डिस्काउंट ब्रोकिंग में रुचि रखते हैं? यहां सब कुछ दिया गया है जो आप को पता होने की जरूरत है

यदि आप लॉकडाउन के दौरान शेयर बाजार में अपने संसाधनों को डालकर अपनी पूरक आय कमाने कि इच्छा रखते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप डिस्काउंट ब्रोकरों के बारे में सब कुछ जानें।

डिस्काउंट ब्रोकिंग में रुचि रखते हैं यहां सब कुछ दिया गया है जो आप को पता होने की जरूरत है

महामारी के कारण ,ज्यादातर लोगों के लंबे समय तक घर पर रहने के साथ, दुनिया भर में लाखों लोग अपने खाली समय का अधिकतम उपयोग करके और शेयर बाजार में निवेश करके अपनी आय के पूरक स्त्रोत खोज रहे हैं । सस्ता मूल्यांकन और लगातार अस्थिरता ने दीर्घकालिक निवेशकों और दैनिक व्यापारियों को एक जैसे आकर्षित किया है । केवल भारत में, मार्च-अप्रैल 2020 के दौरान 1.2 मिलियन ट्रेडिंग खाते खोले गए थे!

इन नए ग्राहकों में से अधिकतर अपनी व्यापार की जरूरत के लिए डिस्काउंट ब्रोकरों पर निर्भर हैं । डिस्काउंट ब्रोकरों के लिए व्यवसाय तेजी से बढ़ रहा है ,इसके लिए उपयोगकर्ता के अनुकूल डिजिटल इंटरफेस का आभार - और अधिक महत्वपूर्ण बात, सस्ती लेनदेन शुल्क का आभार । यहां इन नए युग के स्टॉक ब्रोकिंग सेवाओं के बारे में सभी सही जानकारी दी गई है,आपको जो कुछ भी चाहिए।

डिस्काउंट ब्रोकिंग क्या है?

डिस्काउंट ब्रोकर पारंपरिक ब्रोकरों की तुलना में बहुत कम कमीशन पर ट्रेडिंग सेवाएं प्रदान करते हैं। भारत में अधिकांश डिस्काउंट ब्रोकर प्रति ट्रेड 10-20 रुपये का सीधा शुल्क लेते हैं, जबकि पूर्ण-सेवा प्रदान करने वाले ब्रोकर प्रत्येक लेनदेन के मूल्य पर 0.40% से 0.75% तक प्रतिशत शुल्क लेते हैं। यह सभी प्रकार के निवेशकों के लिए महत्वपूर्ण बचत कराता है ।

डिस्काउंट ब्रोकर बेहद कम मार्जिन पर काम करने में सक्षम हैं क्योंकि वे 'बिना तामझाम' की सेवा प्रदान करते हैं। वे विशुद्ध रूप से लेनदेन सेवा पर ध्यान केंद्रित करते हैं और आमतौर पर इनके पास उच्च भुगतान वाले अनुसंधान विश्लेषकों और संबंध प्रबंधकों की सलाहकार शाखा नहीं होती है। उन्होंने भौतिक शाखाओं और उप-दलाल आयोगों को भी हटा दिया है, जिससे बुनियादी ढांचे और जनशक्ति लागतों में बचत हुई है । नतीजतन, वे कम कमीशन शुल्क के माध्यम से अपने ग्राहकों को भी अपनी बचत का हिस्सा देने में सक्षम हैं।

डिस्काउंट ब्रोकर कैसे काम करते हैं?

डिस्काउंट ब्रोकर्स टेक्नोलॉजी से युक्त बिजनेस मॉडल पर काम करते हैं । वे उन्नत फिनटेक प्लेटफार्मों में निवेश करते हैं जो एक त्वरित और निर्बाध व्यापार का अनुभव प्रदान करते हैं। जबकि कुछ डिस्काउंट ब्रोकर वेब-और ऐप-आधारित, दोनों माध्यम से सेवाएं प्रदान करते हैं, अधिकांश चरण-दर-कदम, क्लिक-और-उपयोग करे ऐप्स के माध्यम से अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं जो एक तरह से व्यापार को खेल में बदल देता है।

मजबूत तकनीकी परिनियोजन और कम परिचालन लागत ,ब्रोकिंग फर्मों को लाभदायक बने रहने देता है।

डिस्काउंट ब्रोकर, पूर्ण सेवा देने वाले ब्रोकर से कैसे भिन्न होते हैं?

जबकि लागू कमिशन इनमें सबसे बड़ा अंतर होता है, पर कुछ अन्य सेवाएं भी हैं जो दोनों प्रकार के ब्रोकरेज सेवा प्रदाताओं के बीच भिन्न होते हैं।

सेवा गुलदस्ता: पूर्ण सेवा वाले ब्रोकरेज संगठन ,सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं। वे सलाहकार सेवाएं, अनुसंधान रिपोर्ट, पोर्टफोलियो प्रबंधन, धन प्रबंधन सेवाएं और यहां तक कि कर सलाहकार भी प्रदान करते हैं।

दूसरी ओर, डिस्काउंट ब्रोकर्स बस एक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करते हैं और ग्राहकों को खुद से पोर्टफोलियो संभालने देते हैं। हालांकि यह सेवा मुख्य रूप से स्वयं निर्देशित व्यापारियों और निवेशकों की ओर लक्षित है,पर जानकारीपूर्ण ब्लॉग पोस्ट और वीडियो ट्यूटोरियल नौसिखिए निवेशकों के लिए जल्दी से बुनियादी व्यापार की बारीकियों को सीखना आसान बनाते हैं।

बाजार अपडेट: पूर्ण सेवा देने वाले ब्रोकर नियमित रूप से निवेश के बारे में मेल और एसएमएस के माध्यम से अपडेट देते रहते हैं। आपके रिश्ते के आधार पर, वे एक संबंध प्रबंधक भी तैनात कर सकते हैं जो आपके निवेश की जरूरतों को समझता हो और आपको इसके लिए सलाह देता हो।

डिस्काउंट ब्रोकर्स, हालांकि, इन सहायक मार्केटिंग और सलाहकार सम्बंधित खर्चों को जोड़ने से परहेज करते हैं। सार्वजनिक डोमेन में मौजूद जानकारी का भण्डार, सक्रिय निवेशकों के लिए अपने पोर्टफोलियो सम्बंधित सूचित निर्णय लेने के लिए पर्याप्त है।

नेटवर्क और समर्थन: पूर्ण सेवा वाले ब्रोकरों के पास उन शहरों में शाखाओं की एक श्रृंखला है, जिनमें वे काम करते हैं। बिना शाखा वाले स्थानों पर, वे उप-दलालों को नियुक्त करते हैं जो ब्रांड की ओर से काम करते हैं। ये शाखाएं ऑफ़लाइन ट्रेडिंग के लिए भी उपलब्ध हैं, और व्यक्तिगत ग्राहक सहायता प्रदान करती हैं।

डिस्काउंट ब्रोकर पूरी तरह से ऑनलाइन मॉडल पर काम करते हैं। आपका डॉक्यूमेंटेशन और केवाईसी सत्यापन एक ऐप के जरिए होता है। उनकी ग्राहक सहायता टीमें बेहद कम होती हैं, जिनमे एआई और मशीन लर्निंग एकीकृत चैटबॉट, 24x7 ग्राहक सहायता प्रदान करते हैं।

इन दोनों में से कौन अधिक उपयुक्त है?

एक डिस्काउंट ब्रोकर और एक पूर्ण सेवा देने वाले ब्रोकर के बीच विकल्प चुनना मुख्य रूप से दो कारकों पर निर्भर करता है: (क) आपका ज्ञान और वित्तीय बाजारों की समझ, और (ख) व्यक्तिगत सेवा का स्तर जितनी आपको आवश्यकता होगी

यदि आप एक अनुभवी निवेशक हैं या आपको अपेक्षित बाजार का ज्ञान अधिक है, तो आपको महंगी सेवाओं का अधिक उपयोग नहीं होगा जो एक पारंपरिक ब्रोकर लेता है। ऐसे परिदृश्य में, डिस्काउंट ब्रोकर का चयन करना लाभप्रदता को बढ़ावा दे सकता है। दूसरी ओर, यदि आप इक्विटी निवेश में नए हैं, तो पेशेवर सलाह का सहारा लेने से निवेश की गलतियों को कम करने में मदद मिल सकती है। आप विशेषज्ञ की राय का लाभ उठा सकते हैं और अपने पोर्टफोलियो को सुरक्षित बना सकते हैं।

सेवा गुणवत्ता का स्तर ,एक अन्य कारक है। अगर आपको लगता है कि आप हर समय अपने निवेश पर नज़र नहीं रख पाएंगे, तो एक पूर्ण सेवा देने वाले ब्रोकर को चुनना सही होगा। वे ब्रांच सर्विसिंग, आपके घर पर सेवा प्रदान करना, फंड ट्रांसफर और खरीद/बेचने में सहायता करना , ---- ट्रैकिंग, नियमित सलाह देना, साथ ही आपको एक समर्पित संबंध प्रबंधक सौंपने जैसी सहायता और सेवाएं प्रदान करने में सक्षम होंगे ।

इसलिए, दोनों में से किसी एक को चुनने से पहले, आपको अपने निवेश पैटर्न और सेवा आवश्यकताओं के आधार पर लागत-लाभ के बीच विश्लेषण करने की आवश्यकता होगी।

डिस्काउंट ब्रोकर का चयन करते समय आपको क्या ध्यान में रखना चाहिए?

डिस्काउंट ब्रोकर की तलाश करने वालों को इन तीन मापदंडों के आधार पर अपने विकल्पों का आकलन करने की आवश्यकता है:

  • ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म: यूजर इंटरफेस का उपयोग करना आसान , तेज और परेशानी-मुक्त होना चाहिए। शेयर की कीमतें मिनटों में बदल जाती हैं, इसलिए एक मामूली अंतराल भी निवेशकों को भारी पड़ सकता है । खाता खोलने से पहले, अपनी सुविधा के स्तर की जांच करने के लिए एक सॉफ्टवेयर डेमो के लिए अनुरोध करें।
  • ब्रांड विश्वसनीयता: यह सुनिश्चित करें कि ब्रोकर सेबी और एनएसई और बीएसई जैसे स्टॉक एक्सचेंजों के साथ पंजीकृत हो। उनके पास बहु-स्तरीय सत्यापन प्रणाली और मजबूत जोखिम प्रबंधन प्रक्रियाएं होने की आवश्यकता है। एक ऐसे ब्रोकर की तलाश करें जो कम से कम कुछ वर्षों से सक्रिय रहा है और बड़ी मात्रा में ट्रेडों को निष्पादित करता है|
  • ग्राहक सहायता: डिस्काउंट ब्रोकर चुनते समय ,ग्राहक सहायता सेवा एक महत्वपूर्ण कारक होता है। आपको अपनी व्यापारिक यात्रा के दौरान विभिन्न बिंदुओं पर सहायता की आवश्यकता हो सकती है। समय पर और जानकार ग्राहक सहायता सेवा से मुद्दों को प्रभावी ढंग से हल करने और निरंतर संरक्षण के लिए एक सकारात्मक वातावरण बनाने में मदद कर सकती है।

डिस्काउंट ब्रोकर लोकप्रिय हैं, खासकर नए निवेशकों के बीच। विभिन्न ऑनलाइन मंचों पर कई ग्राहक रिव्यु और प्रतिक्रियाएँ उपलब्ध हैं। इन उपयोगकर्ता के अनुभवों से आपको एक सूचित निर्णय लेने में मददमिलती है कि किस प्रकार के ब्रोकर को अपनी निवेश यात्रा शुरू करते समय आपको चुनना चाहिए ।

संबंधित लेख