भारत गृह रक्षा पॉलिसी के साथ चिंता मुक्त रहें

आईआरडीएआई ने भारत की जटिल गृह बीमा प्रक्रिया को आसान और अधिक ग्राहक अनुकूल बनाया है, ताकि अधिक से अधिक लोगों को गृह बीमा खरीदने के लिए प्रेरित किया जा सके।

भारत गृह रक्षा पॉलिसी के साथ चिंता मुक्त रहें

इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डेवलपेमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) ने गृह बीमा पॉलिसी खरीदना आसान बना दिया है। भारत गृह रक्षा, जिसे 1 अप्रैल 2021 से क्रियान्वित किया जाएगा, पुराने स्टैंडर्ड फायर एंड स्पेशन पेरिल्स (एसएफएसपी) पॉलिसी को प्रतिस्थापित करता है जैसा कि ऑल इंडिया फायर ट्रैफिक (एआईएफटी) 2001 के अंतर्गत अनिवार्य किया गया है।

आईआरडीएआई ने प्रेस रिलीज में इस बात की घोषणा की है कि सभी जेनरल इंश्योरेंस कंपनियां निम्नलिखित उत्पादों की बिक्री करेंगी:

  • भारत गृह रक्षा (घर के भवनों और घर की सामग्रियों के लिए है)
  • भारत सूक्ष्म उद्यम सुरक्षा (ऐसे एंटरप्राइजेज के लिए है जहां जोखिम युक्त कुल वैल्यू 5 करोड़ रुपए तक है)
  • भारत लघु उद्यम सुरक्षा (ऐसे एंटरप्राइजेज के लिए है जहां जोखिम युक्त कुल वैल्यू 5 करोड़ रुपए से अधिक और 50 करोड़ रुपए से कम है)

इससे जुड़ी बातें: गृह बीमा के लिए आपका गाइड

भारत गृह रक्षा बीमा में अंतर्गत क्या-क्या कवर होता है?

भारत गृह रक्षा में कई प्रकार के संकट शामिल हैं - आग, प्राकृति विपदा (आंधी, तूफान, टायफून, झंझावात, समुद्री तूफान, बवंडर, सुनामी, बाढ़, सैलाब, भूकंप, धसकन, भूस्खलन, चट्टानस्खलन), जंगल, वन और झाड़ी की आग, किसी भी तरह की प्रभाव क्षति, दंगा, हड़ताल, दुर्भावनापूर्ण नुकसान, आतंकवाद के कृत्य, पानी की टंकी, उपकरण और पाइपों का फटना और ओवरफ्लो होना, ऑटोमैटिक स्प्रिंकलर इंस्टॉलेशन से रिसाव और चोरी।

पॉलिसी के अंतर्गत यह प्रावधान है कि आप उपरोक्त घटनाओं के घटित होने के 7 दिनों के अंदर अपना दावा करें। आपको दो वैकल्पिक कवर भी मिलते हैं: (1) मूल्यवान वस्तुओं के लिए बीमा जैसे आभूषण और कलाकृतियां, और

(2) पॉलिसी के अंतर्गत बीमित व्यक्ति के जोखिम में पड़ने के कारण बीमित व्यक्ति और जीवनसाथी के लिए व्यक्तिगत दुर्घटना कवर।

भारत गृह रक्षा की अन्य महत्वपूर्ण विशेषताएं

पॉलिसी अंडरइंश्योरेंस की पूरी छूट देती है। दूसरे शब्दों में, बीमा खरीदते समय उल्लेखिम मूल्य के मुताबिक ही पेआउट किया जाएगा, बीमित राशि से अधिक नहीं, कीमत अधिक होने वाला दावा करने के बावजूद। यह ओटोमैटिक होता है और विवरणों की घोषणा करने की जरूरत नहीं होती। साथ ही, बीमित राशि के 20% (अधिकतम 10 लाख रुपए तक) में उपकरण और फर्नीचर शामिल है, साथ ही इसे 'होम कंटेंट्स’ कहा जाता है।

भारत गृह बीमा के शब्द और स्पष्टीकरण पॉलिसी धारक अनुकूल है, लोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए। अक्सर पूछे जाने वाले सवालों (एफएक्यू) के लिए सेक्शन के साथ, पॉलिसी के मुख्य पहलुओं की व्याख्या वाले 'की फीचर डॉक्युमेंट्स (केएफडी)’ आईआरडीएआई द्वारा किया गया है। 

बेसिक कवर्स, इन-बिल्ट कवर्स, वैकल्पिक कवर्स (यदि कोई है तो) के साथ-साथ स्टैंडर्ड ऐड-ऑन और इनोवेटिव ऐड-ऑन (अर्थात अतिरिक्त कवर्स) प्रदान किया जा सकता है और स्टैंडर्ड ऐड-ऑन जिन्हें ये रिटेल उत्पाद पहले से प्रदान किए जा रहे हैं।

इससे जुड़ी बातें: इस बात के 6 दमदार कारण कि क्यों आपको गृह बीमा की जरूरत है

भारत गृह रक्षा के लिए कब आवेदन करें?

भारत गृह रक्षा पॉलिसी हेतु आवेदन करने के लिए सभी को 1 अप्रैल 2021 तक इंतजार करना होगा। आईआरडीएआई द्वारा जल्द ही इसकी वेबसाइट पर विवरण डाल दिया जाएगा

अंतिम शब्द

यह पॉलिसी धारक अनुकूल सिस्टम पेश किया जा रहा है जिससे घर के मालिकों द्वारा सुविधाजनक रूप से गृह बीमा खरीदने की उम्मीद है। चूंकि यह सीधे आईआरडीएआई से आता है, इसलिए उम्मीद है कि भारत गृह रक्षा किफायती होगा। बाढ़ और भूकंप जैसी सामान्य आपदाओं का समावेश गैप को भरेगा और कुछ चिंताओं का समाधान करेगा जो पहले से मौजूद थे। इन 4 स्थितियों को देखें जिनसे हरेक घर खरीदार घबराते हैं

इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डेवलपेमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) ने गृह बीमा पॉलिसी खरीदना आसान बना दिया है। भारत गृह रक्षा, जिसे 1 अप्रैल 2021 से क्रियान्वित किया जाएगा, पुराने स्टैंडर्ड फायर एंड स्पेशन पेरिल्स (एसएफएसपी) पॉलिसी को प्रतिस्थापित करता है जैसा कि ऑल इंडिया फायर ट्रैफिक (एआईएफटी) 2001 के अंतर्गत अनिवार्य किया गया है।

आईआरडीएआई ने प्रेस रिलीज में इस बात की घोषणा की है कि सभी जेनरल इंश्योरेंस कंपनियां निम्नलिखित उत्पादों की बिक्री करेंगी:

  • भारत गृह रक्षा (घर के भवनों और घर की सामग्रियों के लिए है)
  • भारत सूक्ष्म उद्यम सुरक्षा (ऐसे एंटरप्राइजेज के लिए है जहां जोखिम युक्त कुल वैल्यू 5 करोड़ रुपए तक है)
  • भारत लघु उद्यम सुरक्षा (ऐसे एंटरप्राइजेज के लिए है जहां जोखिम युक्त कुल वैल्यू 5 करोड़ रुपए से अधिक और 50 करोड़ रुपए से कम है)

इससे जुड़ी बातें: गृह बीमा के लिए आपका गाइड

भारत गृह रक्षा बीमा में अंतर्गत क्या-क्या कवर होता है?

भारत गृह रक्षा में कई प्रकार के संकट शामिल हैं - आग, प्राकृति विपदा (आंधी, तूफान, टायफून, झंझावात, समुद्री तूफान, बवंडर, सुनामी, बाढ़, सैलाब, भूकंप, धसकन, भूस्खलन, चट्टानस्खलन), जंगल, वन और झाड़ी की आग, किसी भी तरह की प्रभाव क्षति, दंगा, हड़ताल, दुर्भावनापूर्ण नुकसान, आतंकवाद के कृत्य, पानी की टंकी, उपकरण और पाइपों का फटना और ओवरफ्लो होना, ऑटोमैटिक स्प्रिंकलर इंस्टॉलेशन से रिसाव और चोरी।

पॉलिसी के अंतर्गत यह प्रावधान है कि आप उपरोक्त घटनाओं के घटित होने के 7 दिनों के अंदर अपना दावा करें। आपको दो वैकल्पिक कवर भी मिलते हैं: (1) मूल्यवान वस्तुओं के लिए बीमा जैसे आभूषण और कलाकृतियां, और

(2) पॉलिसी के अंतर्गत बीमित व्यक्ति के जोखिम में पड़ने के कारण बीमित व्यक्ति और जीवनसाथी के लिए व्यक्तिगत दुर्घटना कवर।

भारत गृह रक्षा की अन्य महत्वपूर्ण विशेषताएं

पॉलिसी अंडरइंश्योरेंस की पूरी छूट देती है। दूसरे शब्दों में, बीमा खरीदते समय उल्लेखिम मूल्य के मुताबिक ही पेआउट किया जाएगा, बीमित राशि से अधिक नहीं, कीमत अधिक होने वाला दावा करने के बावजूद। यह ओटोमैटिक होता है और विवरणों की घोषणा करने की जरूरत नहीं होती। साथ ही, बीमित राशि के 20% (अधिकतम 10 लाख रुपए तक) में उपकरण और फर्नीचर शामिल है, साथ ही इसे 'होम कंटेंट्स’ कहा जाता है।

भारत गृह बीमा के शब्द और स्पष्टीकरण पॉलिसी धारक अनुकूल है, लोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए। अक्सर पूछे जाने वाले सवालों (एफएक्यू) के लिए सेक्शन के साथ, पॉलिसी के मुख्य पहलुओं की व्याख्या वाले 'की फीचर डॉक्युमेंट्स (केएफडी)’ आईआरडीएआई द्वारा किया गया है। 

बेसिक कवर्स, इन-बिल्ट कवर्स, वैकल्पिक कवर्स (यदि कोई है तो) के साथ-साथ स्टैंडर्ड ऐड-ऑन और इनोवेटिव ऐड-ऑन (अर्थात अतिरिक्त कवर्स) प्रदान किया जा सकता है और स्टैंडर्ड ऐड-ऑन जिन्हें ये रिटेल उत्पाद पहले से प्रदान किए जा रहे हैं।

इससे जुड़ी बातें: इस बात के 6 दमदार कारण कि क्यों आपको गृह बीमा की जरूरत है

भारत गृह रक्षा के लिए कब आवेदन करें?

भारत गृह रक्षा पॉलिसी हेतु आवेदन करने के लिए सभी को 1 अप्रैल 2021 तक इंतजार करना होगा। आईआरडीएआई द्वारा जल्द ही इसकी वेबसाइट पर विवरण डाल दिया जाएगा

अंतिम शब्द

यह पॉलिसी धारक अनुकूल सिस्टम पेश किया जा रहा है जिससे घर के मालिकों द्वारा सुविधाजनक रूप से गृह बीमा खरीदने की उम्मीद है। चूंकि यह सीधे आईआरडीएआई से आता है, इसलिए उम्मीद है कि भारत गृह रक्षा किफायती होगा। बाढ़ और भूकंप जैसी सामान्य आपदाओं का समावेश गैप को भरेगा और कुछ चिंताओं का समाधान करेगा जो पहले से मौजूद थे। इन 4 स्थितियों को देखें जिनसे हरेक घर खरीदार घबराते हैं

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख