जब आप इन लिक्‍विड म्यूचुअल फंडों में निवेश कर सकते हैं तो बचत खाते में अपना पैसा क्यों रखें?

बैंक बचत खाते में अपने पैसे को यूं ही निष्क्रिय न पड़ा रहने दें। यदि आप अपना पैसा सही तरीके से निवेश करते हैं तो आप इसे बढ़ा सकते हैं

2018 के लिए भारत में सर्वेश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करने वाले 5 लिक्विड म्‍यूचुअल फंड्स

हम में से अधिकांश लोग आकस्मिक परिस्थिति से मुकाबला करने के लिए अपने बैंक अकाउंट में पैसा रखना ज्‍यादा सुरक्षित मानते हैं। ऐसा सोचना स‍ही है; हालांकि, अंगूठे के नियम के अनुसार, आपको अपने बैंक खाते में एक महीने या उससे अधिक की आय रखने की आवश्यकता नहीं है। यदि यह इससे अधिक है तो इसका मतलब यह है कि आप अपने धन को बेहतर जगह रखने के अवसर खो रहे हैं। 

अधिकतर बचत खाते 3.5 से 4 प्रतिशत वार्षिक ब्‍याज की ही पेशकश करते हैं। मई 2018 में महंगाई की दर 4.87% थी। वास्‍तविक अर्थ में कहा जाए तो बैंक में रखी आपकी नकदी कुछ पैसे कमा रही है, लेकिन मूल्य के हिसाब से देखें तो आपकी पूंजी नष्‍ट हो रही है। 

इसीलिए हर किसी को गैर-महत्‍वपूर्ण निवेश से बचने और सक्रिय नकदी प्रबंधन के लिए लिक्विड फंड पर गौर करना चाहिए। जैसे कि नाम से ही पता चलता है कि लिक्विड फंड में पैसे लगाना और निकालना बहुत ही आसान होता है। 

जब आप इन लिक्‍विड म्यूचुअल फंडों में निवेश कर सकते हैं तो बचत खाते में अपना पैसा क्यों रखें?


यहां बेहतर प्रदर्शन करने वाले पांच लिक्विड फंड की एक सूची दी गई है जो आपकी आकस्मिक निधि में कुछ अतिरिक्त पैसे जोड़ सकती हैं।

1. प्रिंसिपल एएमसी: कैश मैनेजमेंट फंड

पिछले एक साल और पांच साल की अवधि में, प्रिंसिपल एसेट मैनेजमेंट कंपनी के लिक्विड फंड ने सबसे बेहतर यील्‍ड प्रदान की है। वहीं तीन साल की अवधि और लॉन्‍चिंग के बाद से अब तक यह दूसरा सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वाला फंड रहा है।

प्रिंसिपल ने 1271 करोड़ रुपये के अपने छोटे फंड को अच्छी तरह से प्रबंधित किया है और बहुत ही कुशल वित्‍तीय प्रबंधन वाली अन्य बड़ी कंपनियों को पीछे छोड़ा है।

व्‍यय अनुपात के रूप में 0.15% चार्ज करने या प्रबंधन लागत जिसे आपके निवेश में से काटा जाता है, यह कंपनी उद्योग में प्रचलित इन सभी तौर-तरीकों का पालन करती है। 

यील्‍ड: 1 वर्ष - 6.96% | 3 वर्ष- 7.46% | 5 वर्ष- 8.71% | लॉन्‍च के बाद से 8.22%

2. इंडिया बुल्‍स एएमसी: लिक्विड फंड 

यह बहुत मामूली अंतर से दूसरे नंबर पर मौजूद है। इंडियाबुल्‍स लिक्‍विड फंड ने तीन वर्ष और लॉन्‍च से लेकर अब तक की अवधि में सबसे बेहतर यील्‍ड प्रदान की है। वहीं अन्‍य दो कैटेगरी में यह प्रिंसिपल एएमसी के बाद दूसरे नंबर पर है। 

हालांकि, इसके फंड का आकार प्रिंसिपल से लगभग चार गुना अधिक यानि कि 4541 करोड़ रुपये है। इंडियाबुल्स लिक्विड फंड में निवेश का दूसरा लाभ यह है कि इसका व्‍यय अनुपात सबसे कम 0.07% है। 

यील्‍ड: 1 वर्ष- 6.93% | 3 वर्ष- 7.55% | 5 वर्ष- 8.21% | लॉन्‍च के बाद से 8.27%

3. रिलायंस एएमसी: लिक्विड फंड

रिलायंस एएमसी सभी फंड श्रेणियों में भारत के सबसे पुराने और सबसे भरोसेमंद एएमसी में से एक है। 15 साल के पुराने लिक्विड फंड के साथ इसके प्रदर्शन में कोई अंतर नहीं आया है, और यही वजह है कि 51,485 करोड़ रुपये के भारी भरकम फंड का प्रबंधन करता है। हालांकि छोटी अवधि की डेट स्‍कीम में निवेश करते समय नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) या खरीद मूल्य ज्यादा मायने नहीं रखता है, फिर भी यहां दिए गए पांच सबसे बेहतर फंड में रिलायंस लिक्‍विड फंड की एनएवी सबसे उच्‍चतम (सबसे महंगा पढ़ें) है। 

यील्‍ड: 1 वर्ष - 6.90% | 3 वर्ष - 7.42% | 5 वर्ष- 8.14% | लॉन्‍च के बाद से 8.21%

4. एक्सिस एएमसी: लिक्विड फंड

नौ साल पुराना एक्सिस लिक्विड फंड 70 दिन के ट्रेजरी बिल और कॉमर्शियल पेपर्स में निवेश करता है। यह अपने फंड में लगभग 7193 करोड़ रुपए का प्रबंधन करता है। इसका 0.11% का कम व्‍यय अनुपात है। यह फंड तुरंत भुनाने की सुविधा प्रदान करता है, यानि कि आप कुछ ही मिनटों में अपने खाते में पैसे पा सकते है। 

यील्‍ड: 1 वर्ष - 6.93% | 3 वर्ष- 7.41% | 5 वर्ष- 8.13% | लॉन्‍च के बाद से 8.19%

5. एचडीएफसी एएमसी: लिक्विड फंड

एचडीएफसी लिक्विड फंड ने अपने पोर्टफोलियो में मनी मार्केट और सोवरेन गारंटी वाले डेट उपकरणों के मिश्रण को शामिल किया है। यह अपने 18 साल पुराने लिक्विड फंड के माध्यम से 41,119 करोड़ रुपये का प्रबंधन करता है। इसका व्‍यय अनुपात निवेश का 0.15% है, जो कि मानक के अनुरूप है। 

यील्‍ड: 1 वर्ष- 6.73% | 3 वर्ष- 7.33% | 5 वर्ष- 8.08% | लॉन्‍च के बाद से 8.15%

यह सूची किसी भी तरह से पूर्ण नहीं है। दी गई यील्‍ड मई 2018 की है और लगातार बदल रही हैं। निवेश से पहले नवीनतम यील्‍ड पर नज़र डालें, कर प्रभाव पर ध्‍यान दें और निवेश करने से पहले किसी पेशेवर से बात करें। 

डिस्‍क्‍लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्‍य से दिया गया है और इसे निवेश या बीमा या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेने पर आपको अलग से स्वतंत्र सलाह प्राप्त करनी चाहिए। 

संबंधित लेख