टारगेट मैच्योरिटी डेट फंड्स: क्या इस समय निवेश का यह अच्छा विकल्प है?

इन अशांत समय के बीच, सभी निवेश अनिश्चित लगते हैं। आप बिना किसी संदेह के किसमें निवेश कर सकते हैं? जानने के लिए पढ़ें

क्या इस समय टारगेट मैच्योरिटी डेट फंड्स निवेश का एक अच्छा विकल्प हैं

टारगेट मैच्योरिटी फंड्स, जिन्हें एक विशिष्ट परिपक्वता तिथि के साथ डेट फंड के रूप में भी जाना जाता है, अभी काफी लोकप्रिय हैं क्योंकि माना जाता है कि यह डेट स्पेस में मौजूदा अस्थिरता के माध्यम से नेविगेट करने का एक अच्छा तरीका है। म्यूचुअल फंड सलाहकार और फंड मैनेजर इस बात से सहमत हैं कि 10 साल के सरकारी यील्ड में बढ़ोतरी ने उन्हें उन लोगों के लिए विचार करने का एक अच्छा विकल्प बना दिया है जो कम समय अवधि के बजाय लंबी अवधि के लक्ष्य के लिए डेट म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं। वे हाल ही में म्यूचुअल फंड न्‍यूज़ में प्रचलित विषय रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: सबसे अच्‍छे डेट म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे करें

एडलवाइस म्यूचुअल फंड, मार्केटिंग और डिजिटल बिजनेस, के हेड प्रोडक्ट निरंजन अवस्थी ने कहा कि, "टारगेट मैच्योरिटी फंड्स निवेशकों को बॉन्ड के एक विशिष्ट सेगमेंट में अपने निवेश को लॉक-इन करने की अनुमति देते हैं, जहां मुनाफा आकर्षक होता है। वर्तमान में, 5 से 10 साल के बीच लंबी मैच्योरिटी सेगमेंट में मुनाफा बढ़ा है और 2026 से 2032 के मैच्योरिटी के साथ टारगेट मैच्योरिटी फंड में निवेश करना लंबी अवधि के निवेशकों के लिए एक उचित अवसर की तरह दिखाई देता है।"

निस्संदेह, वर्ष 2022 में जनवरी का महीना वैश्विक बॉन्ड के लिए सबसे खराब संभावित तरीकों से अशांत रहा है। विकासशील और विकसित बाजारों में बॉन्ड यील्‍ड में वृद्धि हुई। इस अनिश्चितता के बीच प्रतिभागियों को अपनी स्थिति को समायोजित करने पर मजबूर होना पड़ा।

यह भी पढ़ें: क्या डेट फंड महंगाई और ब्याज दरों को मात दे सकता है?

बॉन्ड मार्केट के असल भविष्य में अस्थिर रहने की भविष्यवाणी की गई है और जब रिटर्न की बात आती है तो डेट म्यूचुअल फंड बहुत आशाजनक नहीं रहे हैं। नए बजट के बाद डेट फंड की कई श्रेणियां खतरे में थीं। यह कहना सुरक्षित है कि यथास्थिति बनाए रखने के आरबीआई के फैसले से सभी के कंधों से भार हट गया है। ब्याज दरों में बढ़ोतरी के प्रभाव के कारण डेट फंड अनिश्चितता के दौर से गुजर रहे हैं। इन सभी स्थितियों ने बाजार को अविश्वसनीय और अस्थिर बना दिया है।

इसलिए, म्यूचुअल फंड सलाहकार रिटर्न पर कुछ और हानि के बजाय निवेशकों को अच्छी ब्याज दरें प्राप्त करने के लिए एक तरह से टारगेट मैच्‍योरिटी फंड का समर्थन कर रहे हैं। वे निर्दिष्ट अवधि के लिए निवेश कर सकते हैं और रिटर्न पर भरोसा कर सकते हैं क्योंकि वे डेट फंड्स के विपरीत एक निश्चित मात्रा में पूर्वानुमेयता रखते हैं।

एक सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर, और प्लान अहेड वेल्थ एडवाइज़र्स के CEO, विशाल धवन कहते हैं कि, "यह देखते हुए कि भारत में निश्चित-आय वाले निवेशक पारंपरिक रूप से अपनी निश्चित-आय के निवेश से तीन चीजें चाहते हैं - रिटर्न की पूर्वानुमेयता, निवेश होल्‍ड करने के लिए एक पूर्वनिर्धारित अवधि और आपात स्थिति के मामले में लिक्विडिटी, डेट टारगेट-डेट फंड्स निवेशकों के लिए उनके पोर्टफोलियो में देखने के लिए एक अच्छा विकल्प है।"  

विशाल धवन कहते हैं कि, "ये योजनाएं विभिन्न सूचकांकों को ट्रैक करते हुए बनाई गई हैं, जो PSU बॉन्ड या सरकारी प्रतिभूतियां या राज्य विकास ऋण या इन अंतर्निहित उपकरणों के संयोजन हो सकते हैं। चूंकि वे निष्क्रिय फंड्स हैं और लागत भी कम है, इसलिए वे एक कुशल विकल्प हो सकते हैं। निवेशकों को छोटी से मध्‍यम अवधि में बाजार के प्रभाव के संकेत को नज़रअंदाज़ करना होगा, क्योंकि वे वैसे भी ज्यादातर मामलों में इन योजनाओं को परिपक्वता तिथि तक होल्‍ड करने की संभावना रखते हैं।"  

यह भी पढ़ें: म्यूचुअल फंड्स: विभिन्न प्रकार के फंड उपलब्ध हैं

अंतिम विचार

टारगेट मैच्योरिटी फंड्स उन लोगों के लिए निवेश करने का एक अच्छा तरीका है जो लंबी अवधि के वित्तीय लक्ष्यों की तलाश कर रहे हैं और बाजार में अल्पकालिक अस्थिरता को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख