अपने म्यूचुअल फंड को रीडीम करने से पहले इन कारकों पर विचार करें

क्या आप अपने म्यूचुअल फंड को रीडीम करने पर विचार कर रहे हैं? यहां बताई गई बातों की आपको ध्यान रखने की आवश्यकता है।

अपने म्यूचुअल फंड को रीडीम करने से पहले इन कारकों पर विचार करें

अपने म्यूचुअल फंड को रीडीम करने का सही समय कब है?

रिडेम्पशन कुछ नहीं केवल एक प्रक्रिया है जिसमे एक म्यूचुअल फंड स्कीम से यूनिट्स को वापस लेकर उस दिन के नेट एसेट वैल्यू पर अपने निवेश से पैसा वापस निकालना होता है । लेकिन सवाल यह है कि म्यूचुअल फंड को रीडीम करने का सबसे अच्छा समय कब है? पता लगाने के लिए यह पढ़ें।

बिना सूझ-बुझ के प्रतिक्रियाओं से बचें

निवेशक अक्सर अपनी इकाइयों को रीडीम करने का फैसला तब करते हैं जब बाजार अनिश्चित होता है या जब फंड ख़राब प्रदर्शन कर रहा होता है। लेकिन ज्यादातर मामलों में, यह एक अनैच्छिक कार्रवाई है, और यह आदर्श नहीं हो सकती है। बाजार की भावी गतिविधियों को आंकना सबसे बड़ी गलतियों में से एक है जो निवेशक अक्सर करते हैं। निवेश सभी दीर्घकालिक योजना और धैर्यवान होने के बारे में है। यह निश्चित रूप से बाजार के उतार-चढ़ाव से आपको विचारहीन करने देने के बारे में नहीं है।

दो मुख्या करने से पता लगता है कि रिडेम्पशन सबसे अक्लमंदी की प्रतिक्रिया नहीं हो सकती है। सबसे पहले, आप को यह समझना चाहिए कि अनिश्चित बाजार भी अच्छे रिटर्न कमाने के मौके दे सकते हैं। क्या यह कारण नहीं है जिससे कि लोग अपने भविष्य के लक्ष्यों या धन की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए, निवेश में इसके रिटर्न के लिए म्यूचुअल फंड को पहली पसंद में रखते हैं? यदि कोई समय से पहले इस निवेश से बाहर निकलता है, तो इससे वित्तीय लक्ष्यों में कमी हो सकती है।

दूसरा कारण यह है कि म्यूचुअल फंड (इंडेक्स फंड के अलावा) हमेशा बेंचमार्क इंडेक्स का पालन नहीं करते हैं; उनका प्रदर्शन विशिष्ट अंतर्निहित प्रतिभूतियों का एक कृत्य है।इसका यह मतलब नहीं है कि रिडेम्पशन प्रतिकूल परिस्थितियों में सही चुनाव नहीं है; अगर म्यूचुअल फंड स्कीम लगातार लंबे समय तक अपने बेंचमार्क से निचे ख़राब प्रदर्शन कर रही है, तो कोई भी इससे बाहर निकलने का विकल्प चुन सकता है।

कुछ व्यापक दिशा निर्देश

ऐसा कोई कठिन और मजबूत नियम नहीं है जो म्यूचुअल फंड को रीडीम कराने के लिए सबसे अच्छे समय की पहचान करता हो। हालांकि, म्यूचुअल फंड निवेश से बाहर निकलने या रिडीम करने के कुछ व्यापक कारण या परिस्थितियां हैं जो समझ में आती हैं; उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • जैसा कि पहले कहा गया है, यदि फंड लगातार ख़राब प्रदर्शन कर रहा है तो रिडेम्पशन पर विचार किया जा सकता है; इस पर बाद में विस्तार से चर्चा की जाएगी;
  • यदि स्कीम के उद्देश्यों में कोई परिवर्तन किया गया है जो अब आपके लक्ष्य या पोर्टफोलियो को पूरा नहीं करता है - तो इस पर भी बाद में चर्चा की जाएगी;
  • यदि फंड मैनेजर बदलता है और नई शैली आपके अनुकूल नहीं है;
  • वित्तीय विशेषज्ञ समय-समय पर बाजार की बदलती स्थितियों के साथ बने रहने के लिए पोर्टफोलियो को फिर से संतुलित करने की सलाह देते हैं। हालांकि, पोर्टफोलियो का पुनः-संतुलन, निवेशक की आय और उम्र में बदलाव के कारण भी हो सकती है, जिसके लिए कुछ फंडों से बाहर निकलने की आवश्यकता हो सकती है;
  • कई बार, ऐसा हो सकता है कि आपको पता चले कि आपके पोर्टफोलियो में कई समान प्रकार के फंड हैं, इसलिए उनमें से कुछ को बेचने से आपके पोर्टफोलियो को व्यापक और अधिक विविध रूप मिल सकता है;
  • लोग आमतौर पर कुछ विशिष्ट लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए म्यूचुअल फंड योजनाओं में निवेश करते हैं। यदि आपको योजना के प्रदर्शन से लगता है कि आपको अपने लक्ष्य तक पहुँचने में मदद मिल रही है , तो आप इसे बेचने पर विचार कर सकते हैं - यह भी अगले भाग में चर्चा की जाएगी;
  • आपको पैसे की तत्काल आवश्यकता है लेकिन इसे प्राप्त करने का कोई वैकल्पिक तरीका नहीं है।

प्रमुख रिडेम्पशन परिदृश्य

आइए कुछ खतरनाक परिदृश्यों पर विचार करें जो एक म्यूचुअल फंड को रीडीम कराने को सही ठहराते हैं:

1. एसेट आवंटन में बदलाव

एक म्यूचुअल फंड ऑफर दस्तावेज में बताए गए विभिन्न एसेट क्लास जैसे इक्विटी फंड, बैलेंस्ड फंड आदि में निवेश करता है, जिसमें एसेट एलोकेशन सीमा का भी उल्लेख होता है।

जबकि अधिकांश इक्विटी फंड लगभग पूरी तरह से इक्विटी में निवेश करती हैं, कुछ ऐसे हैं जो मुख्य रूप से इक्विटी (कम से कम 65%) और शेष को डेटया घरेलू और अंतरराष्ट्रीय इक्विटी के बीच आवंटन में विभाजित कर सकते हैं।

इस प्रकार, एक इक्विटी फंड 80% -100% इक्विटी में और मुद्रा बाजार की प्रतिभूतियों में 0% -20% निवेश कर सकता है, जबकि एक बैलेंस्ड फंड के विस्तार में , इक्विटी में 65% -80%, डेटप्रतिभूतियों में 15% -35% और मुद्रा बाजार की प्रतिभूतियों में 0% -20% हो सकता है ।

फंड मैनेजर निर्दिष्ट सीमाओं के भीतर आवंटन को बदल सकता है, लेकिन उनसे परे नहीं।

इन वर्षों में,एसेट आवंटन में बदलाव विभिन्न एसेट वर्गों से विशेष रिटर्न के कारण हो जाते हैं, और बाजार की गतिविधियां एसेट आवंटन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकती हैं। यदि ऐसा होता है, तो यह आपके लक्ष्यों के लिए ठीक नहीं हो सकता है।

मान लें कि आपने अपने स्वयं के लिए इक्विटी एक्सपोज़र की सीमा निर्धारित कर दी है, लेकिन इक्विटी का आवंटन आपके वांछित स्तर से अधिक हो गया है; तब आप रिडेम्पशन पर विचार कर सकते हैं।

जो इक्विटी के लिए आदर्श आवंटन माना जाता है,वह प्रत्येक निवेशक के जोखिम की क्षमता के आधार पर अलग होता है। आमतौर पर बाजार में उथल-पुथल होने के बाद आपको अपने पोर्टफोलियो को फिर से संतुलित करने की सलाह दी जाती है, लेकिन अगर यह नहीं हो सकता है, तो निश्चित रूप से साल में एक बार होना ही चाहिए ।

जैसा कि वित्तीय सलाहकार अक्सर कहते हैं, संपत्ति निर्माण की कुंजी एसेट आवंटन के बारे में अनुशासित होने से है।

2. निकटवर्ती लक्ष्य

म्यूचुअल फंड के चार मुख्य फायदे हैं: वे पेशेवर रूप से प्रबंधित होते हैं, मौजूद विविधीकरण प्रणाली होते हैं, और खरीदना और बेचना आसान होता है। यह अंतिम कारक है जो निवेशकों को उनके भविष्य के लक्ष्यों या धन की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इसे आदर्श बनाता है।

म्यूचुअल फंड बैंकों और अन्य वित्तीय संगठनों, फंड इकाइयों या शेयरों के माध्यम से आसानी से उपलब्ध हैं। और तो और, उन्हें लगभग किसी भी समय बेचा जा सकता है जब निवेशक को उनके पैसे की आवश्यकता होती है। आदर्श रूप से, जो राशि वापस मिलती है वह निवेश की गई राशि से अधिक होगी।

इसलिए, धन को रीडीम करने का दूसरा कारण यह है कि जब आप जिस वित्तीय लक्ष्य के लिए बचत कर रहे हैं, वह आसपास है, और तब आपको धन की आवश्यकता है।

आदर्श रूप से, लक्ष्य की समय सीमा (2-3 वर्ष दूर) के रूप में, आपको अपने धन को इक्विटी म्यूचुअल फंडों से निकालना शुरू करना चाहिए, जो कि लंबी अवधि के उद्देश्यों के लिए आदर्श होते हैं, और उन्हें डेट फंड्स में डालने चाहिए जो कि अल्पकालिक लक्ष्यों के लिए तरल और अच्छे होते हैं, जिसे आप किसी भी कारोबारी दिन अपना पैसा निकाल सकते हैं। इस तरह, आप अपने लाभ को बाज़ार की अस्थिरता से भी बचाते हैं।

यह करने का सबसे अच्छा तरीका एक सिस्टमेटिक ट्रांसफर प्लान (एसटीपी) है, जो निवेशकों को म्यूचुअल फंड को सहमति देने में सक्षम बनाता है कि वे एक स्कीम से कुछ यूनिटों को समय-समय पर ट्रांसफर कर उसी म्यूचुअल फंड घराने की दूसरी स्कीम में निवेश करता है।

यदि रिटायरमेंट कोष आपका लक्ष्य है और यह आसपास है,तो आपको धन की आवश्यकता होने से कम से कम दो साल पहले, या और भी पहले शिफ्टिंग की यह प्रक्रिया शुरू कर देनी चाहिए।

3. स्थगित लक्ष्य

म्यूचुअल फंड में, उच्च रिटर्न की संभावना आपके निवेशित रहने की अवधि के साथ तेजी से बढ़ती है; दूसरे शब्दों में, जितना अधिक समय तक आप इस में निवेशित रहेंगे, उतने अधिक रिटर्न की संभावना है। आप लंबी अवधि में अपनी रिटायरमेंट कोष बनाने के लिए निवेश करना शुरू कर सकते हैं और कंपाउंडिंग की शक्ति का भी आनंद ले सकते हैं । यह वही है जो इस इंस्ट्रूमेंट को इतना अच्छा धन सृजन की रणनीति बनाता है।

कोई व्यक्ति विशेष रूप से दो या तीन साल बाद कार खरीदने के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश करना शुरू कर सकता है; यह एक अल्पकालिक लक्ष्य होगा। हालाँकि, नौ महीने बाद लक्ष्य बदल सकता है, और वह व्यक्ति इसके बदले घर खरीदने के बारे में सोचना शुरू कर सकता है।

यह एक लंबी अवधि का लक्ष्य है जो 7-8 साल या उससे अधिक दूर है , जिसे 'खरीदो और रखो ’मानसिकता के लिए कहा जाता है। लेकिन यह भी आवश्यक है कि एसेट आवंटन में बदलाव हो - पहले बताए गए कारणों से इक्विटी फंड से डेट फंड में फेरबदल ।

इसलिए, लक्ष्यों के परिवर्तन से भी म्यूचुअल फंड को रीडीम कराने की आवश्यकता हो सकती है।

4. निरन्तर ख़राब प्रदर्शन

म्युचुअल फंड बाजार से जुड़े हुए इंस्ट्रूमेंट हैं और आपको पैनिक बटन को सिर्फ गिरते हुए रिटर्न के कारण नहीं दबाना चाहिए, खासकर अल्पावधि में। जब व्यापक बाजार गिरता है, तो कोई भी फंड गिरावट से बच नहीं सकता है।

लेकिन अगर आप अभी भी अपने फंड के प्रदर्शन को लेकर चिंतित हैं, तो देखें कि इस श्रेणी के अन्य फंडों ने कैसा प्रदर्शन किया है, या प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके बाद ही आप यह पता लगा सकते हैं कि फंड ने 'ख़राब प्रदर्शन किया ’है या नहीं।

यदि यह एक वर्ष से भी कम समय से अपने समूह के अन्य से ख़राब प्रदर्शन कर रहा है, तो रिडीम करना सबसे अच्छा विचार नहीं हो सकता है क्योंकि हो सकता है बाजार में केवल अल्पकालिक उतार-चढ़ाव हो रहे हो । हालांकि, यदि प्रदर्शन पिछले दो वर्षों या उससे अधिक समय से काफी खराब रहा है, तो यह आपके नुकसान में कटौती करने और आगे बढ़ने का संकेत होना चाहिए।

5. रणनीति में बदलाव

यदि आपके द्वारा निवेश किया गया फंड आपके वित्तीय लक्ष्यों से मेल खाता है, तो आपने इसमें निवेश करने से पहले अच्छी तरह से शोध किया है। लेकिन एक दिन, एक शेयरधारक के रूप में, आपको मूल प्रॉस्पेक्टस में प्रस्तावित परिवर्तनों के बारे में सूचित किया जा सकता है, और जल्द ही आप फंड मैनेजर को उन वित्तीय साधनों में निवेश करते पाते हैं जो म्यूचुअल फंड के मूल लक्ष्यों को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

यदि ऐसा होता है, तो आप अपने द्वारा रखे गए फंड का पुनर्मूल्यांकन कर सकते हैं क्योंकि फंड की नई दिशा न केवल आपके लक्ष्यों के विपरीत हो सकती है, परन्तु यह आपके जोखिम की क्षमता से भी अलग हो सकती है। उदाहरण के लिए, यदि आपने स्मॉल-कैप फंड में निवेश किया है और यह अब लार्ज-कैप शेयरों में निवेश करना शुरू करता है, तो फंड की जोखिम क्षमता और दिशा बदल सकती है, जिससे यह आपके उद्देश्य के लिए अनुपयुक्त हो सकता है।

कभी-कभी, अधिक ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए एक फंड अपना नाम बदल सकता है। बात यह है कि, म्यूचुअल फंड की रणनीतियाँ भी उनके नाम के परिवर्तन के साथ बदल जाती हैं। फंड मैनेजर भी बदल सकते हैं, निवेश की एक नई शैली ला सकते हैं; यह आपकी जोखिम रुपरेखा से मेल खा भी सकता है और नहीं भी।

यदि ये सभी परिवर्तन आपको परेशान करते हैं, तो आप अपने शेयरों को रीडीम करने की सोच सकते हैं। दिन के अंत में, आपको अपने फंड की दिशा के साथ सहज होना चाहिए।

आखिरी शब्द

संयोग से, आपके लेन-देन एक निश्चित कर और निकास भार चुकाने के लिए उत्तरदायी हैं जो फंड को रीडीम करने के समय अवधि पर निर्भर होता है, सौदा बंद करने से पहले आपको इसके बारे में पूछताछ करनी चाहिए। इसके अलावा, यह देखते हुए कि यह एक निवेश निर्णय है, इस पहल के बारे में वित्तीय सलाहकार से परामर्श करना उचित होगा ।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।

संबंधित लेख

 

Most Shared