दीर्घकालिक मोटर बीमा पॉलिसी के लाभ

वाहन मालिकों के लिए लंबी अवधि की मोटर बीमा पॉलिसी कितनी फायदेमंद है? पता लगाने के लिए यह पढ़ें।

दीर्घकालिक मोटर बीमा पॉलिसी के लाभ

संशोधित नियम और संशोधन विकासशील देशों में प्रगति का हिस्सा हैं। परिवर्तन किए जाते हैं, आजमाए जाते हैं और परीक्षण किए जाते हैं। ट्रैफ़िक नियम एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें वर्षों से परिवर्तन हुए हैं। ऐसा ही एक बदलाव जो हमने हाल ही में देखा है, वह एक नया कानून है ,जिससे सभी वाहनों के लिए दीर्घकालिक मोटर बीमा होना अनिवार्य हो गया है।

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने इस कानून को सितंबर 2018 से लागू किया है। अब तक, तृतीय-पक्ष मोटर बीमा एक साल की अवधि के लिए उपलब्ध था। लेकिन अब, सभी नए वाहन मालिकों को नए नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। दोपहिया वाहनों के मालिकों के लिए यह पांच साल के लिए अनिवार्य तृतीय-पक्ष कवर होगा और चार-पहिया मालिकों के लिए यह तीन साल का होगा।

दो नए परिवर्तनों का विस्तृत विवरण नीचे दिया गया है।

1. अवधि को अनिवार्य रूप से बढ़ाना

बीमा नियामक (आई.आर.डी.ए.आई.) ने वाहन विक्रेताओं को अनिवार्य दीर्घकालिक मोटर बीमा प्रदान किया है। दोपहिया और चार पहिया वाहनों के लिए दोनों प्रकार के मोटर बीमा प्रभावित हुए हैं। अब से, बाइक मालिकों के पास पांच साल के लिए और कार मालिकों के लिए तीन साल के लिए तृतीया पक्ष कवर होना चाहिए।

इस कानून को लागू करने के पीछे मुख्य कारण दुर्घटना पीड़ितों को मुआवजा प्रदान करना है। कई वाहन मालिक निश्चित अवधि के बाद तीसरे पक्ष के दायित्व वाले मोटर बीमा नवीनीकरण पर विचार नहीं करते हैं। ऐसे मामलों में, सड़क दुर्घटना पीड़ितों को बिना किसी मुआवजे के अलग छोड़ दिया जाता है।

यह सड़क पर दुर्घटना पीड़ितों को क्षतिपूर्ति प्रदान करने का एक तरीका होगा जो चोट से पीड़ित हैं या जिनकी मौत हो गई हो ।

पॉलिसीधारक या बीमाकर्ता को उसकी अवधि के दौरान तीसरे पक्ष के कवर को रद्द करने की अनुमति नहीं है। केवल दोहरे बीमा के मामलों में या जब वाहन उपयोग में नहीं है या बेचा गया है ,तब यह किया जा सकता है।

2. व्यक्तिगत दुर्घटना कवर

नियामक ने मालिक-चालक के लिए अनिवार्य व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा राशि को वर्तमान के 1 लाख रुपये (दो-पहिया) और 2 लाख रुपये (चार-पहिया) के कवर से 15 लाख रुपये तक बढ़ाने का निर्देश दिया है। इसके विपरीत, प्रीमियम को 50 रुपये (दो-पहिया) और 100 रुपये (चार-पहिया) से बढ़ाकर 750 रुपये तक कर दिया है।

विशेषतायें एवं फायदे

 a. स्थिर प्रीमियम

हर साल तृतीय पक्ष बीमा का प्रीमियम बढ़ रहा है। आमतौर पर,आई.आर.डी.ए.आई. हर साल 20% तक तृतीय-पक्ष प्रीमियम देयधन बढ़ाता है। हालाँकि, अगर कोई लंबी अवधि का मोटर बीमा खरीदता है, तो पॉलिसी के अनिवार्य तीन / पाँच साल के भीतर प्रीमियम नहीं बदल सकता है।

b. उच्च नो-क्लेम बोनस

नो-क्लेम बोनस (एन.सी.बी.) पॉलिसीधारकों को अगले वर्ष के लिए दी जाने वाली छूट है यदि वे पिछले वर्ष में कोई दावा नहीं करते हैं। लंबी अवधि की मोटर बीमा पॉलिसियों का लघुकालिक नीतियों पर यह फायदा है कि वे कम अवधि में एक उच्च एन.सी.बी. प्रदान करती हैं।

वर्तमान में, पॉलिसीधारक जिस वर्ष दावे दर्ज नहीं करता हैं, उसके आगामी वर्षों में 20%, 25%, 35%, 45% और 50% प्रीमियम प्राप्त कर सकते हैं ।

नया मसौदा इसे 20%, 30%, 40% और 50% के चार स्लैब में इसे कम करता है। इस प्रकार एक पॉलिसीधारक को वर्तमान परिदृश्य अनुसार, पांच वर्षों की तुलना में चार वर्षों के भीतर कोई दावा दाखिल न करने पर 50% एन.सी.बी. प्राप्त होगा ।

c. बेहतर छूट

पॉलिसीधारक लंबी अवधि के दोपहिया मोटर बीमा पर छूट और प्रोत्साहन प्राप्त कर सकते हैं। मोटर बीमा में, जबकि तृतीय-पक्ष देयता बीमा अनिवार्य है, स्वयं की क्षति बीमा वैकल्पिक होती है।

d. परेशानी रहित नवीनीकरण

वार्षिक आधार पर इन नीतियों को याद रखने की तुलना में हर तीन / पाँच वर्षों में नवीकरणीय करना अधिक सुविधाजनक है। यह अधिक वास्तविक है जब किसी के पास दो या अधिक वाहन होते हैं। यदि कोई पॉलिसी लैप्स हो जाती है, तो उसे नवीनीकरण करवाने के लिए कई प्रशासनिक घेरे से गुज़रना पड़ता है। और अगर कोई दुर्घटना मोटर बीमा नवीनीकरण की तारीख के बाद होती है, तो पॉलिसीधारक कोई दावा नहीं कर सकता है। बीमाकर्ता पॉलिसी को नवीनीकृत करने से पहले वाहन का निरीक्षण करने के लिए भी कह सकता है। इस तरह की जटिलताओं की संभावना बहुत कम होती है यदि नवीनीकरण कम हो।

e. लागत कारक

वाहन मालिक का खर्च निश्चित रूप से दीर्घकालिक तीसरे पक्ष की नीति के साथ बढ़ती जाती है। हालांकि, उन्हें एक अनिवार्य व्यक्तिगत दुर्घटना कवर भी मिलता है। मोटर बीमा कैलकुलेटर इस पर बेहतर स्पष्टता प्रदान करेगा। चूंकि, वार्षिक प्रीमियम का भुगतान करने के बजाय, प्रारंभिक वर्ष में पूरी मोटर बीमा राशि का भुगतान एकमुश्त के रूप में करना पड़ता है, इसलिए नए खरीदे गए वाहनों की 'ओन-रोड' कीमत में बढ़ोतरी की उम्मीद है।

आखिरी शब्द

भविष्य के दृष्टिकोण से, दीर्घकालिक मोटर बीमा कवर से बीमा दावों की गतिशीलता और लोगों की मानसिकता को बदलने की उम्मीद है। उम्मीद है, मालिक और चालाक इस बदलाव के पूरे उद्देश्य को समझेंगे और इसे अपनाएंगे। अपने मोटर बीमा का दावा करने से पहले इन 6 मोटर बीमा शर्तों पर गौर करें।

संबंधित लेख

 

Most Shared