अपने साथी की मृत्यु के बाद ऋण दायित्व से कैसे निपटें?

क्या पति या पत्नी की मृत्यु के बाद,उसके साथी पर कर्ज चुकाने की ज़िम्मेदारी होती है? यहां आपको ऋण देनदारियों और उनकी बारीकियों के बारे में जानने लायक सभी ज़रूरी बातें दी गई हैं।

अपने साथी की मृत्यु के बाद ऋण दायित्व से कैसे निपटें?

एक साथी की मृत्यु का सामना करना वैसे ही काफी दुखद होता है , और उस पर कई बार आपको अपने कर्ज को चुकाने के मुद्दे से भी निपटना पड़ता है। लेनदारों के आपको कॉल कर के अतिरिक्त दबाव देना ,आपके  दुःख को और बढ़ाता है, शायद इसलिए अकेले जीवन जीना कोई आसान काम नहीं है।

आपकी कई वित्तीय चिंताओं के बीच, ऋण का भावनात्मक आघात विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण होता है। तो, एक जीवित साथी ऋण देयता का कैसे सामना कर सकता है? जवाब कुछ कानूनी बारीकियों में निहित है ,जो आपको इस स्थिति से निपटने में मदद कर सकता है।

आइए देखें कि भागीदार की मृत्यु के बाद ,विभिन्न ऋण श्रेणियां आपकी जिम्मेदारियों को कैसे प्रभावित करती हैं।

सुरक्षित ऋण

जब एक ऋण किसी संपत्ति के साथ जोड़कर सुरक्षित किया जाता है, तो इसे एक सुरक्षित ऋण के रूप में जाना जाता है। इस तरह का कर्ज संभावित समस्या खड़ी कर सकता है अगर मृतक इसे चुकाने के पहले ही गुजर जाता है। भुगतान में चूक होने पर जीवित साथी को सुरक्षित ऋण के मामले में दो कारकों पर विचार करने की आवश्यकता होती है। सबसे पहले, परिसंपत्ति का मूल्य निर्धारित किया जाना चाहिए। दूसरा, संपत्ति में मृतक के हिस्से का मूल्यांकन किया जाना होता है।

यदि संपत्ति में जॉइंट रूप से स्वामित्व है, तो कोलैटरल को ऋण का भुगतान करने के लिए बिक्री योग्य नहीं माना जा सकता है, क्योंकि मृतक का हिस्सा जीवित मालिक के पास चला जाता है। इस मामले में, आपको समझौते के अनुसार ही ऋण भुगतान करना जारी रखना चाहिए। यदि आप ऐसा करने में असमर्थ हैं, तो बैंक ऋण राशि को कवर करने के लिए परिसंपत्ति को जब्त कर के बेच सकता है। यदि आप जॉइंट जीवन बीमा के बारे में अधिक समझना चाहते हैं, तो इसे पढ़ें।

यदि आपका मृतक साथी पूरी तरह से संपत्ति का मालिक है, तो इसका उपयोग बकाया राशि का भुगतान करने के लिए किया जा सकता है। हालांकि, एक कानूनी उत्तरजीवी के रूप में, आपको लेनदार को सूचित करना होगा और उन्हें उस के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र प्रदान करना होगा।

असुरक्षित ऋण

असुरक्षित ऋण किसी भी कोलैटरल सुरक्षा से समर्थित नहीं होता है। इसलिए, उनके अधिक ब्याज दर होते है। इनमें क्रेडिट कार्ड ऋण , चिकित्सक बिल, कार ऋण, दैनिक उपयोगिताएं आदि शामिल हैं, क्योंकि यह किसी भी परिसंपत्ति से सुरक्षित नहीं है, लेनदार ऋण के डिफ़ॉल्ट के मामले में आपके सामान को जब्त नहीं कर सकते हैं।

कानूनी उत्तराधिकारी को असुरक्षित ऋणों पर अवैतनिक बकाया राशि चुकाने का दायित्व नहीं होता हैं, जब तक कि मृतक की कोई संपत्ति उसे विरासत में न मिली हो। यदि कोई संपत्ति आपके पति या पत्नी से विरासत में मिली है, तो लेनदार इन परिसंपत्तियों की बिक्री के माध्यम से बकाया राशि का दावा कर सकता है।

यदि आप असुरक्षित ऋण को बंद करने में असमर्थ हैं और दिवालिया घोषित करना चाहते हैं, तो इसका कोई प्रतिकूल कानूनी परिणाम नहीं होगा। हालांकि, नकारात्मक क्रेडिट स्कोर के कारण, निकट भविष्य में ऋण को सुरक्षित करना बहुत मुश्किल हो जाएगा।

संयुक्त ऋण

यदि आपके पति या पत्नी ने किसी दूसरे व्यक्ति (या तो आप या कोई और साथी) के साथ वित्तीय समझौता किया है, तो इसे संयुक्त ऋण कहा जाता है। क्रेडिट समझौते, संयुक्त बैंक खाते इत्यादि इसके सामान्य उदाहरण हैं।

आइए एक काल्पनिक स्थिति पर विचार करें। यदि आप और आपके हाल ही में मृत पति या पत्नी के पास संयुक्त ऋण था, तो उनकी मृत्यु के बाद बची हुई राशि को चुकाने का दायित्व आपके ऊपर होता है। आप पूरी राशि के लिए उत्तरदायी होंगे , न कि केवल 'अपने आधे हिस्से के ’।

जीवन बीमा की आवश्यकता

ऐसे परिदृश्य में एक चीज़ करनी चाहिए, जीवन बीमा पॉलिसी पर विचार करना चाहिए। एक जीवन बीमा योजना आपके ओवरहेड ऋण व्यय का ध्यान रखेगी। एक साथी की असामयिक मृत्यु जीवित व्यक्ति के लिए वित्तीय और भावनात्मक उथल-पुथल को ट्रिगर कर सकती है। हमेशा एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी का चयन करना अच्छा होता है जो लचीली हो और आपकी जरूरतों के अनुकूल हो। जीवनसाथी की मृत्यु पर राशि का दवा करने के तरीके को समझने के लिए इस कहानी को पढ़ें।
 

संबंधित लेख

 

Most Shared