचे चार्ट में टॉप कंपनियाँ जो कि मिडकैप और स्मॉलकैप हैं दी जा रही हैं – 

मिडकैप टॉप बाय में रहा बैंक ऑफ इंडिया, वोडाफोन आइडिया, एलएंडटी और पेटीएम। साथ ही निपॉन, एचडीएफसी एएमसी, जीएमआर एयरपोर्ट्स इन्फ्रास्ट्रक्चर, PB फिनटेक, SAIL के साथ एनएमडीसी भी टॉप बाय में शामिल रहा। 

स्मॉल कैप टॉप बाय कंपनियाँ रहीं GMM Pfaudler, जुबिलैंट इनग्रेविया, जिंदल स्टेनलेस और सफायर फूड्स इंडिया। रेनबो चिल्ड्रन्स मेडिकेयर, गुजरात नर्मदा वैली फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स, VRL लजिस्टिक्स Ethos PCBL के साथ Elantas Beck India भी इस लिस्ट में थी।

टॉप 10 सेल था

मिडकैप टॉप 10 Sell पेट्रोनेट LNG, L&T टेक्‍नोलॉजी सर्विसेज, पूनावाला फिनकॉर्प, गोदरेज प्रॉपर्टीज, BHEL, श्रीराम फाइनेंस, Biocon, अरबिंदो फार्मा, द रैमको सीमेंट्स और Gujarat Gas आदि। 

स्‍मॉलकैप टॉप 10 Sell वाली कम्पनियाँ रहीं अमारा राजा बैटरीज, ग्रीव्‍स कॉटन, एक्‍शन कंस्‍ट्रक्‍शन, Mazagon Dock Shipbuilders, सियाराम सिल्‍क मिल्‍स, गुजरात इंडस्‍ट्रीज पावर कंपनी, प्राज इंडस्‍ट्रीज, Himatsingka Seide, सनटेक रियल्‍टी, महाराष्‍ट्र सीमलेस आदि।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

TOP Mid-Cap Stocks to Buy in 2023

संवादपत्र

संबंधित लेख