बांड और डिबेंचर के बीच 8 प्रमुख अंतर

बांड और डिबेंचर बहुत लोकप्रिय ऋण साधन हैं। हालांकि, कई लोग अक्सर दोनों को लेकर भ्रमित होते हैं। यहाँ आठ प्रमुख क्षेत्र बताये गए हैं जिनमें उनके मायने अलग-अलग होते हैं।

बांड और डिबेंचर के बीच 8 प्रमुख अंतर

एक संगठन को किसी भी समय वित्तपोषण की आवश्यकता हो सकती है। वास्तव में, किसी व्यवसाय की स्थापना या विस्तार के लिए धन एक बुनियादी आवश्यकता है। ज्यादातर कंपनियां इन फंडों को इकट्ठा करने के लिए बॉन्ड और डिबेंचर जैसे डेट इंस्ट्रूमेंट्स पसंद करती हैं। यद्यपि कई देशों में दोनों शब्दों का परस्पर उपयोग किया जाता है, तथ्य यह है कि वे अलग-अलग हैं।

बांड और डिबेंचर को परिभाषित करना

बॉन्ड संभवतः निजी निगमों, सरकारी एजेंसियों और अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा उपयोग किए जाने वाले सबसे आम प्रकार के ऋण साधन हैं। बांड अनिवार्य रूप से वे ऋण हैं जो एक भौतिक संपत्ति द्वारा सुरक्षित किये जाते हैं। बांड के धारक को ऋणदाता माना जाता है जबकि बांड जारीकर्ता उधारकर्ता के रूप में कार्य करता है। बांडधारक, या ऋणदाता, निर्दिष्ट परिपक्वता तिथि पर पुनः लौटने के वादे के साथ उधारकर्ता को पैसा उधार देता है। आमतौर पर, ऋणदाता भी बांड की अवधि के दौरान ब्याज की एक निश्चित दर प्राप्त करता है।

दूसरी ओर डिबेंचर, असुरक्षित ऋण साधन हैं जो किसी भी कोलैटरल द्वारा समर्थित नहीं होती हैं।बल्कि, डिबेंचर जारी करने वाली एक कंपनी की अच्छी क्रेडिट रेटिंग उसके अंतर्निहित सुरक्षा के रूप में काम करती है। निगम विभिन्न कारणों से धन जुटाने के लिए, डिबेंचर को एक उपकरण के रूप में उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, एक डिबेंचर तब जारी किया जा सकता है जब कोई कंपनी नकदी संकट से गुजर रही हो। वही दूसरी तरफ, एक डिबेंचर तब भी जारी किया जा सकता है जब कोई कंपनी एक नए प्रोजेक्ट के साथ अपने व्यवसाय का विस्तार करना चाहती है।

कुछ प्रमुख अंतर

1. कोलैटरल की आवश्यकता: बांड किसी भी प्रकार की कोलैटरल द्वारा सुरक्षित होते हैं। दूसरी ओर, डिबेंचर सुरक्षित या असुरक्षित हो सकता है। ज्यादातर मामलों में, बड़ी और प्रतिष्ठित सार्वजनिक कंपनियां किसी भी कोलैटरल के बिना डिबेंचर जारी करती हैं क्योंकि लोग पूरी तरह से केवल उस विश्वास के आधार पर डिबेंचर खरीदने के लिए तैयार रहते हैं जो ऐसी कंपनियों के प्रति उनको है।

2. कार्यकाल: बांड को दीर्घकालिक निवेश के रूप में माना जा सकता है और तदनुसार, बांड का कार्यकाल आमतौर पर लंबा होता है। डिबेंचर के लिए, जारीकर्ता कंपनी की आवश्यकता के आधार पर, कार्यकाल अधिकतर लघुकालिक प्रकृति का होता है।

3. जारी करने वाली निकाय : बांड आमतौर पर वित्तीय संस्थानों, सरकारी एजेंसियों, बड़े निगमों और इन जैसे अन्य द्वारा जारी किए जाते हैं। निजी कंपनियों द्वारा लगभग सभी मामलों में डिबेंचर जारी किए जाते हैं।

4. जोखिम का स्तर: बांड उधारदाताओं के लिए सुरक्षित स्थान माने जाते हैं क्योंकि वे कुछ प्रकार के कोलैटरल से समर्थित होते हैं। एक और कारण यह है कि बांड की पेशकश करने वाले निगमों की समय-समय पर समीक्षा की जाती है और क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों द्वारा मूल्यांकन किया जाता है। डिबेंचर उच्च जोखिम उठाते हैं क्योंकि वे आमतौर पर किसी भी प्रकार के कोलैटरल द्वारा समर्थित नहीं होते हैं। इसके बजाय, वे जारी करने वाले पक्ष के विश्वास और क्रेडिट क्षमता पर पर पूरी तरह से आश्रित होते हैं।

5. ब्याज की दर: बांड आमतौर पर ब्याज की कम दरों में उपलब्ध होते हैं क्योंकि भविष्य में पुनर्भुगतान की स्थिरता अधिक होती है। इसके अलावा, सभी बांड कोलैटरल द्वारा भी समर्थित होते हैं। इसकी तुलना में, डिबेंचर ब्याज की उच्च दर पेश करते हैं क्योंकि वे ज्यादातर कोलैटरल द्वारा सुरक्षित नहीं होते हैं और केवल जारीकर्ता की प्रतिष्ठा से समर्थित होते हैं।

6. भुगतान का ढांचा: बॉन्ड पर ब्याज का भुगतान एक्रुअल आधार पर होता है। उधारदाताओं को आम तौर पर मासिक, अर्ध-वार्षिक या वार्षिक रूप में भुगतान किया जाता है। जारीकर्ता पक्ष के व्यावसायिक प्रदर्शन का इन भुगतानों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। जब डिबेंचर की बात आती है, तो ब्याज भुगतान समय-समय पर किया जाता है, जो अक्सर जारी करने वाली कंपनी के प्रदर्शन पर निर्भर कर सकता है।

7. शेयरों में परिवर्तनीयता: बांड को इक्विटी शेयरों में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है जबकि कुछ डिबेंचर इस सुविधा की पेशकश करते हैं। परिवर्तनीय डिबेंचर, धारकों को अपनी डिबेंचर को शेयरों में बदलने की अनुमति देता है, यदि वे मानते हैं कि भविष्य में कंपनी का स्टॉक बढ़ जाएगा। हालांकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि परिवर्तनीय डिबेंचर अन्य निश्चित दर के निवेश की तुलना में कम ब्याज दर प्रदान करते हैं।

8. तरलता के मामले में प्राथमिकता: संगठन के तरलता की स्थिति में, बांड धारकों को ऋणदाता धारकों की तुलना में पुनर्भुगतान में प्राथमिकता दी जाती है।

निष्कर्ष

अंततः, जबकि वे प्रकृति में समान हो सकते हैं, बांड और डिबेंचर दो असतत ऋण साधन हैं जो कई मायनों में भिन्न होते हैं। जबकि लोग अक्सर दोनों के बीच भ्रमित हो जाते हैं और उनका परस्पर उपयोग करते हैं, इसलिए इनके बीच के अंतर को जानना महत्वपूर्ण है।

 

COVID-19

Most Shared