फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड के बारे में सबकुछ जानें | Are you a regular income seeker? Explore FRSBs

फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड के बारे में सबकुछ जानने की जरूरत है।

फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड के बारे में सबकुछ जानें

फ्लोटिंग रेट सेविग्स बॉन्ड (FRSBs) प्राथमिक तौर पर डेट निवेश साधन हैं। भारत सरकार इसे जारी करती है। बॉन्ड होल्डर को इस पर फ्लोटिंग ब्याज दर की पेशकश की जाती है। ये बॉन्ड 1 जुलाई 2020 को पेश किए गए और सब्सक्रिप्शन के लिए उपलब्ध हुए। 

महामारी के बीच, वैश्विक स्तर पर ब्याज दरें अब तक के सबसे निचले स्तर तक गिर चुकी हैं। इसलिए, किसी भी संस्थान द्वारा निश्चित ब्याज दरों (यानी निचले स्तर) पर नए सिरे से फंड जुटाना बॉन्ड निवेशकों के लिए बहुत आकर्षक नहीं लग सकता है। इसलिए, सरकार ने निवेशकों को बेहतर प्रोत्साहन देने के लिए फ्लोटिंग रेट बॉन्ड लॉन्च करने का फैसला किया। 

FRSBs की प्रमुख विशेषताएं

  • बॉन्ड की अवधि: फ्लोटिंग रेट सेविंग बॉन्ड की अवधि 7 वर्ष है। दूसरे शब्दों में, FRSB निवेशकों के लिए लॉक-इन अवधि 7 वर्ष होगी। हालांकि, 60 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों के पास कुछ शर्तों के साथ समय से पहले मोचन का विकल्प होता है। 
  • ब्याज दर : FRSB की ब्याज दर प्रचलित राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (NSC) ब्याज दर से आंकी जाती है। ब्याज दर आंकी गई दर से 35 आधार अंक ज्यादा यानी 0.35% के रूप में तय की जाती है। यदि एनएससी की ब्याज दर 7% है, तो FRSB की ब्याज दर 7.35% होगी।
  • ब्याज दर के भुगतान करने की आवृत्ति: FRSB पर ब्याज का भुगतान हर 6 महीने में किया जाता है और ब्याज दर को नवीनतम बाजार ब्याज दरों के अनुसार रीसेट किया जाता है। यह फ्लोटिंग ब्याज दर बांड की सबसे महत्वपूर्ण विशेषताओं में से एक है, जहां निवेश पर रिटर्न बाजार जोखिमों के अधीन होता है। 
  • कर प्रावधान: बॉन्ड पर प्राप्त ब्याज मौजूदा आयकर स्लैब के अनुसार कर योग्य होगा। ये सामान्य टैक्स सेविंग बॉन्ड से अलग होते हैं।
  • कारोबार को सुगम बनाना: निवेशक FRSBs बांड बही खातों में डीमैट रूप में खरीद सकते हैं। डीमैट फॉर्म बिना किसी बोझिल भौतिक दस्तावेजों के प्रतिभूतियों को रखने में सुविधा प्रदान करता है।   

संबंधित: भारत के टॉप 7 फिक्स्ड इनकम इन्वेस्टमेंट्स 

FRSBs के फायदे

  • क्रेडिट रिस्क कुछ भी नहीं: बॉन्ड आरबीआई द्वारा जारी किए जाते हैं और इसलिए शून्य क्रेडिट जोखिम के साथ आते हैं। भारत सरकार द्वारा जारी सॉवरेन बॉन्ड आमतौर पर बिना किसी क्रेडिट जोखिम के होते हैं और ये सरकारी बॉन्ड हैं।
  • अधिक रिटर्न: वैश्विक ब्याज दरों में हालिया गिरावट के साथ कई बैंकों ने सावधि जमा जैसे बैंकिंग उत्पादों पर अपनी ब्याज दरें कम कर दी हैं। साथ ही, ये बैंक कंपनियां हैं (सरकारी संस्थाएं नहीं) इसलिए इनमें कुछ स्तर का क्रेडिट जोखिम होता है। सावधि जमा की तुलना में एफआरएसबी न्यूनतम या बिना किसी क्रेडिट जोखिम के साथ बहुत अधिक ब्याज दर प्रदान करते हैं। इसलिए, इसका जोखिम-से-इनाम अनुपात बहुत बेहतर है।
  • निश्चित रिटर्न नहीं : इसे उन निवेशकों के लिए नुकसान माना जा सकता है जो अपने निवेश पर निश्चित रिटर्न चाहते हैं। हालांकि, मौजूदा बाजार परिदृश्य को देखते हुए, ब्याज दरें विश्व स्तर पर अपनी सबसे कम दरों पर कारोबार कर रही हैं (अमेरिका में शून्य के करीब)। ऐसे में ब्याज दरों में और गिरावट की संभावना कम है। चूंकि ब्याज दर संरचना FRSB के लिए एक फ्लोटिंग दर मॉडल है, ब्याज दरों में किसी भी तरह की वृद्धि का मतलब केवल निवेशक के लिए बेहतर रिटर्न होगा। 

संबंधित: फिक्स्ड इनकम और मार्केट आधारित निवेश साधनों में से चयन 

FRSBs के नुकसान

  • कर प्रावधान: निवेशक द्वारा प्राप्त अर्धवार्षिक ब्याज भुगतान सामान्य स्लैब दर के अनुसार कर योग्य है। 
  • अतरल निवेश: हालांकि इन बांडों को डीमैट रूप में रखा जाता है, लेकिन ये गैर-हस्तांतरणीय और गैर-बिक्री योग्य हैं। सभी निवेशकों के लिए 7 साल की एक निश्चित लॉक-इन अवधि है (वरिष्ठ नागरिकों को छोड़कर, जो कुछ शर्तों के अधीन इसे परिपक्वता अवधि से पहले भुना सकते हैं)। 
  • निश्चित रिटर्न नहीं: जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, रिटर्न फ्लोटिंग ब्याज दरों से जुड़ा हुआ है, इसलिए सीमित जोखिम लेने वाले और निश्चित रिटर्न की उम्मीद वाले निवेशक एफआरएसबी को पसंद नहीं कर सकते हैं। 

संबंधित: वरिष्ठ नागरिकों के लिए फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड आकर्षक क्यों? 

ऐसे बॉन्ड में निवेश करना कितना सही?

केवल भारतीय निवासी ही FRSBs में निवेश कर सकते हैं, एनआरआई या विदेशी नागरिक नहीं। 

जैसा कि हमने देखा, ये बांड सामान्य स्लैब दरों के अनुसार कर योग्य हैं। अगर कोई व्यक्ति पहले से ही 30 प्रतिशत टैक्स ब्रैकेट (उनकी आय के प्राथमिक स्रोत के आधार पर) में है, तो इन बॉन्ड में निवेश करने का कोई मतलब नहीं है। बांड पर ब्याज दर 30 प्रतिशत से प्रभावित होगी और शुद्ध कर-पश्चात रिटर्न काफी कम होगा।

हालांकि, यह उन निवेशकों के लिए तर्कसंगत है जो कम टैक्स ब्रैकेट में हैं क्योंकि वे कर-पश्चात उच्च रिटर्न प्राप्त करेंगे। टैक्स के बाद रिटर्न के आधार पर बॉन्ड की तुलना अन्य लिक्विड फंड और फिक्स्ड डिपॉजिट से की जानी चाहिए। इन बांडों में निवेश करने का निर्णय लेते समय व्यक्ति का आयकर स्लैब एक महत्वपूर्ण कारक होना चाहिए।

इसके अलावा, बांड में 7 साल की महत्वपूर्ण लॉक-इन अवधि होती है। वरिष्ठ नागरिकों को छोड़कर शीघ्र मोचन की कोई प्रक्रिया नहीं है। निवेशक को इन बांडों का दीर्घकालिक दृष्टिकोण से मूल्यांकन करना होगा और उसी समय सीमा में उपलब्ध अन्य बांडों और निवेश विकल्पों के साथ तुलना करनी होगी। आखिरकार, ये लंबी अवधि के निवेश हैं।

संबंधित- 7 निवेश प्लान, जो वरिष्ठ नागरिक को अधिक ब्याज दर की पेशकश करते हैं

संबंधित लेख