Interest Rate Saving Schemes : बचत योजनाओं की ब्‍याज दरें जल्‍दी ही बढ़ सकती हैं

लघु बचत योजनाओं की ब्‍याज दरों में जल्‍दी ही वृद्धि होगी

बचत योजनाओं की ब्‍याज

आरबीआई ने पिछली तिमाही में रेपो रेट में 0.9% की वृद्धि की है। एक अनिर्धारित पॉलिसी रिव्‍यू में, सेंट्रल बैंक ने मई में रेपो रेट में 0.4% की बढ़ोतरी की है। साथ ही, जून में निर्धारित एमपीसी मीटिंग में 0.5% की बढ़ोतरी की गई। 10 साल की G-sec यील्ड बढ़कर 7.4% हो गई है। बचत करने वाले उच्‍च मुद्रास्फीति का सामना कर रहे हैं क्‍योंकि यह लगातार उनकी बचत को खा रहा है। इस पृष्ठभूमि में जल्द ही बचत करने वालों के लिए कुछ सकारात्मक खबर आ सकती है।

Related: How to reset your retirement savings and maximise returns?

यदि रिपोर्ट्स की मानें, तो महीने के अंत तक छोटी बचत करने वालों के लिए कोई अच्छी खबर आ सकती है। लघु बचत योजनाओं ने जून 2020 से ब्याज दरों में वृद्धि नहीं की है। लेकिन रिपोर्टों के अनुसार, जल्द ही इसमें बदलाव किया जा सकता है। कई भारतीय, विशेष रूप से रिटायर्ड लोग, पैसे बचाने के लिए लघु बचत योजनाओं पर निर्भर हैं। ये योजनाएं बैंकों की तुलना में अधिक ब्याज दरें देती हैं। लघु बचत योजनाओं की सबसे अच्छी बात यह है कि सरकार उनका समर्थन करती है।

लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दरें G-sec यील्‍ड से जुड़ी होती हैं। पिछले साल G-sec यील्‍ड में वृद्धि हुई है। दस साल के लिए G-sec यील्‍ड जून 2021 में 6% से बढ़कर जून 2022 में 7.4% हो गया है। ट्रेज़री यील्ड में यह वृद्धि आरबीआई द्वारा रेपो रेट में वृद्धि की उम्मीद के कारण हुई थी। अब जब आरबीआई ने रेपो रेट में वृद्धि की है, तो आप लघु बचत योजनाओं की दरों में जल्द ही वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं। रिपोर्ट्स की मानें तो इस महीने के अंत तक ऐसा किया जा सकता है।  

वर्तमान में, पीपीएफ की ब्याज दर 7.1% है, राष्ट्रीय बचत योजना की ब्याज दर 6.8% है, किसान विकास पत्र की ब्याज दर 6.9% है, और सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दर 7.6% है। पांच साल के सीनियर सिटिज़न्स बचत योजना की ब्याज दर 7.4% है, और विभिन्न बैंकों में एफडी की दरें 5-6% हैं।

G-sec यील्‍ड में वृद्धि सरकार पर लघु बचत की ब्याज दरों को बढ़ाने का दबाव डालती है। आईसीआरए की मुख्य अर्थशास्त्री, अदिति नायर ने कहा, अगर छोटी बचत योजना की ब्याज दरों में वृद्धि की जाती है तो बॉन्ड मार्केट की घबराहट कम हो सकती है। उन्हें उम्मीद है कि आने वाली तिमाही में 10 साल की G-sec दरें बढ़कर 7.75-7.8% हो जाएंगी। इस प्रकार, लघु बचत योजना की ब्याज दरों में जल्द ही बदलाव होने की उम्मीद की जा सकती है। 

निष्‍कर्ष

10-सालों की G-sec दरों में वृद्धि सरकार पर लघु बचत योजना की दरों को बढ़ाने का दबाव डालती है। रिपोर्टों के अनुसार, यह वृद्धि महीने के अंत तक की जा सकती है। आप विभिन्न रिपोर्टों और प्रमुख अर्थशास्त्रियों के विश्लेषण के अनुसार लघु बचत योजनाओं में जल्द ही वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं। 

Related: How to save smart?

संवादपत्र

संबंधित लेख