आपको अन्तर्राष्ट्रीय फंड्स में कितना निवेश करना चाहिए?

आपको अपनी निवेश रणनीति के तहत अपने पोर्टफोलियो में विविधता लानी चाहिए। इसका मतलब अलग-अलग एसेट क्लास में निवेश करना है। यदि आप आगे विस्तार करना चाहते हैं तो विभिन्न अन्य भौगोलिक क्षेत्रों में निवेश करने पर विचार करना फायदेमंद है। आप अन्य बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के साथ-साथ, भारत में भी निवेश कर सकते हैं।

अन्तर्राष्ट्रीय फंड्स का आवंटन किस अनुपात में किया जाना चाहिए

निवेश करते समय सबसे महत्वपूर्ण नियमों में से एक अपने पोर्टफोलियो में और विविधता लाना है। विस्तार करने से, इसका मतलब है कि आप विभिन्न एसेट क्‍लास, जैसे सोना, डेब्‍ट, कमोडिटीज़ और इक्विटी में निवेश करेंगे। आप इक्विटी के भीतर लार्ज, मिड और स्मॉल कैप स्टॉक्स में भी निवेश करेंगे। आगे विविधता लाने के लिए, आप अन्य भौगोलिक क्षेत्रों में भी निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। इस पर अमल करने और इसे अपनी निवेश रणनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाने का सुझाव दिया जाता है। आप न केवल भारत में बल्कि अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में भी निवेश करेंगे।

जब विदेशी बाजार की बात आती है तो निवेशकों के लिए सबसे बड़ी समस्या यह है कि वे इसकी निगरानी नहीं करते हैं या नहीं कर सकते हैं। दूसरी समस्या यह है कि निवेश कहां करें- डायरेक्ट इक्विटी या पैसिव फंड्स में? तीसरा सवाल यह है कि कितना निवेश करें।

संबंधित: विदेशों में स्टॉक्स में निवेश करके अपने इक्विटी पोर्टफोलियो में विविधता लाएं

इस लेख के माध्यम से, हम सभी मूल प्रश्‍नों को स्पष्ट करना चाहते हैं, जो विदेशी अर्थव्यवस्थाओं में सर्वोत्तम संभव तरीके से निवेश शुरू करने के लिए आपका मार्गदर्शन करेंगे।

अंतर्राष्‍ट्रीय फंड्स में कितना निवेश करें?

यदि आप अभी अपनी निवेश यात्रा शुरू कर रहे हैं, तो तुरंत विदेशी फंड्स में निवेश शुरू करने की कोई आवश्यकता नहीं है। एक बार जब आप भारतीय इक्विटी निवेश में एक अच्छे साइज़ का पोर्टफोलियो बना लेते हैं और इसे विविध बना लेते हैं, तो आप अगले स्तर -अंतर्राष्ट्रीय फंड्स पर जा सकते हैं।

आप भौगोलिक विविधीकरण के लिए अंतर्राष्ट्रीय फंड्स में 10-15% आवंटन करने पर विचार कर सकते हैं। यदि आपके पास कोई आवंटन नहीं है, तो आपको पहले 5% आवंटन को लक्षित करना चाहिए और फिर 10% और बाद में 15% पर जाना चाहिए। आपको इसे तुरंत करने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह एक विशिष्ट तरीके से की जाने वाली प्रक्रिया है। आप इस आवंटन को 6 महीने और एक साल के बीच में हासिल कर सकते हैं। जब तक आप नियमित रूप से विदेशी स्टॉक्स और बाजार पर नज़र नहीं रख रहे हैं, तब तक 15% से अधिक आवंटन सही निर्णय नहीं है।

संबंधित: विविध निवेश पोर्टफोलियो: आपको अंतर्राष्‍ट्रीय फंड्स में कितना आवंटन करना चाहिए

अंतर्राष्‍ट्रीय फंड्स: कहां निवेश करें?

विदेशी भौगोलिक क्षेत्रों में निवेश शुरू करने के लिए, पहले चरण के रूप में प्रत्येक भौगोलिक क्षेत्र के रिस्क-रिवॉर्ड प्रोफाइल को समझना अनिवार्य है। बाद में, आपको अपनी रिसर्च को एक या दो अंतरराष्ट्रीय फंड्स तक सीमित करना चाहिए। आपके पास दो से अधिक अंतर्राष्ट्रीय फंड्स नहीं होने चाहिए - इसकी कोई आवश्यकता नहीं है। यदि आप उन विकसित देशों को चुनते हैं जिनका भारतीय बाजार से कम संबंध है तो यह सबसे अच्छा होगा।

जिन विकसित देशों पर आप विचार कर सकते हैं उनमें से एक अमेरिका है। इसके बाद, आपको यह पता लगाना होगा कि आप अमेरिकी बाजार से किस कैटेगरी के फंड को चुनेंगे। आप यूरोप, चीन, जापान और ब्राज़ील जैसे अन्य बाजारों पर भी विचार कर सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय एक्सपोज़र की तलाश कर रहे निवेशकों के लिए आज कई विकल्प हैं। हालांकि, आपको अनेक में निवेश नहीं करना चाहिए, क्योंकि आपका लक्ष्य विविधीकरण है न कि अत्यधिक उच्च रिटर्न।

संबंधित: भारत से निवेश करने के लिए शीर्ष प्रदर्शन करने वाले अंतर्राष्ट्रीय म्युचुअल फंड्स, ग्लोबल फंड्स, अमेरिका और चीन इक्विटी फंड्स

सक्रिय या निष्क्रिय अंतर्राष्ट्रीय निवेश चुनना है या नहीं?

अमेरिका जैसी विकसित अर्थव्यवस्थाओं के लिए सबसे अच्छा विकल्प इंडेक्स या पैसिव फंड के जरिए निवेश करना है। विकसित देशों के लिए, ऐतिहासिक डेटा से पता चलता है कि अधिकांश इंडेक्स फंड्स लंबे समय में एक्टिव फंड्स की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते हैं।

आप उभरते बाजार के लिए कोई भी रास्ता अपना सकते हैं - पैसिव या एक्टिव फंड्स में निवेश करें। यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आप कौन सा बाजार चुन रहे हैं।

अंतिम टिप्‍पणी

यह महत्वपूर्ण है कि आप अंतरराष्ट्रीय निवेश विकल्पों पर एक उचित और नियोजित एसेट आवंटन का पालन करते हैं, लेकिन इसे उचित व्‍यवहार और सावधानी के साथ करें। भारतीय निवेशकों ने अमेरिकी बाजार में निवेश करना शुरू कर दिया है। इसी वजह से, ज्यादा से ज्यादा फंड हाउस अंतरराष्ट्रीय निवेश स्‍कीम्‍स लेकर आ रहे हैं। प्रत्येक स्‍कीम के फायदे और नुकसान को समझने और उसके अनुसार निवेश संबंधी निर्णय लेने का सुझाव दिया जाता है।

संवादपत्र

संबंधित लेख